भास्कर फाउंडेशन ने दाे दिन में 600 परिवारों तक पहुंचाई राहत, ताकि कोई भूखा न सोए

Sikar News - सरकारी राहत से अनजान ऑटो चालक के पास नहीं था आटा लाॅकडाउन के बीच जरूरतमंद परिवाराें के पास राशन सामग्री खत्म...

Apr 05, 2020, 09:51 AM IST
सरकारी राहत से अनजान ऑटो चालक के पास नहीं था आटा

लाॅकडाउन के बीच जरूरतमंद परिवाराें के पास राशन सामग्री खत्म हाेने लगी है। कई परिवारों तक प्रशासन और सामाजिक संगठन भी नहीं पहुंच पा रहे हैं। शहर के जागरुक लोगों की मदद से दैनिक भास्कर फाउंडेशन ऐसे परिवारों तक पहुंचा और राशन वितरित करवाई। दो दिन में शहर और नजदीकी गांवों में 16 किलो राशन सामग्री के 600 किट वितरित करवाए गए। सेवा के यह क्रम अागे भी जारी रहेगा।

लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंस की पालना को प्राथमिकता में रखते हुए शहर के जागरुक लोगों, जनप्रतिनिधियों और सामाजिक संगठनों से जुड़े लोगों से जरूरतमंद परिवारों का सर्वे करवाया गया। इसमें कई परिवार ऐसे सामने आए। जिनमें देखभाल करने वाला कोई पुरुष सदस्य नहीं है। बर्तन-पौछा या सिलाई का काम कर गुजारा करने वाली इन महिलाओं के पास लॉकडाउन में काम नहीं है। इन परिवारों के पास अभी तक किसी भी स्तर से मदद नहीं पहुंची। इनमें से कई परिवार स्वाभिमान और संकोच के कारण कंट्रोल रूप पर भी सूचना तक नहीं दे पा रहे हैं। भास्कर ने सर्वे करवाकर इन परिवारों तक मदद पहुंचाई। पार्षदों, सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं की मदद से भास्कर फाउंडेशन ने दो दिन में देवीपुरा कोठी, सांवली रोड, पोलोग्राउंड, धोद रोड, चांदपोल क्षेत्र, सालासर रोड, फतेहपुर रोड, कोर्ट के पीछे, नॉर्थ चौकी क्षेत्र, रीको एरिया, कहारों की ढाणी, किकरालिया सहित अन्य इलाकों में राशन सामग्री वितरित करवाई। राशन वितरण में उपसभापति अशोक चौधरी, नेता प्रतिपक्ष अशोक चौधरी, सुरेश सैनी, सुनील सबल, विनोद अग्रवाल, रामगोपाल खंडेलवाल, संपत सिंह आदि ने मदद की।

भास्कर अपील : अपने आसपास जरूरतमंद परिवारों की पहचान कर पहुंचाएं मदद

शहर में बड़ी संख्या में सामाजिक संगठन, भामाशाह और प्रशासन द्वारा राशन सामग्री मुहैया करवाई जा रही है। इस वक्त ज्यादातर सामग्री कच्ची बस्ती जैसे इलाकों में वितरित हो रही है। इस कवायद के बावजूद कई जरूरतमंद परिवारों तक मदद नहीं पहुंच पा रहा है। लॉकडाउन के बीच जागरुक नागरिक जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ जाती है कि हम ऐसे परिवारों की पहचान करें। अपने-अपने स्तर पर मदद नहीं हो सके तो इनकी सूचना प्रशासन और सामाजिक संगठनों तक पहुंचाएं। ताकि कोई भूखा न सोए।

किट में एक सप्ताह का राशन : दैनिक भास्कर फाउंडेशन की ओर से पांच किलो आटा, पांच किलो चावल, एक किलो तेल, दो किलो दाल, हल्दी, मिर्च, नमक, आलू आदि सामग्री राशन किट तैयार किया गया है। पांच सदस्यों वाला परिवार इस किट से करीब एक सप्ताह तक भोजन बना सकता है।

यूं सामने आए जरूरतमंद परिवार


प्रिंस स्कूल पास रहने वाले ऑटो चालक प्रकाश का कहना है कि लॉकडाउन के बाद से आमदनी बंद है। भोजन बनाने के लिए आटा भी खत्म हो चुका है। पढा-लिखा नहीं हूं। प|ी सहित परिवार में चार सदस्य है। इन्हें यह तक पता नहीं कि क्या प्रशासन राशन सामग्री भी पहुंचा रहा है। शनिवार को इन्हें फाउंडेशन की ओर से राशन किट मुहैया करवाया गया।

1 महीने से बेरोजगार नेपाली परिवार के पास पहली बार पहुंची राहत

पोलो ग्राउंड में रहने वाले 10 लोगों के नेपाली परिवार के पास अभी तक नगर परिषद की टीम नहीं पहुंच पाई। परिवार के मुखिया ने प्रेम बहादुर ने बताया कि वे बिल्डिंगों में चौकीदारी का काम करते हैं। लेकिन अभी काम नहीं मिल रहा है। खाने की सामग्री भी खत्म हो चुकी है। राशन की दुकान से भी सामग्री नहीं मिल रही है। गुरुवार को भास्कर टीम ने इन्हें राशन किट मुहैया करवाया।

सीकर. भास्कर फाउंडेशन द्वारा तैयार राशन किट वितरित करते हुए उपसभापति अशोक चौधरी। दो दिन के दौरान कई जरूरतमंदों को राशन किट उपलब्ध कराए गए। भास्कर फाउंडेशन की ओर से सेवा का यह क्रम आगे भी जारी रहेगा।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना