धान मंडियों से हाथोहाथ उठाव होता रहा तो गेहूं खरीद में नहीं होगी अव्यवस्था : कलेक्टर

Shriganganagar News - भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर कलेक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने कहा कि खरीद के समय नियमित रूप से गेहूं का उठाव...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 06:27 AM IST
Sriganganagar News - rajasthan news wheat procurement would not be in the purchase if there was a haphazard rise in paddy stalls collector
भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर

कलेक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने कहा कि खरीद के समय नियमित रूप से गेहूं का उठाव होने से खरीद प्रक्रिया भली प्रकार से चलती रहेगी तथा अनाज मंडियों में व्यवस्था अच्छी होगी। खरीद की गई गेहूं का मंडी में स्टॉक नहीं रहना चाहिए। कलेक्टर बुधवार को कलेक्ट्रेट सभाहॉल में गेहूं खरीद से संबंधित बैठक में निर्देश दे रहे थे। बैठक में अधिकारियों, व्यापारियों ने बताया कि गेहूं का नियमित उठाव नहीं होने से समस्या पैदा होती है। कलेक्टर ने निर्देश दिए कि प्रतिदिन क्रय की गई गेहूं का उठाव होना चाहिए। इसके लिए 60 प्रतिशत ट्राली तथा 40 प्रतिशत ट्रकों से गेहूं उठाने पर चर्चा हुई। मदन नकाते ने कहा कि गेहूं खरीद के प्रथम दिन से ही ट्रालियों के साथ-साथ आवश्यकतानुसार ट्रक लगाए जाएं तो किसानों को परेशानी नहीं होगी तथा उन्हें भुगतान भी जल्द मिलेगा। बैठक में चर्चा हुई कि प्रतिदिन लगभग 60 हजार कट्टे गेहूं के मंडी में आएंगे। केवल ट्रॉलियों से 60 हजार कट्टों का उठाव करना मुश्किल है। ऐसे में शुरू से ट्रक भी लगाए जाएं, जिससे व्यवस्थाएं बेहतर बनी रहे।

जिले में लगभग 1.20 करोड़ कट्टों की आवश्यकता, वर्तमान में 75 लाख कट्टे उपलब्ध

कलेक्टर ने एफसीआई को निर्देश दिया कि बारदाने की कमी नहीं रहनी चाहिए। जिले में लगभग 1.20 करोड़ कट्टों की आवश्यकता रहेगी। वर्तमान में 75 लाख कट्टे उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि प्राप्त बारदाने को समान रूप से वितरित किया जाए। अधिकारी यह तय कर लें कि गेहूं खरीद शुरू होने से पूर्व आवश्यकता के अनुरूप बारदाना जिले में पहुंच जाए। किसान की गेहूं खरीदने के बाद एजेंसियां भुगतान में देरी न करें। किसानों के बैंक खाते इत्यादि सावधानीपूर्वक भरे जाएं, जिससे किसी तरह की असुविधा न हो। बैठक में गेहूं तुलने के बाद बैग खिंचाई की राशि पर चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि खरीद की व्यवस्था भली प्रकार से चले, इसके लिए एसडीएम एवं तहसीलदार भी नियमित रूप से मंडियों में व्यवस्था देखेंगे तथा कलेक्टर स्वयं खरीद व्यवस्था पर नजर रखेंगे।

16 लाख कट्‌टे की क्षमता के चार गोदाम खाली

कलेक्टर ने कहा कि गेहूं खरीद के पश्चात भारतीय खाद्य निगम द्वारा जो गोदाम लिए गए हैं, खुले में रखने के बजाय हाथो हाथ उनमें गेहूं लगाया जाए। एफसीआई से संबद्ध चार गोदाम खाली हैं, जिनकी क्षमता लगभग 16 लाख कट्टे रखने की है। मदन नकाते ने खरीद एजेंसियों को निर्देश दिए कि तुलाई में ऑनलाइन प्रक्रिया के दौरान ट्रालियां खड़ी न रहे, इसके लिए पर्याप्त व्यवस्था की जाए। ट्रालियों की लाइनें नहीं लगनी चाहिए। सर्वर डाउन होने की स्थिति में यह कार्य ऑफलाइन भी किया जा सकता है।

ये रहे मौजूद: बैठक में एडीएम सतर्कता गोपालराम बिरदा, सीईओ अजीत सिंह, एसडीएम सौरभ स्वामी, किसान प्रतिनिधि पृथीपाल सिंह संधु, एफसीआई के प्रबंधक, केंद्रीय सहकारी बैंक के प्रबंधक निदेशक दीपक कुक्कड़, तिलम संघ के महाप्रबंधक एमके पुरोहित, जिला परिवहन अधिकारी सुमन सहित विभिन्न खरीद एजेंसियों के अधिकारी, मंडियों के सचिव, व्यापार मंडल के पदाधिकारी , मजदूर एवं ट्रैक्टर ट्राॅली संगठनों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

X
Sriganganagar News - rajasthan news wheat procurement would not be in the purchase if there was a haphazard rise in paddy stalls collector
COMMENT