जेनेटिक्स नहीं, मानसिकता से तय होता है खान-पान

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 03:45 AM IST

Sikar News - Âग्रेचेन रेनॉल्ड्स, स्तंभकार एक अध्ययन में पता चला है कि यदि आप लोगों से कहें कि उनमें कुछ स्वास्थ्य संबंधी...

Chala News - rajasthan news genetics is not determined by the mindset
Âग्रेचेन रेनॉल्ड्स, स्तंभकार

एक अध्ययन में पता चला है कि यदि आप लोगों से कहें कि उनमें कुछ स्वास्थ्य संबंधी विशेषताओं के जेनेटिक गुण हैं जैसे व्यायाम करने की कम क्षमता या जरूरत से ज्यादा खाने की प्रवृत्ति तो उनके शरीर उसके मुताबिक प्रतिक्रिया देने लगते हैं। फिर चाहे उनके डीएनए में संबंधित जीन ही न हो। स्टडी से सवाल उठे हैं कि हमारे जीन्स हमारी सेहत को कितना प्रभावित करते हैं और क्या कुछ मामलों में हमारे शरीर. हमारी क्षमताओं और सीमाओं पर हमारी मान्यताएं ज्यादा असर डालती हैं?

इन दिनों डीएनए टेस्टिंग का ट्रेंड है। जेनेटिक टेस्टिंग सेवाएं वादा करती हैं कि वे बता सकती हैं कि क्या हमारे शरीर में वजन बढ़ने की प्रवृत्ति है, क्या हमारा शरीर व्यायाम को उचित प्रतिसाद देगा? क्या यह विभिन्न खाद्य पदार्थों को कारगर ढंग से पचा सकता है? क्या हमारे सामने बहुत सारी मेडिकल कंडिशन को लेकर ज्यादा या कम जोखिम है? लेकिन अब इनमें से कई दावों की अचूकता संदेह के घेरे में है। जेनेटिक्स का अध्ययन करने वाले ज्यादातर वैज्ञानिक मानते हैं कि सेहत संबंधी जीन के प्रकारों को अब तक ठीक से समझा नहीं गया है। इस बारे में तो और भी कम मालूम है कि किसी जेनेटिक अथवा सेहत व फिटनेस की समस्या पर जोखिम कम या ज्यादा होने का पता चलने का मनोवैज्ञानिक असर क्या होता है और इसका बाद में हमारे व्यवहार का हमारी फिजियोलॉजी पर क्या असर हो सकता है। ‘नेचर’ पत्रिका में दिसंबर में प्रकाशित इस अध्ययन में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने महिला-पुरुषों के एक समूह को थोड़े वक्त के लिए उनके जेनेटिक्स के बारे में गलत जानकारी दी। जिन लोगों से कहा गया कि उनके जीन्स के कारण वे व्यायाम में जल्दी थक जाएंगे तो वे जल्दी थक गए और उनके फेफेड़ों द्वारा ली गई ऑक्सीजन और उनकी क्षमता काफी कम हो गई।

डाइट ग्रपु में जिन लोगों से गलत ढंग से कहा कि उनमें संतुष्टि देने वाली जीन है, उन्हें पहले की तुलना में जल्दी ही पेट भरा हुआ महसूस हुआ। उनके शरीर ने वे हार्मोन ज्यादा छोड़ा, जो संतुष्टि का अहसास देते हैं। दोनों मामलों में उनकी मनोवैज्ञानिक मान्यताओं ने परीक्षण के नतीजों को प्रभावित किया। स्टेनफोर्ड के शोधकर्ता ब्रेडली टर्नवाल्ड कहते हैं, ‘ हमारी मानसिकता या मानसिक अपेक्षाएं हमारे शरीर की प्रतिक्रियाएं तय करने में हमारे डीएनए जितनी ही या उससे अधिक भूमिका निभाती हैं।’

© The New York Times

दैनिक भास्कर से विशेष अनुबंध के तहत

X
Chala News - rajasthan news genetics is not determined by the mindset
COMMENT