मेडिकल घोटाला / स्टोर में उल्टी, दर्द-बुखार की 11 हजार टेबलेट, फिर भी फार्मासिस्ट परामर्श पर्ची पर मोहर लगा देते हैं-दवा नहीं है

free medical facility scam of SK hospital in sikar, 2019
X
free medical facility scam of SK hospital in sikar, 2019

  • एसके हॉस्पिटल में निशुल्क दवा स्कीम की हकीकत

Jun 10, 2019, 01:06 PM IST

सीकर. एसके हॉस्पिटल में दवा उपलब्ध होने के बावजूद मरीजों को निशुल्क दवा स्कीम में इसका फायदा नहीं मिल रहा है। फार्मासिस्ट परामर्श पर्ची पर अनडिलीवर्ड यानी दवा उपलब्ध नहीं है का टैग लगाकर मरीज को लौटा देते हैं। तेज गर्मी में मरीज दवा के लिए भटकते रहते हैं। थक हारकर निजी स्टोर से दवा खरीदनी पड़ती है। एसके हॉस्पिटल में मरीजों को दवा बांटने के लिए प्रबंधन ने 6 जगह वितरण केंद्र बना रखे हैं। हर वितरण केंद्र पर फार्मासिस्ट और हैल्परों की नियुक्ति है, लेकिन दवा वितरण केंद्रों पर डॉक्टरों द्वारा लिखी दवाएं नहीं मिल पाती। 

 

दैनिक भास्कर ने दवा वितरण केंद्रों के सामने 2 घंटे रुककर निशुल्क दवा स्कीम की सच्चाई जानी। दवा वितरण केंद्रों पर मौजूद फार्मासिस्टों ने डॉक्टरों द्वारा लिखी डोमपैराडोम, पीसीएम, एजीथ्रोमाईसिन, डायक्लोपैरा सरीखी दवा की पर्ची पर अन डिलीवर्ड का टैग लगाकर मरीजों को वापस लौटा दिया। ये दवा सामान्य बीमारियां उल्टी, दर्द और बुखार रोकने के लिए काम में ली जाती है। जबकि हॉस्पिटल के दवा स्टोर में इन दवाओं की 11 हजार टेबलेट मौजूद है। मरीज एक दवा वितरण केंद्र से दूसरी जगह पहुंचे तो वहां भी दवाई नहीं होने का जवाब मिला।

 

मरीजों को गर्मी में दवा के लिए भटकना पड़ा है 
85 साल के हार्ट पेशेंट हनुमानराम लोसल से चैकअप के लिए एसके हॉस्पिटल पहुंचे। डॉक्टर ने एस्प्रिन दवा लिखी। वह दवा वितरण केंद्र 6 पर पहुंचे। वहां पर फार्मासिस्ट ने परामर्श पर्ची पर अन डिलीवर्ड का टैग लगाकर लौटा दिया। जबकि दवा स्टोर में एस्प्रिन दवा की टेबलेट मौजूद थी।


 72 साल के बोदूराम कैंसर वार्ड में भर्ती हैं। बोदूराम की कीमोथैरेपी होनी थी। डॉक्टर ने उल्टियां रोकने के लिए डोमपैराडोम टेबलेट लिखी। भतीजा छोटूराम दवा लेने के लिए दवा वितरण केंद्र 2 पर पहुंचा। लेकिन फार्मासिस्ट ने दवा नहीं होने का हवाला दिया।

 

45 साल के मदनलाल के दर्द की शिकायत थी। डॉक्टर ने डायक्लोपैरा और कैल्शियम की दवा लिखी। वह दवा वितरण केंद्र पर 6 पर गए। लेकिन फार्मासिस्ट ने दोनों दवा होने से मना कर दिया। 

 

पीएमओ बोले फार्मासिस्टों पर कार्रवाई होगी 
एसके हॉस्पिटल के पीएमओ डॉ. अशोक चौधरी का कहना है कि शिकायत आई थी। स्टोर में दवा मौजूद होने के बावजूद नहीं देने वाले फार्मासिस्टों पर कार्रवाई की जाएगी। मामले में दवा स्टोर इंचार्ज मनीष सोनी का कहना है कि दवा की कमी नहीं है। फार्मासिस्ट मरीजों को क्यों लौटा रहे हैं, यह तो वे ही बात सकते हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना