अपनी प्रवृत्तियों को जुनून व करुणा में बदलें

Shriganganagar News - आप स्वयं यह तय करें कि आपके रक्त में होश बह रहा है या पागलपन? पागल व्यक्ति जिं़दा होने के बाद भी मरे जैसा है। चाहे वह...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 09:10 AM IST
Khat News - rajasthan news turn your trends into passion and compassion
आप स्वयं यह तय करें कि आपके रक्त में होश बह रहा है या पागलपन? पागल व्यक्ति जिं़दा होने के बाद भी मरे जैसा है। चाहे वह कितना भी प्रिय व्यक्ति हो, एक सीमा के बाद हर मुर्दे से लोग परहेज करते हैं। निष्प्राण देह समय पर विदाई मांगती है। हम बात कर रहे हैं पागलपन की। हर मनुष्य के भीतर थोड़ा-बहुत पागलपन बसा ही है। जो समझदार दिखते हैं, उन्होंने अपने पागलपन को कहीं रोक लिया है और जो घोषित पागल हैं उनका प्रकट हो गया है। लेकिन, यदि आप भीतर के पागलपन को व्यवस्थित कर लें तो वह आपको दो खूबियां देकर जाएगा। पहली खूबी होगी जुनून, जिसके साथ आप दुनिया का कोई भी काम कर सकेंगे। पागलपन व्यवस्थित होकर जुनून में बदल जाए तो लक्ष्य प्राप्त करने में सुविधा होगी। दूसरी खूबी आपके भीतर उतरेगी करुणा के रूप में। करुणामय होने के लिए एक पागलपन चाहिए। यह करुणा दूसरों के लिए होगी, चेतन और जड़ सबके लिए रहेगी। जैसे ही भीतर का पागलपन करुणा में बदला, आप सबके लिए मित्रतापूर्ण, मिलनसार और मस्त हो जाएंगे। आपकी भावनाएं जुनून और करुणा के साथ सरल हो जाएंगी, आपकी चेतना में एक सहज बहाव आ जाएगा। किसी के साथ खड़े होंगे तो व्यक्तित्व से एक गूंज निकलेगी, दूर से देखने वाले लोग आपको एक नदी की तरह पाएंगे, जिसमें सहज बहाव है। तो चलिए, अपने पागलपन को ढूंढ़ें, उसे व्यवस्थित करें और जुनून व करुणा में बदल दें। जिं़दगी का आनंद इसी में है..।

 

पं. िवजयशंकर मेहता

humarehanuman@gmail.com

X
Khat News - rajasthan news turn your trends into passion and compassion
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना