पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सुषमा स्वराज के प्रयासों से ही भानुप्रिया जा पाई थी अमेरिका

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के पहले कार्यकाल में सुषमा स्वराज ने विदेश मंत्री के रूप में गहरी छाप छोड़ी। सोशल मीडिया के जरिए जिस किसी ने उनसे मदद की गुहार लगाई, सुषमाजी ने उनकी समस्या को हल करने का हरसंभव प्रयास किया। जनवरी, 2018 में भी सीकर जिले के जलालपुर निवासी भानुप्रिया हरितवाल की मदद के लिए हाथ बढ़ाते हुए उसके अमेरिका जाने के सपने को पूरा किया। दरअसल, श्रीमाधोपुर पंचायत समिति के गांव जलालपुर निवासी भानुप्रिया हरितवाल को अमेरिका की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप मिली थी, लेकिन अमेरिकन एंबेसी से वीजा ना मिलने की वजह से उसे परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। सुषमा स्वराज की पहल के बाद एंबेसी ने भानुप्रिया के लिए वीजा जारी कर दिया। उसके बाद अब भानु ्रिया कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस के कोर्स पढ़कर अपने सपने को पूरा कर रही है। सांसद सुमेधानंद से भानुप्रिया के परिवार वालों ने वीजा दिलाने में मदद मांगी थी। उसके बाद उन्होंने मामले को विदेश मंत्री के सामने उठाया और सुषमा स्वराज के कारण भानु प्रिया को वीजा मिल पाया।

एंट्रेस एग्जाम में हासिल की द्वितीय रैंक : भानुप्रिया ने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के एग्जाम में द्वितीय रैंक हासिल की थी। इसके लिए यूनिवर्सिटी ने उसे चार साल के कंप्यूटर साइंस के कोर्स के लिए स्कॉलरशिप दी थी। अमेरिका में पढ़ाई के लिए भानु प्रिया ने एंबेसी में वीजा के लिए दो बार अप्लाई किया, लेकिन दोनों ही बार उसका वीजा रिजेक्ट कर दिया गया।

राजस्थान सरकार से मिली थी एक करोड़ की स्कॉलरशिप : 2015 में दसवीं के बोर्ड एग्जाम में रैंक हासिल करने पर राजस्थान सरकार ने भानुप्रिया विदेश में पढ़ने के लिए एक करोड़ की स्कॉलरशिप दी थी। 12वीं के बोर्ड एग्जाम पास करने के बाद परीक्षाओं में मेरिट स्कोर प्राप्त कर कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में प्रवेश प्राप्त किया था। भानुप्रिया हरितवाल पुत्री सोहनलाल शर्मा अमेरिका से अपने गांव जलालपुर आई हुई है। फोन से बातचीत करने पर भानुप्रिया ने पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के आकस्मिक निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए बताया कि सुषमा स्वराज की बदौलत ही उसका कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस के कोर्स करने का सपना पूरा हो पाया।

सुषमा स्वराज के प्रयासों से ही भानुप्रिया पढाई के लिए जा पाई थी अमेरिका।

खबरें और भी हैं...