Hindi News »Rajasthan »Sikar» Teams Are Being Given The Same State Food

23 राज्यों की 27 टीमों को दिया जा रहा है उसी प्रदेश का खाना, पकाने वाले भी वहीं से बुलाए

राजस्थानी दाल-बाटी, बिहार का लिट्‌टी चोखा सहित 23 राज्यों के प्रसिद्ध व्यंजन बना रहे।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 18, 2017, 09:00 AM IST

  • 23 राज्यों की 27 टीमों को दिया जा रहा है उसी प्रदेश का खाना, पकाने वाले भी वहीं से बुलाए
    +1और स्लाइड देखें

    फतेहपुर(सीकर)।ढांढ़ण में चल रही शिक्षा विभाग की 19 वर्ष बालिका राष्ट्रीय वॉलीबाॅल प्रतियोगिता में खिलाड़ियों के खाने-पीने रहने सहित अन्य सुविधाओं पर ढांढ़ण वेलफेयर सोसायटी रोज 2.50 लाख रुपए खर्च कर रही है। खिलाड़ियों के लिए उनके प्रदेश का ही भोजन तैयार कराया जा रहा है।

    - पांच दिवसीय प्रतियोगिता पर करीब 27 लाख रुपए खर्च होंगे, जो सोसायटी ही वहन करेगी। प्रतियोगिता में 23 राज्यों के करीब 410 खिलाड़ी और उनके कोच, शिक्षा विभाग के ड्यूटी दे रहे दो सौ शारीरिक शिक्षक एवं अन्य कार्मिक, पुलिस जवानों सहित अन्य कर्मचारियों की कुल संख्या आठ सौ है। सभी आठ सौ लोगों के लिए सुबह-शाम चाय-नाश्ते के अलावा लंच और डिनर की व्यवस्था भी की जा रही है।
    - प्रतियोगिता पर खर्च होने वाली राशि ढांढ़ण वेलफेयर सोसायटी अकेले ही वहन कर रही है। खिलाड़ियों, कोच आदि को सोसायटी द्वारा ही पुरस्कार दिए जाएंगे। सोसायटी के अनुसार, प्रतियोगिता के दौरान डीजल पर 1.5 लाख, सब्जी पर दो लाख, कारीगरों पर दो लाख, श्रमिकों पर 1.5 लाख, पुरस्कारों पर करीब तीन लाख रुपए खर्च किए जाएंगे।
    - सोसायटी ने अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता करवाने के लिए दिया आमंत्रण : ढांढ़णवेलफेयर सोसायटी के निर्मल भरतिया, पप्पू बजाज आदि पदाधिकारियों ने प्रतियोगिता में आए स्कूल गेम्स फेडरेशन आॅफ इंडिया के राष्ट्रीय पदाधिकारियों से कहा है कि वे ढांढ़ण में किसी भी खेल की अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता का आयोजन करवाएं तो सोसायटी पूरा खर्चा वहन करने को तैयार है।
    - प्रतियोगिता में देश के 23 राज्यों के खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। उनके लिए उन्हीं के प्रांतों के लजीज खाने का प्रबंध किया गया है। इसमें राजस्थान का दाल-बाटी चूरमा, पं. बंगाल की खिचड़ी, बिहार का लिट्‌टी चोखा, सत्तू, दक्षिण भारत का डोसा, इडली, सांभर बड़ा, पंजाब का छाेला-भटूरा आदि व्यंजन परोसे जा रहे हैं। कार्य को सुचारु रूप से चलाने के लिए पुरुलिया-पं. बंगाल से 15 हलवाई और महाराष्ट्र से 25 श्रमिक बुलवाए गए हैं।
    ढांढ़ण विला में अत्याधुनिक सुविधा वाले 164 कमरे रहने के लिए दिए

    - ढांढ़ण वेलफेयर सोसायटी के आल इंडिया पीआरओ प्रमोद बजाज ने बताया कि प्रतियोगिता में हिस्सा ले रहे करीब आठ सौ लोगों की आवभगत में कोई कमी नहीं रह जाए, इसके लिए ढांढ़ण विला में करीब 164 रूम रहने के लिए दिए गए हैं।

    - इनमें अत्याधुनिक होटल जैसी सुविधाएं उपलब्ध हैं। गर्म पानी, दवा जनरेटर सहित अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई जा रही हैं। प्रतियोगिता में भाग ले रहे सभी प्रदेशों के खिलाड़ियों आदि ने ढांढ़ण वेलफेयर ट्रस्ट द्वारा उपलब्ध आवास, भोजन आदि की प्रशंसा की।

  • 23 राज्यों की 27 टीमों को दिया जा रहा है उसी प्रदेश का खाना, पकाने वाले भी वहीं से बुलाए
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sikar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×