राजस्थान / 3 साल पहले इकलौते भाई की सड़क दुर्घटना में हो गई थी मौत, दोस्तों ने 5 लाख रुपए जुटा कराई शादी



3 years ago the only brother died in a road accident
X
3 years ago the only brother died in a road accident

  • भाई के दोस्तों ने बहन को गिफ्ट में मंगलसूत्र, कानों की बाली व पायजेब भी दी

Dainik Bhaskar

Feb 11, 2019, 06:22 PM IST

ओमप्रकाश शर्मा. सीकर. खूड़ में रविवार को हुई एक शादी की बेहद चर्चा थी। शादी सुशीला की थी, जिसके इकलौते भाई की तीन साल पहले सड़क हादसे में मौत हो गई थी। चर्चा की वजह खुद दुल्हन सुशीला से सुनिए। कहती है-भगवान ने इकलौता भाई छीन लिया था। भाई का प्यार था। जिसने मेरी शादी के लिए उसके दोस्तों को भाई की शक्ल में भेजा।

 

परिजनों को काफी चिंता हो रही थी, लेकिन इन भाइयों ने पांच लाख रुपए की मदद देकर सभी खुशियां मेरी झोली में डाल दी। भाई के दोस्तों ने बहन को गिफ्ट में मंगलसूत्र, कानों की बाली व पायजेब भी दी। सुशीला अभी एमए प्रीवियस की पढ़ाई कर रही हैं।


इस कहानी की शुरुआत तीन साल पहले हुई। सुशीला का भाई महेंद्र भीचर पुत्र मालीराम भीचर जयपुर के महाराणा प्रताप छात्रावास में रहकर पढ़ाई कर रहा था। महेंद्र बेहद सामान्य परिवार से था। हॉस्टल में रहने सभी छात्र एक-दूसरे के परिवार को लेकर अकसर चर्चा करते थे। तीन साल पहले जयपुर में ही एक सड़क हादसे में महेंद्र की मौत हो गई। लेकिन, दाेस्तों ने दोस्ती नहीं छोड़ी। महेंद्र के करीबी दोस्त अक्सर रक्षाबंधन पर उसके घर जाते और बहन सुशीला से राखी भी बंधवाते थे।

 

इस साल सुशीला की सगाई हुई तो दोस्तों ने हॉस्टल में मीटिंग करके तय किया कि बहन सुशीला की शादी में वे पूरी मदद करेंगे और भाई का पूरा फर्ज निभाएंगे। वाट्सएप के जरिए पूरे हॉस्टल में मैसेज करके मदद जुटानी शुरू की। मुहिम आगे बढ़ती गई और करीब पांच लाख रुपए एकत्रित हो गए। दोस्तों ने सुशीला को 3.50 लाख रुपए का चेक, 1.20 लाख के गहने और 30 हजार रुपए कन्यादान में दिए। महेंद्र के पिता मालीराम लोसल के निजी अस्पताल में पर्ची काटने का काम करते हैं। वे कहते हैं-महेंद्र घर का इकलौता चिराग था, जो सड़क हादसे में चला गया। बेटी की शादी के लिए रुपए जुटाना मुश्किल हो रहा था, लेकिन उसके दोस्तों ने 5 लाख रुपए देकर महेंद्र की कमी दूर कर मिसाल पेश की है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना