Hindi News »Rajasthan »Sikar» CBSE Wants Teacher To Check Ten Million Copies

सीबीएसई को 1.10 करोड़ कॉपी जांचने के लिए चाहिए टीचर

स्कूलों से 5 जनवरी तक मांगे शिक्षकों के नाम

Bhaskar News | Last Modified - Dec 27, 2017, 04:48 AM IST

  • सीबीएसई को 1.10 करोड़ कॉपी जांचने के लिए चाहिए टीचर
    +1और स्लाइड देखें

    सीकर. सीबीएसई को 10वीं व 12वीं की परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिका के सही मूल्यांकन के लिए कुशल शिक्षकों की जरूरत है। सीबीएसई से संबंद्ध स्कूलों को बोर्ड के पास टीचर्स के नाम 5 जनवरी तक भेजने हैं। बोर्ड की कोशिश है कि परीक्षाओं के सफल आयोजन के साथ ही समय पर नतीजे भी जारी कर दिए जाएं। गौरतलब है कि बोर्ड ने पुनर्मूल्यांकन बंद कर दिया है।

    सीबीएसई का कहना है कि उत्तर पुस्तिकाओं का गुणात्मक और त्रुटि मुक्त मूल्यांकन सुनिश्चित करने के लिए अनुभवी और प्रशिक्षित शिक्षकों का होना जरूरी है। स्कूलों को संबद्धता नियम 13 उपखंड 4 का हवाला देते हुए बोर्ड ने हर विषय के लिए कम से कम एक परीक्षक देने की बात कही है। स्कूल ऐसा करने में विफल रहते हैं तो सीबीएसई को स्कूल के खिलाफ उचित कार्रवाई करने का अधिकार होगा।


    इसलिए पड़ी जरूरत

    12वीं में लगभग 10 लाख से अधिक अौर 10वीं में 12 लाख से अधिक स्टूडेंट्स शामिल होते हैं। प्रति छात्र पांच विषयों की कॉपी एक टीचर को जांचना होती है। इस तरह लगभग 1.10 करोड़ कॉपी एकत्रित होती हैं, जिन्हें जांचने के लिए बड़ी तादाद में टीचर्स की जरूरत पड़ती है।


    पोर्टल पर पंजीयन

    टीचर्स एग्जामिनेशन पोर्टल पर टीचर्स का पंजीकरण कराएं। सीबीएसई जिन शिक्षकों को मूल्यांकन के लिए चुनेगा, उन्हें स्कूल के कोई अन्य कार्य न सौंपे, ताकि वे मूल्यांकन पर फोकस करें।

  • सीबीएसई को 1.10 करोड़ कॉपी जांचने के लिए चाहिए टीचर
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Sikar News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: CBSE Wants Teacher To Check Ten Million Copies
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Sikar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×