राजस्थान / ब्लड बैंक के रेफ्रीजरेटर में शॉर्ट सर्किट से आग, 439 यूनिट खून बचाया



Blood bank refrigerator catches fire, 439 unit blood saved
X
Blood bank refrigerator catches fire, 439 unit blood saved

  • एसके अस्पताल के ब्लड बैंक के फ्रीज में लगी आग 
  • एसके हॉस्पिटल ब्लड बैंक : 1 दिन पहले शुरू किया था फ्रीज 
     

Dainik Bhaskar

Jul 14, 2019, 12:49 PM IST

सीकर। एसके ट्रोमा सेंटर के ऊपर बनी ब्लड बैंक में शनिवार दोपहर डेढ़ बजे अचानक शॉर्ट सर्किट होने से आग लग गई। शॉर्ट सर्किट हॉल में ब्लड बैग के लिए रखे रेफ्रीजरेटर (वीडीआर) में हुआ। ट्रायल के लिए एक दिन पहलेक ही रेफ्रीजरेटर शुरू किया गया था। आग लगने से ब्लड बैंक परिसर में धुआं फैला गया। परिसर में मौजूद स्टाफ को सांस लेने में तकलीफ हुई तो उन्हें आग लगने का अहसास हुआ। इससे अफरा-तफरी मच गई। हॉल में पहुंचे तो रेफ्रीजरेटर जलता हुआ मिला।

 

इसके बाद स्टाफ ने हिम्मत दिखाई। लैब टेक्नीशियन सत्येंद्र कुड़ी, राजेंद्र, नरेंद्र बाजिया और रोहित ने परिसर में अग्निशमन यंत्र उठाए। जिस हॉल में आग लगी हुई थी, वहां पहुंचे। जलते हुए रेफ्रीजरेटर पर अग्निशमन यंत्रों से फॉग डालना शुरू किया। 15 मिनट की मशक्कत के बाद स्टाफ ने आग पर काबू पाया। स्टाफ की बहादुरी के चलते हास्पिटल में बड़ा टल गया।

 

आग जिस हॉल में लगी, वहां पर करोड़ों के उपकरण रखे हुए थे। पांच रेफ्रीजरेटर, 2 डी-फ्रीज, प्लेटलेट एजीटेटर, रेफ्रीजरेटर सेंट्रफ्यूज मशीनें रखी हुई थी। आग से एक रेफ्रीजरेट को नुकसान पहुंचा। लेकिन आग आगे बढ़ पाती, इससे पहले ब्लड बैंक स्टाफ की सतर्कता के चलते करोड़ों का नुकसान होने से बच गया। इसके अलावा 439 यूनिट ब्लड भी सुरक्षित बचा लिया गया। 

 

1 माह पहले अलग सप्लाई लाइन डालने के लिए लिखी थी चिट्ठी, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई : ब्लड बैंक ट्रोमा सेंटर के ऊपर बना हुआ है। बिजली सप्लाई लाइनें भी ट्रोमा सेंटर से जुड़ी हुई हैं। इसमें 11 साल पहले बिजली लाइनें डाली गई थीं। एक सप्लाई लाइन पर दो सेंटर की सप्लाई का लोड था। अंदेशा जताया जा रहा है कि लोड ज्यादा होने के कारण ब्लड बैंक परिसर में शॉर्ट सर्किट हुआ।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना