--Advertisement--

बदमाशों के हाथों में सरिए व डंडे देख पांच साल की मासूम बोली- पापा गुंडे आ गए हैं... जल्दी भागो

गैंगवार से निर्दोष लोगों पर क्या बीतती है,ठेहट व आनंदपाल गैंग के बीच नीमकाथाना में गैंगवार

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 07:22 AM IST
बदमाशों के हाथों में लाठी व सरिए हैं। दहशत के बीच बाजार से एक पिता अपनी मासूम को लेकर जा रहा है। बदमाशों के हाथों में लाठी व सरिए हैं। दहशत के बीच बाजार से एक पिता अपनी मासूम को लेकर जा रहा है।

नीमकाथाना(सीकर). रामलीला मैदान में सोमवार शाम शादी में हुए विवाद को लेकर राजू ठेहट व आनंदपाल गैंग के एक दर्जन गुर्गे आमने-सामने हाे गए। हाथों में सरिये व लाठी लिए दोनों पक्ष एक-दूसरे को मारने को दौड़ते रहे। दोनों गिरोह के गुर्गें एक-दूसरे पर फायरिंग कर गाड़ियों व बाइकों से पीछा करने लगे। बाजार में सरेराह भागते बदमाशों को देखकर लोग दहशत में आ गए। सूचना के करीब एक घंटे के बाद सीओ नीमकाथाना दिनेश यादव, एसडीएम जेपी गौड़ पहुंचे। हालांकि घटनास्थल से थाना 200 मीटर की दूरी पर ही है। ये था मामला...

- पुलिस को मौके से एक खोल बरामद हुआ है। तलाश में घरों, होटलों सहित स्टेशन पर दबिश दे रही है। घटना शाम सात बजे की है।

- आनंदपाल गैंग से जुड़े कुलदीप के छोटे भाई संजू उर्फ विक्की को सदर थाने के हिस्ट्रीशीटर ठेहट गैंग के सागर चौधरी ने बुलाया।

- संजू तीन-चार बाइकों पर साथियों के साथ व सागर भी गाड़ियों में सवार होकर आया। दोनों गुटों के पास सरिये व लाठियां थीं। कहासुनी के बाद दोनों के बीच धक्का-मुक्की हो गई।

- विवाद बढ़ा तो सागर गाड़ी से पिस्टल निकाल लाया। संजू ने भी पिस्टल निकाल ली। सागर अपने साथियों के साथ 3 गाड़ियों में जाने लगा तो उसने फायर कर दिया।

- संजू भी बाइक पर सवार होकर पीछा कर फायरिंग करने लगा। दोनों ओर से तीन राउंड फायर हुए। विवाद रविवार को एक शादी समारोह के दौरान हुआ था।

- जिसमें शराब पीकर संजू व सागर ने एक-दूसरे को जान से मारने की धमकी दी थी।

बेटी को बाजार में घुमाने लाया था, अचानक बदमाशों ने बंदूकें निकाली, वो रोने लगी, हम छिप गए : पिता

(बच्ची और पिता की सुरक्षा की दृष्टि से उनकी पहचान छुपाई जा रही है)

- मैं बेटी को लेकर रामलीला मैदान में इवनिंग वॉक कर रहा था। सर्किल के पास पहुंच कर मैंने देखा कि 15-20 बदमाश झगड़ा कर रहे थे, सभी के हाथ में सरिये थे।

- बदमाशों को झगड़ा करते देख बिटिया रोने लगी। तभी अचानक स्कॉर्पियो में सवार एक बदमाश ने बड़ी बंदूक निकाल कर तान दी और कपिल मंडी के साइड में खड़ी चार-पांच बाइक के पास से तीन युवक निकल कर आए।

- उनके हाथों में भी पिस्टल थी और दहशत के कारण मेरे पैर आगे नहीं बढ़ पाए। बच्ची रोने लगी, बोलीं-पापा गुंडे आ गए..भागो।

- हम किसी तरह दीवार के सहारे जाकर छिप गए। बदमाश फायरिंग करते रहे। इसके बाद जैसे-तैसे करके हम भी वहां से निकले।

दहशत के बीच बाजार से एक पिता अपनी मासूम को लेकर जा रहा है। दहशत के बीच बाजार से एक पिता अपनी मासूम को लेकर जा रहा है।
X
बदमाशों के हाथों में लाठी व सरिए हैं। दहशत के बीच बाजार से एक पिता अपनी मासूम को लेकर जा रहा है।बदमाशों के हाथों में लाठी व सरिए हैं। दहशत के बीच बाजार से एक पिता अपनी मासूम को लेकर जा रहा है।
दहशत के बीच बाजार से एक पिता अपनी मासूम को लेकर जा रहा है।दहशत के बीच बाजार से एक पिता अपनी मासूम को लेकर जा रहा है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..