बारिश से जौ और चने की कटी हुई फसल में नुकसान, जिले में आज भी बौछारों की संभावना

Sikar News - एक दिन पहले बिगड़े मौसम ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। एक तरफ लाॅक डाउन में बाजार बंद है तो दूसरी तरफ बेमौसम बारिश...

Mar 27, 2020, 09:50 AM IST
Sikar News - rajasthan news damage to harvested crops of barley and gram rain likely in the district even today

एक दिन पहले बिगड़े मौसम ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। एक तरफ लाॅक डाउन में बाजार बंद है तो दूसरी तरफ बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान ने परेशानी बढ़ा दी। बुधवार आधी रात शुरू हुई बारिश का दौर गुरुवार को दिनभर जारी रहा। खेतों में कटी हुई जाै व सरसों की 90 हजार हैक्टेयर में नुकसान होने की बात सामने आ रही है।

जिले में किसानों ने 240000 हेक्टेयर में रबी फसल की बुवाई की है। इसमें सबसे ज्यादा 86000 हेक्टेयर गेहूं, 56 हजार हैक्टेयर चना, 37 हजार हैक्टेयर सरसों, 34 हजार हैक्टेयर जौ व 8500 हेक्टेयर में तारामीरा की बुवाई की है। जौ और चना की फसल पक चुकी है। ज्यादातर खेतों में इसकी कटाई का काम आखिरी पड़ाव में है। कटी हुई फसल भीगने से दाने और चारा बदरंग हो जाता है। किसानों को पूरे दाम नहीं मिल पाते हैं। एक्सपर्ट बताते हैं कि तीन मौसम नहीं खुला तो दाने वापस अंकुरित हो सकते हैं। इधर, गुरुवार दूसरे रोज भी दिनभर बादलों की आवाजाही के बीच रिमझिम का दौर बना रहा। फतेहपुर में गुरुवार को अधिकतम 27.5 व न्यूनतम 18.0 दर्ज किया गया।

किसानों को सलाह : मौसम साफ होने पर ही करें खड़ी फसलों की कटाई

कृषि उपनिदेशक शिवजी राम कटारिया के अनुसार मौसम खुलने के बाद ही फसलों की कटाई करें। गीली जमीन पर कटाई करेंगे तो पौधे की नमी सूखने में परेशानी आएगी। नमी से दाने गुणवत्ता खराब होने की आशंका बढ़ जाएगी।

मैथी सहित अन्य फसलों की कटाई अटकी : गेहूं, मैथी, सरसों सहित अन्य फसलों की कटाई बीच में ही रुक गई है। ज्यादा बारिश से पैदावार भी प्रभावित होगी। खाटू, श्रीमाधोपुर, लक्ष्मणगढ़, दातारामगढ़, पाटन सहित आस पास के क्षेत्रों में ज्यादा नुकसान हुआ है

सबसे ज्यादा जाै में खराबा : एक्सपर्ट ओपी मिश्रा 2 दिन की बारिश में सबसे ज्यादा खराबा जौ की फसल में माना जा रहा है। क्योंकि जिलेभर में करीब 34000 हेक्टेयर में जौ की फसलें कटी हुई है। किसान अनाज निकालने की तैयारी में थे, लेकिन बिगड़े मौसम ने इसे नुकसान में बदल दिया। दाने की गुणवत्ता फीकी पड़ने और चारा खराब होने की संभावना बनी हुई है।

क्लेम के लिए अलर्ट रहें : प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की गाइडलाइन के मुताबिक कटी हुई फसलों में ओलावृष्टि व बारिश से खराबा हो रहा है तो तत्काल बीमा कंपनी, कृषि विभाग टोल फ्री नंबर या संबंधित बैंक को शिकायत करें। 72 घंटे टाइम लाइन तय है।

आगे क्या : आज भी इसी तरह रहेगा मौसम का मिजाज

मौसम के जानकारों के अनुसार शुक्रवार को भी मौसम इसी तरह बना रहने की संभावना है। 24 घंटे में गरज के साथ ओलावृष्टि व बारिश हो सकती है। सीकर, नागौर, चूरू, झुंझुनूं सहित अन्य जिलों में बारिश की संभावना है।

कांवट. घसीपुरा में बारिश के बाद भीगी जौ की फसल की पुलियों को पलटते हुए किसान। सबसे ज्यादा नुकसान जौ में हुआ है।

X
Sikar News - rajasthan news damage to harvested crops of barley and gram rain likely in the district even today

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना