Hindi News »Rajasthan News »Sikar News» MBBS Course Change From Next Year 2018

MBBS कोर्स में अगले साल से बदलाव, हर सेमेस्टर के बाद टेस्ट देना होगा स्टूडेंट को

Bhaskar News | Last Modified - Dec 29, 2017, 05:04 AM IST

बदलाव : नए सिलेबस में एक फाउंडेशन कोर्स भी अलग से जोड़ा गया है
  • MBBS कोर्स में अगले साल से बदलाव, हर सेमेस्टर के बाद टेस्ट देना होगा स्टूडेंट को
    +1और स्लाइड देखें

    सीकर. एमबीबीएस कोर्स में बदलाव को मंजूरी मिल गई है। सरकार की कोशिश है कि अगले सत्र से सभी मेडिकल कॉलेजों में यह सिलेबस ही पढ़ाया जाए। नए काेर्स में प्रशिक्षु डॉक्टरों के प्रायोगिक ज्ञान को बढ़ाने पर जोर है। किताबी पढ़ाई कराने के बजाए उपचार कैसे किया जाए, यह बताया जाएगा।

    - नए कोर्स की अवधि भी साढ़े चार साल ही रहेगी, लेकिन हर सेमेस्टर में ऐसे चैप्टर होंगे जिन्हें सीखना अनिवार्य होगा। प्रत्येक सेमेस्टर के बाद छात्रों का एक टेस्ट होगा, जिनमें उनके सीखे गए कौशल की जांच होगी। कई ऐसे कौशल सिखाए जाएंगे, जो आमतौर पर विभिन्न पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स में कराए जाते हैं।

    - मकसद यह है कि यदि मरीज एक एमबीबीएस डॉक्टर के पास जाता है तो वह सभी बीमारियों में कम से कम सामान्य उपचार दे सके।

    नया कदम क्यों

    फिलहाल एमबीबीएस डॉक्टर प्रारंभिक लक्षणों के आधार पर उपचार करते हैं। ज्यादातर मामलों में मरीज को पीजी डॉक्टर यानी विशेषज्ञ डॉक्टर के पास रैफर किया जाता है। सरकार यही तरीका बदलना चाहती है। साढ़े चार साल का कोर्स करने और एक साल की इंटर्नशिप के बाद जब वे बाहर निकलेंगे तो एक परिपक्व डॉक्टर की भांति वे उपचार कर सकेंगे। नए सिलेबस में एक फाउंडेशन कोर्स भी जोड़ा गया है। इसमें डॉक्टरों को आचार संहिता, कम्युनिकेशन स्किल आदि भी सिखाया जाएगा।


    कोर्स के फायदे

    ज्यादातर मामलों में मरीजों को एमबीबीएस डाॅक्टर से ही पूरा इलाज मिल जाएगा। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, जिला अस्पतालों में एमबीबीएस डॉक्टर तैनात करके सरकार विशेषज्ञ डॉक्टरों की कमी दूर करेगी। एमबीबीएस करने वाले हर डॉक्टर को पीजी करने के लिए नहीं जाना होगा। नए कोर्स के बाद कई डॉक्टर पीजी करने की जरूरत महसूस नहीं करेंगे।

    नीट-2018 का नोटिफिकेशन जारी मई में होगा एग्जाम
    - सीबीएसई ने नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट (नीट-2018) का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। यह नोटिफिकेशन यूजी और पीजी कोर्सेस के लिए है। इस बार केंद्र सरकार ने पीजी की 5800 सीटें बढ़ाईं हैं। - गौरतलब है कि यह एग्जाम हर साल देश के 479 मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन के लिए आयोजित कराया जाता है।

    - इसके साथ ही नीट एमडीएस 2018 का डेमो टेस्ट भी ऑफिशियल वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया है।

    - अभ्यर्थी डेमो टेस्ट के लिए वेबसाइट www.cbseneet.nic.in पर विजिट कर सकते हैं।

    - स्टूडेंट्स एग्जाम के फॉर्म जनवरी 2018 के तीसरे सप्ताह तक भर सकते हैं। एग्जाम मई 2018 के पहले सप्ताह में आयोजित किया जाएगा।

  • MBBS कोर्स में अगले साल से बदलाव, हर सेमेस्टर के बाद टेस्ट देना होगा स्टूडेंट को
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Sikar News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: MBBS Course Change From Next Year 2018
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Sikar

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×