सीकर

--Advertisement--

ट्रैक बना ट्रेन की तरह 30 फीट दूर खिसका दिया मकान, दरार तक नहीं आई

लाडनूं में भंवरलाल ने 5 साल पहले बनवाया दुमंजिला मकान, एनएच के फोरलेन कार्य के बीच में आने पर जैक से ट्रैक बना ट्रेन की

Dainik Bhaskar

Jan 29, 2018, 04:06 AM IST
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar

लाडनूं/सीकर. हाइवे की सीमा में आने पर एक मकान को नई पद्धति से हटाकर 30 फुट पीछे तक नई नींवों पर खिसकाया गया। मकान को उठाकर दूसरे स्थान पर रखने का यह राजस्थान के नागौर जिले का पहला मामला कहा जा सकता है। लाडनूं में एनएच 65 के फोरलेन कार्य में बीच में आ रहे एक 1250 स्कवायर फुट क्षेत्रफल में बने दो मंजिला घर को ट्रैक के जरिए 30 फुट खिसकाते हुए दूसरी जगह शिफ्ट किया गया है। मकान को दो फुट का उछाला देकर ऊंचा भी कर दिया गया है। इस मकान को शिफ्टिंग करने में एक माह का समय लगा।


- दरअसल, यहां रेलवे फाटक से डीडवाना तिराहे के बीच से गुजर रही राष्ट्रीय राजमार्ग सं. 65 की सड़क के चौड़ाईकरण कार्य के दौरान इसे फोरलेन में बदलने के लिए सड़क के दोनों तरफ बने मकानों और दुकानों को वहां से हटाने के लिए चिह्नित किया गया था और वहां लोगों ने अपने मकान-दुकान तुड़वाने शुरू भी कर दिए।

- उधर, भंवरलाल थोरी ने मकानों को लिफ्टिंग और शिफ्टिंग करने वाली कंपनी का पता लगा।

- उनसे संपर्क किया तो मकान तोड़ कर दुबारा बनवाने के बजाए उसे शिफ्ट करवाना कम खर्चीला और अनावश्यक क्षति नहीं करने वाला लगा और उस कंपनी को ठेका देकर इस काम को अंजाम भी दे दिया।

2 इंजीनियर और 8 मजदूर जुटे
- इस मकान को पीछे की तरफ शिफ्ट करने के लिए 2 इंजीनियर और 8 मजदूरों ने काम किया।

- उन्होंने पहले मकान के चारों तरफ 2-2 फुट तक खुदाई की और फिर मकान के नीचे हाइड्रोलिक जैक लगाए। जहां शिफ्टिंग की जानी थी, वहां वापस नई नींवें (फाउंडेशन) तैयार की और मकान को जैक के सहारे ऊंचा उठा कर उसे लोहे के गार्डर से ट्रैक बनाकर उन पर मकान को खिसकाते हुए शिफ्टिंग-ट्रैक पर चलाते हुए नये फाउंडेशन पर शिफ्ट कर दिया।

- मकान को लिफ्टिंग या शिफ्टिंग करने वाली इस कंपनी के एमडी वरुण कुमार ने बताया कि मकान शिफ्टिंग का कार्य उनकी फर्म शत प्रतिशत गारंटी के साथ करती है और अगर शिफ्टिंग के दौरान मकान में कोई नुकसान होता हैं तो उसका सारा हर्जाना भी कंपनी वहन करती है।

समय और धन की बचत, परेशानी भी दूर
- शिफ्ट और लिफ्ट किया मकान दो मंजिला है। नीचे के तल पर तीन दुकानें व एक बड़ा कक्ष बना है। ऊपरी तल पर 4 कक्ष और एक रसोईघर है।

- ट्रैक पर ट्रेन की तरह घर चलते देख लोग आश्चर्यचकित रह गए। इस तकनीक से धन की बचत हुई है।

- भंवरलाल ने बताया कि मकान को तोड़कर दुबारा बनवाते तो एक साल लगता, इस तकनीक से एक महीने में मकान शिफ्ट हो जाएगा। करीब 15 लाख का काम 6 लाख में हो जाएगा।

building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
X
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
building shifted thirty feet away by jack and track in Ladnu near sikar
Click to listen..