सीकर

--Advertisement--

बुजुर्गों को घर तक मिलेगी बैंक सुविधा, किसानों को खाते में मिलेगा अनुदान

हमारे कामकाज कितने आसान होंगे और इस नई व्यवस्था से हमें क्या फायदा होगा, पढ़िए इस नॉलेज गाइड में...

Danik Bhaskar

Jan 01, 2018, 07:22 AM IST

सीकर. आज नए साल के पहले दिन से बहुत कुछ बदल गया है। व्यापारी से लेकर किसान तक को नए सिस्टम से जुड़कर काम करना होगा। दैनिक भास्कर बता रहा है बैंक, कृषि विभाग और रेलवे द्वारा लागू की गई नई व्यवस्थाओं का सीकर के लोगों को क्या असर होगा। हमारे कामकाज कितने आसान होंगे और इस नई व्यवस्था से हमें क्या फायदा होगा, पढ़िए इस नॉलेज गाइड में...

1. दिव्यांग-बुजुर्ग : सवा 3 लाख को फायदा

1 जनवरी बैंक अपने ग्राहकों को खास सुविधा देने जा रहे हैं। आरबीआई की गाइड लाइन के मुताबिक 70 साल से अधिक उम्र के लोगों व दिव्यांग को घर पर बैंकिंग सुविधा मुहैया करवाई जाएगी।

म पर असर: सीकर जिले के करीब सवा तीन लाख बुजुर्ग और दिव्यांग लोगों को पैसा निकासी और चेक बुक के लिए बैंकों के चक्कर नहीं लगाने होंगे। आरबीआई के मुताबिक इन्हें बैंकिंग सुविधाएं घर पर मुहैया करवाई जाएगी। बुजुर्गों को नगद पैसा निकासी, डीडी और लाइफ सर्टिफिकेट के लिए बैंक नहीं जाना होगा। हालांकि पहले चरण में यह व्यवस्था चुनिंदा शाखाओं में शुरू की जा रही है। बाद में इसे बढ़ाया जाएगा।

2. चेक : आज से एसबीबीजे नहीं एसबीआई के ही चेक मान्य होंगे
एबीआई में मर्ज होने वाले एसबीबीजे खाताधारक अब एसबीबीजे के चेक का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। इन्हें एसबीआई के चेक ही काम लेने होंगे।


हम पर असर: एसबीबीजे की 29 शाखाओं से जुड़े 15 लाख खाते एसबीआई में शिफ्ट हो गए। करीब 9 लाख खाताधारकों ने चेक बुक इश्यू करवा रखी थी। विलय होने के दौरान खाताधारकों को पुराने चेक काम लेने के लिए 31 दिसंबर 2017 तक की छूट दी गई थी।

3. रेलवेकर्मी : पे स्लिप सिस्टम खत्म होगा, मोबाइल पर होगा ऑनलाइन
रेलवे कर्मियों को कागज पे स्लिप ओर कागज पास खत्म होगा। इसे ऑन लाइन किया जा रहा है। इसके साथ ही बायोमेट्रिक अटेंडेंस शुरू की जा रही है।


हम पर असर: सीकर सेक्शन में रेलवे के करीब 500 कर्मचारी है। इन्हें सेलेरी जयपुर से जारी होती है। अब पे-स्लिप और पास कागज की बजाय ऑन लाइन मोबाइल पर काम लेना होगा। ऐसे में कर्मचारियों का समय और रेलवे को कागज की बचत होगी।

4. किसान : 1.75 लाख को फायदा
1 जनवरी से पूरे देश में किसानों को उर्वरक सब्सिडी सीधे उनके बैंक खाते में मिलेगी। इससे सब्सिडी का दुरुपयोग रोकने में मदद मिलेगी।


हम पर असर : जिले में तीन लाख किसान है। इनमें से करीब 1.75 लाख किसान क्रय विक्रय सहकारी समितियों व कृषि विभाग के जरिए खाद-बीज, कृषि सयंत्र सहित अन्य कामों पर सरकार से अनुदान लेते हैं। डीबीटी योजना के तहत अब अनुदान का पैसा किसान के बैंक खाते में सीधे जमा होगा।

5. जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र : डिजिटल हस्ताक्षर से जारी होंगे
सोमवार को जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र डिजिटल हस्ताक्षरों से जारी होंगे। प्रमुख शासन सचिव ने जिले की जन्म-मृत्यु एवं विवाह प्रमाण जारी करने वाली इकाइयों को इस संबंध में आदेश दिए हैं।


हम पर असर: सीकर की 27 लाख की आबादी है। जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र की डिजिटल कॉपी मिलेगी। प्रक्रिया में अनावश्यक समय नहीं लगेगा। जिले में रोज 300 जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र जारी किए जाते हैं।

Click to listen..