--Advertisement--

प्रधानमंत्री आज राजस्थान के झुंझुनूं में, सुरक्षा में 5000 जवान; फायरप्रूफ डोम

हवाई पट्टी पर तीन ही हेलीपैड बनाए गए हैं जिन पर पीएम मोदी के हेलीकॉप्टरों की लैंडिंग होगी।

Danik Bhaskar | Mar 07, 2018, 03:47 AM IST

झुंझुनूं/जयपुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विश्व महिला दिवस पर आठ मार्च को राजस्थान में झुंझुनूं आएंगे। उनके आगमन से दो दिन पहले मंगलवार से वायु सेना के हेलीकॉप्टरों की ट्रायल लैंडिंग शुरू हो गई। इधर, सांसद संतोष अहलावत, नगर परिषद सभापति सुदेश अहलावत ने भी हवाई पट्टी पहुंच कर पीएम के कार्यक्रम संबंधी तैयारियों का जायजा लिया।


- जानकारी के मुताबिक, कार्यक्रम स्थल पर बनाया गया डाेम हालांकि फायर प्रूफ होगा फिर भी एहतियातन फायर एक्जिट भी बनाए जाएंगे। मोदी के कार्यक्रम के लिए हवाई पट्टी पर बनाया जा रहा डोम लगभग तैयार हो चुका है।

- कार्यक्रम के दौरान सुरक्षा के लिहाज से करीब पांच हजार जवान तैनात किए जाएंगे। इनमें पुलिस, होमगार्ड, आईबी आदि के जवान शामिल होंगे। दिल्ली से भी पुलिस -प्रशासन के उच्च अधिकारी, एसपीजी, आईबी, सीआईडी आदि महकमों के अधिकारी भी सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था का जायजा लेने झुंझुनूं पहुंचे।

3 हेलीपैड बने हैं

- हवाई पट्टी पर तीन ही हेलीपैड बनाए गए हैं जिन पर पीएम मोदी के हेलीकॉप्टरों की लैंडिंग होगी। मुख्यमंत्री व अन्य वीआईपी’ज के के लिए हवाई पट्टी के निकट ही दो हेलीपेड तैयार किए गए हैं। सीकर जिले की तारपुरा हवाई पट्टी को रिजर्व रखा गया है। सुरक्षा के लिहाज से वायु सेना की ट्रायल लैंडिंग शुरू हो गई है।

- वायु सेना के हेलीकॉप्टरों ने मंगलवार को झुंझुनूं पहुंच कर हवाई पट्टी पर करीब आधा दर्जन बार ट्रायल लैंडिंग की। इस दौरान लैंडिंग की पूरी रिहर्सल की गई। हवाई पट्टी की सुरक्षा व्यवस्था के तौर पर पुलिस के जवान भी तैनात किए गए हैं।

- प्रधानमंत्री यहां बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान की तीसरी वर्षगांठ के जश्न के साथ ही राष्ट्रीय पोषण कार्यक्रम की भी शुरुआत करेंगे।

पांच जिलों के कलेक्टर भी रहेंगे पीएम के कार्यक्रम में
- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम में राज्य के पांच जिलों के कलेक्टर भी शामिल रहेंगे।

- उसी दिन मोदी देश के पिछड़े 115 जिलों के लिए न्यूट्रिशन मिशन लांच करेंगे। राज्य के पांच ऐसे जिले है, जोकि पोषाहार के मामले में पिछड़े हुए हैं। इसमें जैसलमेर, करौली, धौलपुर, बारा और सिरोही जिला शामिल है।

- प्रधानमंत्री कार्यालय से सरकार को निर्देश आया है कि उक्त पांचों जिलों के कलेक्टरों को कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सूचना दे दी जाए।