Home | Rajasthan | Sikar | firing in courtroom and criminal murder sadulpur

कोर्टरूम में दनादन फायरिंग, अपराधी की हत्या; वकीलों का हुआ कुछ ये हाल

चूरू में सादुलपुर के मुंसिफ कोर्ट में चार-पांच बदमाशों ने दिया वारदात को अंजाम

Bhaskar News| Last Modified - Jan 18, 2018, 03:03 AM IST

1 of
firing in courtroom and criminal murder sadulpur
बदमाश दोनों हाथों में पिस्तौल लिए हुए थे। उन्होंने करीब एक दर्जन फायर किए। सभी कारतूस नौ एमएम के हैं। मौके पर 11 खोखों के अलावा एक जिंदा कारतूस तथा मैगजीन मिली है। खून से रंगा कोर्ट रूम

सादुलपुर (चूरू). राजस्थान के सादुलपुर के मुंसिफ कोर्ट में बुधवार को पेशी पर आए अपराधी अजय जैतपुरा की गोली मारकर हत्या कर दी गई। अजय के साथ आए वकील रतनलाल प्रजापत और दो अन्य लोग प्रदीप और संदीप भी घायल हो गए। वारदात मुंसिफ मजिस्ट्रेट रूम में दोपहर करीब 12:45 बजे हुई। फायरिंग के दौरान जज सीट पर नहीं थे। वहां मौजूद पेशकार (रीडर) ने जज के चैंबर में घुसकर जान बचाई।

 

- इस दौरान कोर्ट परिसर में भगदड़ मच गई। हमलवारों की संख्या 4 से 5 के बीच थी। फायरिंग करने के बाद सभी हवाई फायर करते हुए भाग गए। देर रात तक उनका कोई सुराग नहीं लगा था। वारदात में हरियाणा के अनिल जाट गैंग का हाथ माना जा रहा है। 

- बता दें कि 17 साल पहले भी इसी कोर्ट में अपराधी सुमेर फगेड़िया की हत्या गैंगवार के कारण हुई थी।
 

अजय ने पुलिसकर्मियों को कुचलने का प्रयास किया था
- अजय पर आरोप था कि उसने 23 सितंबर 2015 को बैरासर गांव में हमीरवास थाने के थानेदार और सिपाहियों को वाहन से कुचलने का प्रयास किया।

- सादुलपुर एडीजे कोर्ट ने 14 नवंबर 2017 को उसे सात साल जेल की सजा सुनाई थी। उसे पांच जनवरी को हाईकोर्ट से जमानत मिली थी।
 

अनिल गैंग ने दो दिन पहले दी थी धमकी, हत्या में शार्प शूटर शामिल

- माना जा रहा है कि अजय की हत्या हरियाणा के अनिल जाट की गैंग ने कराई। अजय जैतपुरा और सिपाही नरेंद्र के सहयोग से ही अनिल की सूचना पुलिस को मिली थी। उसका एनकाउंटर हो गया। तभी से दोनों को अनिल गैंग से धमकियां मिल रही थीं। हमले में अनिल जाट गिरोह के संपत नेहरा का नाम सामने आ रहा है।

- बताया जा रहा है कि दो दिन पहले अजय को इस गैंग ने धमकी भी दी थी। यह बात अजय ने अपने फेसबुक पेज पर अपडेट भी की।

- फायरिंग करने के अंदाज से माना जा रहा है कि यह काम शार्प शूटरों ने किया। हमलावर हट्‌टे-कट्‌टे व 25 से 30 वर्ष की उम्र के थे।

 

मेरी तो सांसें ही अटक गई, चैंबर में भागकर बचाई जान
 न्यायिक मजिस्ट्रेट कोर्ट में मजिस्ट्रेट का पद खाली है। अजय जैतपुरा व अन्य तारीख पेशी पर आए थे। मैं फाइल देख रहा था, तभी 4-5 युवक फायरिंग करते हुए आए। मेरी सांसें अटक गई। लेकिन मैं संभला और चैंबर में घुसकर जान बचाई।

-मोहरसिंह राठौड़, पेशकार 

 

हमने सीढ़ियों के नीचे छिपकर बचाई जान 
 मैं अपनी सीट पर बैठा था। गोली चलने की आवाज आई तो मैं सीढ़ियों के नीचे छिप गया। बदमाशों के जाने के बाद मैं व अन्य वकील कोर्ट पहुंचे तो वहां साथी  वकील रतनलाल व अन्य दो लोग लहूलुहान मिले। उन्हें अस्पताल ले गए।

-पुरुषोतम सैनी, एडवोकेट

 

 

 

 

 

firing in courtroom and criminal murder sadulpur
दोनों हाथों में पिस्तौल लेकर आए बदमाश
firing in courtroom and criminal murder sadulpur
खून से रंगा कोर्ट रूम
firing in courtroom and criminal murder sadulpur
अजय ने पुलिसकर्मियों को कुचलने का प्रयास किया था
firing in courtroom and criminal murder sadulpur
चूरू में सादुलपुर के मुंसिफ कोर्ट में चार-पांच बदमाशों ने दिया वारदात को अंजाम
firing in courtroom and criminal murder sadulpur
firing in courtroom and criminal murder sadulpur
firing in courtroom and criminal murder sadulpur
firing in courtroom and criminal murder sadulpur
firing in courtroom and criminal murder sadulpur
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now