--Advertisement--

मंदिर के बाहर दुकान में लड़का-लड़की कर रहे थे ऐसा काम, पुलिस ने बाहर निकाला

एसपी कार्यालय के पीछे स्थित नायकों के मोहल्ले का है मामला

Danik Bhaskar | Jan 19, 2018, 06:30 AM IST
सांकेतिक तस्वीर। सांकेतिक तस्वीर।

सीकर. एसपी कार्यालय के पीछे नायकों के मोहल्ले में गुरुवार काे मंदिर के बाहर दुकान में लोगों ने तोड़फोड़ की। इससे पहले पुलिस को सूचना मिली कि बंद डेयरी में युवक-युवती है। कल्याण सर्किल पुलिस मौके पर पहुंची। मौके पर भारी संख्या में मौजूद लोगों ने विरोध जताया। पुलिसकर्मियों ने समझाइश करते हुए दुकान में से युवक-युवती को बाहर निकाला और चौकी लेकर पहुंचे। पुलिसकर्मी दुकान को वापस बंद कर चौकी में आ गए।


पुलिस के जाने के बाद लोगों ने मंदिर के अंदर जाकर दुकान के पीछे दीवार को तोड़ दिया। फिर उपद्रवियों ने दुकान में घुसकर तोड़फोड़ की। बाद में पुलिस दुबारा सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची। पुलिस ने लोगों को हटाया। बाद में सीओ सिटी गिरधारी लाल शर्मा मौके पर पहुंचे।

पार्षद बलराम नायक व लोगों ने सीओ सिटी को बताया कि वर्तमान में ताराचंद जाट ने दुकान पर कब्जा कर रखा है। वह हमेशा अलग अलग लोगों को दुकान किराए पर देता है। संतोषी माता के मंदिर के बाहर यह दुकान है। गुरुवार सुबह महिलाएं मंदिर में आई तो देखा कि दुकान के अंदर एक युवक व युवती है। महिलाओं ने यह बात लोगों को बताई। जिसके बाद लोगों ने दुकान को बंद कर दिया और पुलिस को सूचना दी। मौके पर सुबह 11 से लेकर दोपहर एक बजे तक विवादास्पद स्थिति रही।

लोगों ने सीओ सिटी गिरधारी लाल शर्मा से कहा कि दुकान में आए दिन गलत कार्य होते हैं। चौकी पुलिस को सूचना दी जाती है, लेकिन पुलिस कार्रवाई नहीं करती है। सीओ सिटी ने कहा कि दुकान में तोड़फोड़ करने की जरूरत नही थी। कानून तोड़ा गया है, जो गलत है।

पार्षद बोले: दुकान पर ताराचंद ने कब्जा कर रखा है
पार्षद बलराम नायक ने पुलिस को बताया कि दुकान संतोषी माता के मंदिर के बाहर है। मोहल्लेवासियों ने यह दुकान कई साल पहले सुरेश नायक को दी थी। जो मंदिर की देखभाल करता था और दुकान से अपना गुजारा करता है। बाद में सुरेश की मौत हो गई। सुरेश ने 2005 में यह दुकान ताराचंद जाट को किराए से दे दी। ताराचंद जाट दुकान का किराया भी नहीं देता है और कब्जा कर रखा है। दुकान दूसरे लोगों को किराए से देकर अनैतिक कार्य कराता है। इससे मोहल्ले का माहौल खराब होता है।


इधर, किराएदार ताराचंद ने कराया मुकदमा दर्ज
भूमाबड़ा निवासी ताराचंद जाट ने मुकदमा दर्ज कराया है कि 2005 में उसने सुरेश नायक से दुकान किराए में ली। एक लाख रुपए की पगड़ी दी। 400 रुपए महीना किराया तय हुआ। जब तक सुरेश जीवित रहा तब उसने किराया दिया। सुरेश की मृत्यु के बाद समाज के लोगों ने किराया लेना चाहा, लेकिन लिखित में रसीद देने से इंकार कर दिया। ऐसे में उसने किराया भी नहीं दिया। गुरुवार को डेयरी चला रहे मुकेश से उसकी रिश्तेदार युवती किताब लेने आई थी। लोगों ने दुकान को बाहर से बंद कर दिया और तोड़फोड़ कर दी। उससे जबरन तरीके से दुकान खाली कराना चाहते है।

पुलिस : दुकान को लेकर विवाद, दोनों पक्षों से दस्तावेज मांगे हैं
कल्याण चौकी प्रभारी महेंद्र सिंह ने बताया कि पूछताछ के बाद युवक-युवती को छोड़ दिया गया। प्रारंभिक जांच में सामने आ रहा है कि दुकान को लेकर विवाद है। दोनों पक्षों से दस्तावेज मांगे गए हैं। जबरन तरीके से दुकान को खाली नहीं कराया जा सकता है। लोगों का अारोप है कि ताराचंद ने कोई पगड़ी नहीं दी, लेकिन दस्तावेज नहीं दे पा रहे है। पुलिस दुकान से जुड़े दस्तावेजों की जांच करेगी।

नायकों के मोहल्ले में विवाद के दौरान मौजूद लोग। नायकों के मोहल्ले में विवाद के दौरान मौजूद लोग।