• Hindi News
  • Rajasthan
  • Shriganganagar
  • Sriganganagar News rajasthan news the college did not have english subjects read from the internet prepared notes ba then ma now also in the net nearby manisha
--Advertisement--

कॉलेज में नहीं था अंग्रेजी विषय, इंटरनेट से पढ़ी, नोट्स तैयार कर बीए, फिर एमए...अब नेट में भी पास मनीषा

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 06:57 AM IST

Shriganganagar News - तकनीकी युग में जहां इंटरनेट, वाट्सएप आदि का खूब दुरुपयोग हो रहा है लेकिन खास बात ये है कि इसी इंटरनेट का सदुपयोग कर...

Sriganganagar News - rajasthan news the college did not have english subjects read from the internet prepared notes ba then ma now also in the net nearby manisha
तकनीकी युग में जहां इंटरनेट, वाट्सएप आदि का खूब दुरुपयोग हो रहा है लेकिन खास बात ये है कि इसी इंटरनेट का सदुपयोग कर एक छोटे से गांव के एक किसान की बेटी ने न केवल एमए की पढ़ाई क्लीयर की बल्कि राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा भी घर बैठे-बैठे ऑनलाइन ही पूरी कर ली।

खास बात ये है कि तैयारी भी घर बैठकर इंटरनेट के सहयोग से ही की। परीक्षा भी घर से ऑनलाइन दी। बड़ी बात ये है कि 12वीं बोर्ड में श्रीगंगानगर जिले में 8वें स्थान पर रहने से सरकारी योजना के तहत मिले लेपटॉप के जरिए छात्रा ने यह सफलता पाई। हनुमानगढ़ जिले के आखिरी गांव 26पीबीएन के मोहनलाल सिंहमार की बेटी मनीषा ने घर बैठे ऑनलाइन तैयारी कर अंग्रेजी साहित्य में राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा दिसंबर 2018 उतीर्ण की है। 5 जनवरी को जब रिजल्ट आया तो परिवार के लोगों ने इस बेटी पर नाज किया। अपने पिता मोहनलाल सिंहमार से प्रेरणा लेकर घर में ही 24 घंटे में से 16 से 18 घंटे कंप्यूटर के सर्च इंजन को टटोलते हुए अपने नोट्स तैयार किए। कभी किसी वाट्सग्रुप से सहायता ली। ऐसे में पहले स्नात्तकोत्तर और फिर राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा पास कर एक अलग मुकाम हासिल किया। अब समाज ही नहीं बल्कि पूरा गांव इस बेटी पर नाज करता है। खास बात यह कि सरकारी लैपटॉप का इस्तेमाल छात्रा ने जिस तरह से किया है इससे सरकार की लैपटॉप योजना भी सार्थक हुई है।

जिला अस्पताल में 3-4 रोगी हर सप्ताह स्मार्टफोन व नेट की लत के आते हैं, अधिकतर विद्यार्थी...इन्हीं के बीच एक बेटी ये भी है, जिसने स्मार्टफोन व इंटरनेट का उपयोग सफलता पाने के लिए किया, संदेश-नेट के आदी मत बनो, सदुपयोग करो

मनीषा ने भास्कर में लिखी खुद की सफलता की कहानी...ताकि बाकी युवा भी सीखें

मैं जब बीए में थी, रेगुलेर पढ़ाई कर रही थी लेकिन पालीवाला के गुरुकुल कॉलेज में इंग्लिश सब्जेक्ट नहीं था। ऐसे में मैंने कंप्यूटर पर माथा मारा। वहां मुझे इंग्लिश के नोट मिले। फिर मेरी लगन इसी में लग गई। हालांकि मुझे सभी कहते थे इंग्लिश विषय के लिए तो कोचिंग करनी पड़ेगी। बिना मार्गदर्शन के इंग्लिश में रह जाएगी पर मैंने इंटरनेट से ही पढ़ाई पूरी की। 2016 में मेरी बीए कंपलीट हो गई। इसके बाद घर के हालात ऐसे नहीं थे कि मैं रेगुलेर पढ़ूं इसलिए मैंने महाराजा गंगासिंह से एमए इंग्लिश का फॉर्म भरा। इसके लिए भी न तो मैं लाइब्रेरी गई। ना कोई वन वीक लाई बल्कि गूगल पर ही सर्च कर मैंने अपना सिलैबस देखा। उसी आधार पर मैंने वाट्सएप से कई प्रश्न-पत्र मंगवाए यानी सारी तैयारी ऑनलाइन की। मुझे जो लैपटॉप मिला उसका भी सदुपयोग किया। इसके बाद यह परीक्षा भी मैंने ऑनलाइन तैयारी से पास की। वहीं इस राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा भी ऑनलाइन ही थी तो मैंने उसकी तैयारी भी घर बैठकर की। अंग्रेजी साहित्य की बुक्स उपलब्ध नहीं हुई तो गूगल का सहारा लिया। हालांकि संगरिया के विनित कुमार जो दिल्ली रहते हैं। उन्होंने मुझे दिल्ली से वाट्सएप ग्रुप से जोड़ा। मैंने नोट्स आदि वहीं से प्राप्त किए। फिर भी मैंने पूरी तैयारी इंटरनेट, यूट्यूब आदि में देखकर समझ कर की। मेरे गांव में मैं पहली ऐसी छात्रा हूं जिसने नेट क्लीयर किया है। मेरा मानना है कि इंटरनेट वाट्सएप का सही यूज हो तो आसानी से सफलता पाई जा सकती है। इंटरनेट पर विषय संबंधी सर्च किया

सिलेबस और प्रश्न-पत्र की टाइमिंग आदि की जानकारी ली

यूट्यूब पर देखा परीक्षा तैयारी का पैटर्न

नेट परीक्षा के वाट्सएप ग्रुप से मॉडल प्रश्न-पत्र जुटाए

मनोरोग विशेषज्ञ: इंटरनेट एडिक्शन के रोगी बढ़े रहे हैं, नेट का सही तरीके से इस्तेमाल तो फायदेमंद

मनोरोग विशेषज्ञ ओपी सोलंकी ने बताया कि छात्रा ने इंटरनेट मिसयूज नहीं करके यूज किया जो अपने आप में सराहनीय है। अस्पताल में इन दिनों हफ्ते में 3-4 रोगी इंटरनेट की समस्या से परेशान होकर आते हैं जो इंटरनेट के एडिक्ट हो चुके हैं। युवा पीढ़ी तो इसमें शामिल है ही साथ ही 9वीं,10वीं और 11 के बच्चे भी अधिकतर इसका यूज करते हैं और कोई सार्थक परिणाम नहीं मिलने पर एक तरह के फोबिया के शिकार हो जाते हैं। उनकी सोच डवलप नहीं हो पाती। यही नहीं उनकी सृजनात्मकता खत्म हो जाती है।

Sriganganagar News - rajasthan news the college did not have english subjects read from the internet prepared notes ba then ma now also in the net nearby manisha
X
Sriganganagar News - rajasthan news the college did not have english subjects read from the internet prepared notes ba then ma now also in the net nearby manisha
Sriganganagar News - rajasthan news the college did not have english subjects read from the internet prepared notes ba then ma now also in the net nearby manisha
Astrology

Recommended

Click to listen..