--Advertisement--

37 साल पहले चार रुपए में पहुंचते थे सीकर से चूरू, 2 ट्रेन चलती थी

ट्रेन में बैठने का क्रेज था, आसानी से सीट मिलती थी। एक-एक डिब्बे में दोस्त हुआ करते।

Dainik Bhaskar

Dec 10, 2017, 07:02 AM IST
फोटो 1965 का। फोटो 1965 का।

सीकर. आज से करीब 37 साल पहले की बात है। उस समय चूरू-सीकर मीटर गेज ट्रेन में सीकर जाने का किराया मात्र चार रुपए था। सुबह और दोपहर में सीकर तक के लिए दो ट्रेन चलती थी। एक ट्रेन में 100 से 125 यात्री सफर करते थे। इन्हीं यात्रियों में सफर करने वाले चूरू के वृयोवद्ध हनुमानमल कोठारी से भास्कर ने विशेष बातचीत की। पाठकों को पुरानी यादों से जाेड़ने और मीटरगेज ट्रेन से जुड़े रोचक किस्से और कई तरह की जानकारी ली।

- कोठारी बताते हैं कि मुझे आज भी याद है कि करीब 1980-85 के दौर में हम दोस्तों के साथ टोली बनाकर ट्रेन में सीकर जाया करते थे। ट्रेन में खूब मस्ती और खाने-पीने के आनंद के साथ करीब तीन से साढ़े तीन घंटे का सफर तय कर सीकर पहुंचते। आज ट्रेनों में जो भागमभाग और भीड़भाड़ की स्थिति है, वह पहले बिल्कुल भी नहीं थी। ट्रेन में बैठने का क्रेज था, आसानी से सीट मिलती थी। एक-एक डिब्बे में दोस्त हुआ करते।

- रेलवे रिकॉर्ड के मुताबिक वर्ष 1951 के नवंबर महीने में चूरू-सीकर मीटरगेज ट्रेन का संचालन शुरू हुआ। ये भी बताया जा रहा है कि इस ट्रेक पर जयपुर स्टेट का 1924 से ट्रेक था, जिस पर गाड़ियों का संचालन हुआ करता था। उस दौर में लोग स्टेशन और प्लेटफाॅर्म पर घूमने आते थे। यहां बैठकर खाने-पीने सहित चाय पीने का काफी शौक हुआ करता था।

चूरू से सीकर पहुंची ब्रॉडगेज ट्रेन। चूरू से सीकर पहुंची ब्रॉडगेज ट्रेन।
X
फोटो 1965 का।फोटो 1965 का।
चूरू से सीकर पहुंची ब्रॉडगेज ट्रेन।चूरू से सीकर पहुंची ब्रॉडगेज ट्रेन।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..