2 घंटे की मशक्कत से हटाया था अतिक्रमण 2 घंटे बाद फिर सड़क पर दुकानों का सामान

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्रवाई के दौरान दुकानों के बाहर रखा सामान हटाया, लेकिन जैसे ही टीम गई फिर से सामान बाहर सजा दिया गया। वाहन गलत ढंग से खड़े कर दिए।

भास्कर संवाददाता | सीकर

तीन पहले समीक्षा बैठक में प्रभारी सचिव सुबीर कुमार की फटकार के बाद अतिक्रमण हटाने के लिए नगर परिषद और पुलिस का 35 लोगों का जाप्ता सड़क पर उतरा। दो घंटे की मशक्कत से अतिक्रमण भी हटाया, लेकिन जैसा हर बार होता है, शनिवार को भी वहीं हुआ। अतिक्रमण हटाने के बाद जैसे ही जाप्ता लौटा, दो घंंटे में फिर वहीं हालात हो गए। दुकानदारों ने अपना सामान सड़क पर फैला दिया। वाहन बेतरतीब ढ़ंग से सड़क पर पार्क कर दिए।

उल्लेखनीय है कि बुधवार को हुई समीक्षा बैठक में प्रभारी सचिव सुबीर कुमार ने टिप्पणी की थी कि अतिक्रमण और जाम के कारण शहर को नर्क बना दिया है। उन्होंने अधिकारियों को यातायात व्यवस्था ठीक करने के लिए शहर से अतिक्रण हटाने व पार्किंग व्यवस्था सुधारने के अादेश दिए थे।

आज भी अभियान चलाएंगे, नहीं माने तो कार्रवाई होगी : पुलिस
शनिवार को सुबह 10.30 बजे नगर परिषद के अधिकारी-कर्मचारियों का साथ लेकर पुलिस ने काेतवाली थाने के सामने से अतिक्रमण हटाने की शुरुआत की। व्यापारियाें में हड़कंप मच गया। दुकानों के सामने रखे सामान को समेटने लगे। अभियान जाट बाजार सर्किल तक चलाया गया। समझाइश से 500 से ज्यादा दुकानाें के सामने अवैध तरीके से लगे सामान व पार्किंग काे हटाया गया। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के महज दाे घंटे बाद ही व्यापारियाें ने फिर दुकानें जमाना शुरू कर दिया। शाम पांच बजे तक अतिक्रमण व गलत पार्किंग की पहले जैसी स्थिति ही बन गई। ज्यादातर व्यापारियाें ने दुकानाें के सामने त्रिपाल तान दिए। अभियान का नेतृत्व नगर परिषद के एसअाई अमित कुमार ने किया। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दाैरान 20 जवान अारएसी के व 10 जवान काेतवाली पुलिस थाना के तैनात रहे। नगर परिषद के अधिकारी-कर्मचारी भी मौजूद रहे। दैनिक भास्कर ने एसअाई अमित कुमार से कार्रवाई के बाद फिर से अतिक्रमण हो जाने को लेकर सवाल किया तो उनका कहना था कि जहां से कार्रवाई की, उस इलाके में रविवार काे फिर अभियान चलाया जाएगा। इसके बावजूद दुकानदार नहीं माने ताे सख्ती से कार्रवाई की जाएगी।

भास्कर मुहिम
ट्रैफिक जाम

से मिले आजादी
अतिक्रमण मुक्त शहर के लिए उठाने होंगे यह कदम

कार्रवाई के दौरान पुलिस व नगर परिषद के जाब्ते को यह सुनिश्चित करना होगा कि एक बार अतिक्रमण हटाने के बाद फिर से दुकानों के बाहर सड़क पर सामान न सजा लें। इसके लिए अधिकारियों को नियमित मॉनिटरिंग करनी होगी।

चालक गलत तरीके से वाहन खड़े कर देते हैं। इसपर कार्रवाई का प्रावधान भी है, लेकिन इसे लेकर भी जिम्मेदार गंभीर नहीं हैं। इसी वजह से वाहन चालकों में भी कार्रवाई का खौफ नहीं है।

शहर में परमिट से दोगुने रिक्शा चला रहे हैं। ऐसे में विभाग को अभियान चलाकर अवधि पार ऑटो को हटाना होगा। ट्रैफिक जाम का एक बड़ा कारण प्रमुख मार्गों पर सभाएं भी हैं। सभाओं के लिए दूसरा स्थान चिन्हित करना होगा।

खबरें और भी हैं...