--Advertisement--

वसुंधरा राजे अफसरों ने बोलीं- फेविकोल की तरह कुर्सी से चिपककर क्यों बैठे हो?

मुख्यमंत्री ने फतेहपुर में उप परिवहन कार्यालय खोलने की घोषणा की, राव राजा कल्याणसिंह के नाम पर होगा सीकर का गर्ल्स कॉलेज

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 06:33 AM IST

सीकर/फतेहपुर. मुख्यमंत्री वसुंधराराजे शनिवार को चार साल के कार्यकाल में पहली बार फतेहपुर पहुंचीं। उन्होंने बिंदल कुलदेवी सेवा संस्थान में जनसंवाद के दौरान कई घोषणाएं कर हर वर्ग को खुश करने की भी कोशिश की। जनसुनवाई में फतेहपुर में उप परिवहन कार्यालय खोलने की घोषणा की गई। लोगों की मांग पर मुख्यमंत्री ने परिवहन मंत्री युनूस खान से फोन पर बात की और तुरंत ही उप परिवहन कार्यालय खोलने के आदेश दिए।

आरटीओ को कहा कि जब तक भवन नहीं बने, तब तक किराए के भवन में चलाया जाए। राजपूत समाज ने सीकर के गर्ल्स कॉलेज का नाम भी राव राजा कल्याण सिंह के नाम पर करने की मांग उठाई। लोगों ने कहा कि प्रशासन कॉलेज के नाम में राजनीति कर रहा है। मुख्यमंत्री ने प्रशासन को फटकार लगाई। उन्होंने राजकीय गर्ल्स कॉलेज का नाम श्री कल्याणसिंह कन्या कॉलेज करने के आदेश दिए। जाट समाज के लोगों ने रामगढ़ शेखावाटी में हिरणों के अभयारण्य का नामकरण कुंभाराम आर्य के नाम से किए जाने की मांग रखी।

मुख्यमंत्री ने डीएफओ राजेंद्र हुड्डा को वन विभाग सचिव को प्रस्ताव भेजने को कहा। हुड्डा ने कहा कि भेज दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा अभी भेजिए, इस पर हुड्डा फिर बोले भेज देंगे। मुख्यमंत्री नाराज होते हुए बोलीं कि अभी का मतलब अभी, आप बाहरे जाइए। इससे पहले सीएम ने अन्नपूर्णा रसोई वैन का उद्घाटन किया।

अफसरों से हुईं नाराज : एसई-सीईओ को फटकारा, पीडब्ल्यूडी अधिकारियों से कहा-फेविकोल की तरह कुर्सी से चिपककर क्यों बैठे हो?

जाट समाज के लोगों ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय विद्युत कनेक्शन योजना में ढाणियों में कनेक्शन नहीं दिए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने अजमेर डिस्कॉम के एमडी बीएस भामू को तुरंत ढाणियों में कनेक्शन देने को कहा। सीएम ने एसई को बुलाकर पूछा तो उन्होंने कहा कि जनवरी तक कनेक्शन दे देंगे। इस पर वे नाराज हो गईं और एसई को बाहर जाने को कह दिया।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने एक ट्यूबवैल के बिजली का बिल ग्राम पंचायत द्वारा नहीं चुकाने के मामले में जिला परिषद सीईओ सुखवीरसिंह चौधरी को फटकार लगाते हुए कहा कि आप जिले में रहते हैं आपको इतना भी नहीं पता। 30 परिवार हर बार 10 हजार रुपए का बिजली के बिल का भुगतान कैसे करेंगे। इस मामले को देखिए।

फतेहपुर के एक वार्ड में बिजली कनेक्शन की समस्या पर एमडी भामू जवाब देने लगे तो मुख्यमंत्री ने एसई वीडी सिंह को फटकार लगाई कि हर मामले में एमडी ही जवाब देते रहेंगे। आप कुर्सी के चिपक कर क्यों बैठे हो, जवाब दो। ब्राह्मण, वैश्य व जैन समाज ने दो जांटी बालाजी के सामने राष्ट्रीय राजमार्ग पर पुल बनाने की मांग की। पीडब्ल्यूडी अधिकारियों ने जवाब दिया कि यह एनएचएआई का मामला है। मुख्यमंत्री ने एनएचएआई के अधिकारियों को आवाज लगाई। अधिकारी मौके पर नहीं थे।

पीडब्लूडी के अधिकारी उन्हें बुलाने नहीं गए तो मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने गुस्सा होते हुए अधिकारियों को कहा, फेविकोल की तरह कुर्सियों के चिपक कर क्यों बैठे हो। तब रामगढ़ तहसीलदार कपिल उपाध्याय दौड़ते हुए बाहर गए और एनएचएआई के अधिकारियों को बुलाकर लाए।

86 करोड़ के काम में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठा, जवाब नहीं दे पाए अफसर

बिजली निगम में 86 करोड़ के काम में भ्रष्टाचार मामले में डिस्कॉम एमडी भी जवाब नहीं दे सके। सीएम ने एमडी को जांच के आदेश दिए हैं। दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत केंद्र ने प्रदेश को 1453 करोड़ रुपए दिए थे। योजना के तहत ग्राम ढाणियों में बिजली पहुंचानी थी। सीकर को 86 करोड़ रुपए दिए गए थे। 2015 में यह काम शुरू हो गया था। इसका ठेका दिल्ली की एक कंपनी को दिया गया था। काम करवाने के लिए निगम के दो अधिकारी वीडी सिंह व वीके खीचड़ को जिम्मेदारी दी गई थी। आरटीअाई में मांगी गई एक जानकारी में खुलासा हुआ था कि कंपनी ने मनमर्जी से बिजली लाइनें बिछा दी। जनसंवाद में मामला उठा तो सीएम ने एमडी बीएम भामू से जानकारी मांगी। एमडी इस मामले में कोई जवाब नहीं दे पाए।

सरकारी कॉलेज खोलने की मांग को लेकर हंगामा, लाठीचार्ज, पथराव
सरकारी कॉलेज खोलने की मांग को लेकर एसएफआई ने कार्यक्रम स्थल बिंदल कुलदेवी सेवा संस्थान के बाहर प्रदर्शन करते हुए काले झंडे दिखाए। पुलिस अधिकारियों ने उनसे समझाइश की लेकिन वे नहीं माने पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इस पर एसएफआई कार्यकर्ताओं ने पुलिसकर्मियों पर पत्थर फेंके और घरों में घुस गए। पुलिस ने घरों में घुसकर मौके से छह छात्रों को हिरासत में लिया। लाठीचार्ज में दो छात्र घायल हो गए।

मुख्यमंत्री के कार्यक्रम की बड़ी बातें

बाजौर गुट ने बनाई कार्यक्रम से दूरी

प्रेमसिंह बाजौर गुट के नेता दिखाई नहीं दिए। पूरा कार्यक्रम भाजपा जिलाध्यक्ष मनोज सिंघानियां और पूर्व पालिकाध्यक्ष मधुसूदन भिंडा ने ही हाइजैक किए रखा। निमावत स्कूल में बने हेलिपेड स्थल पर चिकित्सा राज्यमंत्री बंशीधर बाजिया मुख्यमंत्री को बुके भेंट कर लौट गए। बाजाैर गुट के प्रेमसिंह बाजौर, यूआईटी चेयरमैन हरिराम रणवां ने पूरे कार्यक्रम से दूरी बनाए रखी।

डेढ़ घंटे देरी से पहुंची मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे शनिवार को फतेहपुर में होने वाले कार्यक्रम स्थल पर डेढ़ घंटे देरी से पहुंची। समारोह दोपहर 12 बजे शुरू होना था, लेकिन मुख्यमंत्री हेलिपेड पर करीब डेढ़ घंटे देरी से पहुंचीं। इस वजह से लोगों को इंतजार करना पड़ा।

10 अन्नपूर्णा रसोई वैन को किया रवाना

मुख्यमंत्री ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम के तहत फतेहपुर की ब्रांड एंबेसेडर हर्षिता निर्मल के साथ मिलकर केक काटा। पांच नव प्रसूताओं को बेबी किट, बिस्तर किट और शॉल ओढ़ाकर उनका सम्मान किया। इसके बाद अन्नपूर्णा रसोई का लोकार्पण किया। 10 अन्नपूर्णा रसोई वैन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

नहीं किया लंच

मुख्यमंत्री ने जनसंवाद कार्यक्रम देरी से शुरू होने के चलते दोपहर का भोजन भी नहीं किया और रात्रि आठ बजे तक जनसंवाद कार्यक्रम चलता रहा। इसके बाद फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र के पदाधिकारियों की संगठनात्मक बैठक बुला ली।