Hindi News »Rajasthan »Sikar» Husband Died And Wife Injured In Road Accident After Few Days Of Wedding

19 दिन पहले हुई थी शादी, पत्नी के साथ जाते समय बाइक फिसली; पति की मौत

10 लाख रुपए कर्ज लेकर की थी बेटे-बेटी की शादी, बेटे ने कहा था सब ठीक कर दूंगा। 20 नवंबर को हुई थी शादी, 3 दिन बाद बहन

Bhaskar News | Last Modified - Dec 10, 2017, 04:13 AM IST

19 दिन पहले हुई थी शादी, पत्नी के साथ जाते समय बाइक फिसली; पति की मौत

झुंझुनूं/सीकर.सदर थाना इलाके में सीमेंट गोदाम के पास शनिवार दोपहर करीब साढ़े 11 बजे सड़क हादसे में बाइक सवार पति की मौत हो गई,जबकि पत्नी गंभीर घायल हो गई। नव दंपति बाइक पर नवलगढ़ से झुंझुनूं रहे थे। 19 दिन पहले ही इनकी शादी हुई थी। पुलिस के मुताबिक फतेहपुर निवासी भंवरलाल कुमावत का पुत्र रणजीत (25 ) अपनी पत्नी पिंकी (20) के साथ बाइक पर नवलगढ़ ससुराल से पिंकी के ननिहाल झुंझुनूं रहे थे। सीमेंट गोदाम के अचानक बाइक असंतुलित होकर गिर गई। इससे रणजीत पिंकी गंभीर रूप से घायल हो गए। किसी ने इसकी सूचना पुलिस को दी।

- सूचना पाकर सदर थाने के एएसआई बाबूलाल मीणा मौके पर पहुंचे। दोनों को बीडीके अस्पताल लाया गया। वहां कुछ समय बाद रणजीत की मौत हो गई। पिंकी के सिर में चोट लगने के कारण वह बेहोश रही।

- पुलिस ने इसकी सूचना परिजनों को दी। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया। इस संबंध में रणजीत के पिता भंवरलाल ने सदर थाने में मामला दर्ज कराया है।

- रणजीत अपने ससुराल नवलगढ़ आया हुआ था। फेर मोड़े के बाद ससुराल आया रणजीत फतेहपुर जाना चाहता था। पत्नी पिंकी ने पहले अपने ननिहाल चलने को कहा। वहां से दोनों बाइक पर झुंझुनूं मिलने रहे थे। ननिहाल ससुराल पहुंचने से पहले यह हादसा हो गया।


रणजीत पहले विदेश रहता था, वर्तमान में फतेहपुर में ही कार चलाता था
- फतेहपुर में शनिवार शाम रणजीत की अंत्येष्टि हुई। हादसे की खबर सुनकर हर कोई गमगीन था। जैसे ही फतेहपुर में भंवरलाल के घर रणजीत का शव पहुंचा घर में कोहराम मच गया। काफी संख्या में कस्बे के लोग अंतिम यात्रा में शामिल हुए।

- रणजीत पहले विदेश रहता था। विदेश में कम पैसा मिलने के चलते वह वापस आ गया था। एक साल से वह फतेहपुर में ही एक गैस एजेंसी में कार चलाता था।

- रणजीत के दोस्तों ने बताया कि वह काफी मिलनसार था। उसके व्यवहार की सब तारीफ करते थे।

- उसका बड़ा भाई राजकुमार दिल्ली में कंप्यूटर ऑपरेटर का काम करता है। पिता भंवरलाल ने ईंट-भट्टे पर काम करके अपने बच्चों को सक्षम बनाया था। गरीबी को बच्चों की पढ़ाई में कभी बीच में नहीं आने दिया। परिवार की आय का कोई पुख्ता स्त्रोत नहीं है।

शादी की खुशियां थमी ही नहीं

- हादसे की सूचना के बाद फतेहपुर निवासी भंवरलाल कुमावत के घर में मातम छा गया। घर में अभी शादी की खुशियां थमी ही नहीं थी। यह हादसा हो गया।

- दरअसल पिछले महीने 20 नवंबर को भंवरलाल के बेटे रणजीत की शादी नवलगढ़ निवासी चौथमल की बेटी पिंकी से हुई थी। बहू लाने के दो दिन बाद 23 नवंबर को भंवरलाल ने बेटी संजू की शादी की थी। संजू की बारात नवलगढ़ से आई थी। उसमें रणजीत पिंकी आगे बढ़कर शादी के कार्य में हाथ बंटा रहे थे। बेटे- बेटी की शादी के बाद भंवरलाल भी काफी प्रसन्न थे। अचानक यह हादसा हो जाने से भंवरलाल के परिवार पर संकट का पहाड़ टूट पड़ा। हादसे की सूचना पाकर नवलगढ़, फतेहपुर झुंझुनूं से रिश्तेदार परिजन पहुंचे। पिंकी को बेहोश होने की वजह से हादसे की जानकारी भी नहीं थी। परिजन इस घटना को लेकर सदमे में रहे।

रणजीत ने सड़क दुर्घटना होने पर तुरंत सबसे पहले पिता भंवरलाल को घटना की सूचना दी। पिता तुरंत अपने परिवार को घटना की सूचना देकर वाहन किराए कर झुंझुनूं के लिए रवाना हो गए। लेकिन कुछ ही देर में किसी अजनबी युवक ने दोबारा फोन किया कि उनके बेटे की मौत हो गई है। इतना सुनते ही पिता बेहोश हो गए।

मृतक के चचेरे भाई महेंद्र कुमावत ने बताया कि ईंट भट्टे पर काम करने वाले भंवरलाल ने 10 लाख रुपए का कर्ज लेकर बेटे और छोटी बेटी की शादी की थी। आसपास के क्षेत्र में ईंट-भट्टे बंद होने के चलते भंवरलाल बेरोजगारी के दौर से गुजर रहे थे। बेटे रणजीत ने पिता को भरोसा दिलाया था कि वह कमाकर परिवार की आर्थिक स्थिति सुधार देगा। मां पशुपालन कर दूध की आय से परिवार चला रही थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Sikar News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 19 din pehle huee thi shaadi, patni ke saath jaate smy byke fisali; pti ki maut
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Sikar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×