Hindi News »Rajasthan »Sikar» There Is No Seat Of Seat To Sit In The Demo Train

डेमू ट्रेन में बैठने के लिए ढंग की सीट नहीं है, इसलिए खड़े होकर करना पड़ा सफर

हिसार-सादुलपुर-रेवाड़ी,रेवाड़ी-सादुलपुर-जोधपुर और बीकानेर-सादुलपुर रूट पर चलती है ये ट्रेन।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 05, 2017, 07:49 AM IST

  • डेमू ट्रेन में बैठने के लिए ढंग की सीट नहीं है, इसलिए खड़े होकर करना पड़ा सफर
    सादुलपुर(सीकर)।तीन रूट पर यात्रियों की सुविधा के लिए चलाई गई डेमू ट्रेन के छह से 10 घंटे के सफर में यात्रा मुश्किल होने लगी है। डेमू ट्रेन में बैठने के लिए सीटें नहीं है, वहीं डिब्बों की संख्या कम होने के चलते खड़े होकर लंबा सफर करना मुश्किल हो रहा है। सुविधा की बजाय असुविधा का कारण बन रही इन ट्रेनों के संचालन को लेकर पिछले दो वर्षों से रेल सेवा से जुड़े संगठन सादुलपुर के लोग इसे बंद करने की मांग करने लगे हैं।
    - गत दिनों यहां आए डीआरएम से भी मिलकर लोगों ने डेमू ट्रेन की यात्रा उससे होने वाली परेशानियों से अवगत करवाते हुए डेमू की जगह साधारण डिब्बों की ट्रेन चलाने की मांग की थी। गत वर्ष भी समय-समय पर अधिकारियों से वार्ता कर डेमू ट्रेन को बंद करने की मांग करने पर डीआरएम ने आश्वासन दिया था। कार्रवाई अभी तक नहीं हुई।
    - रेलवे द्वारा डेमू ट्रेन शुरू करने के दौरान यात्रा की दूरी यात्रियों की सुविधा का कोई ध्यान नहीं रखा गया। फिलहाल हिसार-सादुलपुर-रेवाड़ी, रेवाड़ी-सादुलपुर-जोधपुर, बीकानेर-सादुलपुर-हिसार रूट पर डेमू ट्रेन का संचालन किया जा रहा है।
    - सादुलपुर से जोधपुर का सफर करीब 10 घंटे का है, वहीं बीकानेर से सादुलपुर का सफर करीब छह घंटे का है। सादुलपुर से रेवाड़ी चार घंटे और सादुलपुर से हिसार का सफर करीब डेढ़ घंटे का है। डेमू ट्रेन में लगी सीटों पर यात्री एक घंटे से अधिक समय तक आराम से नहीं बैठ सकता, ऐसे में 10 छह घंटे का सफर पीड़ादायी हो जाता है।
    - प्रतिदिन300 यात्री करते हैं सफर : सादुलपुरसे हिसार के बीच प्रतिदिन 300 के करीब यात्री सफर करते हैं। इसमें 135 से अधिक विद्यार्थी, 100 से अधिक नौकरी पेशा लोग और 65 से अधिक व्यापारी सफर करते हैं। इसी तरह सादुलपुर से जाेधपुर अाैर सादुलपुर से बीकानेर रुट पर प्रतिदिन 70 से 80 यात्री सफर करते हैं।
    - रेल संघर्ष समिति के अध्यक्ष मुकेश रामपुरा के अनुसार डेमू ट्रेन की यात्रा परेशानी बढ़ाने वाली है। यात्रियों को बैठने के लिए सुविधाजनक सीट नहीं है। डेमू ट्रेन को बंद करवाने के लिए पिछले तीन सालों से मांग की जा रही है।
    - डेमू ट्रेन को बंद कर साधारण डिब्बों वाली ट्रेन नहीं चलाए जाने की स्थिति में समिति की तरफ से आंदोलन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि डीएम ने आश्वासन भी दिया था, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।
    सादुलपुर से बीकानेर तक सफर में लगते हैं छह घंटे
    - डेमू ट्रेन में सादुलपुर से बीकानेर तक की यात्रा करने पर करीब छह घंटे लगते हैं। कस्बे से सर्वाधिक यात्री हिसार बीकानेर के लिए ही सफर करते हैं। हिसार तक के सफर में तो ज्यादा समय नहीं लगता, इसलिए खड़े होकर यात्रा करने में भी अखरता नहीं है। लेकिन बीकानेर की यात्रा करने पर छह घंटे तक खड़े होकर सफर करना परेशानियों से भरा रहता है। इसलिए इस रूट पर डेमू की जगह साधारण ट्रेन चलाने की मांग की जा रही है
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sikar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×