• Hindi News
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Chala News rajasthan news india39s fourth largest auto industry in india in a challenging environment plenty of opportunities for youth

दुनिया की चौथी सबसे बड़ी ऑटो इंडस्ट्री भारत की, चुनौतीपूर्ण माहौल में भी युवाओं के लिए भरपूर मौके

Sikar News - बीएस-6 में ट्रांजिशन को लेकर बने माहौल की वजह से देश का ऑटो सेक्टर हालिया महीनों में बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं कर...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 08:01 AM IST
Chala News - rajasthan news india39s fourth largest auto industry in india in a challenging environment plenty of opportunities for youth
बीएस-6 में ट्रांजिशन को लेकर बने माहौल की वजह से देश का ऑटो सेक्टर हालिया महीनों में बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाया है। इसके बावजूद ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री भारत की सबसे कामयाब इंडस्ट्री में से एक मानी जाती है। टीवीएस मोटर्स इस सेक्टर की बड़ी कंपनियों में शामिल है। कंपनी के एचआर सीनियर वाइस प्रेसिडेंट आर आनंदकृष्णन युवाओं को बता रहे हैं इस सेक्टर में रोजगार पाने के तरीके।


सीनियर वाइस प्रेसीडेंट, कॉरपोरेट एचआर, एलएंडटी


हमारे पास विभिन्न तरह की आवश्यकताओं के लिए अलग-अलग तरह की क्षमता वाले लोग है। हम भविष्य के लिए प्रतिभाओं को अपने से जोड़ते हैं। डिप्लोमा, ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट इंजीनियरों के युवाओं को लेते हैं। ये छात्र अपने तकनीकी और साइकोमेट्रिक दोनों परीक्षणों से गुजरते हैं। इसी तरह, हम इंटर्नशिप प्रोग्राम चलाते हैं। हम यह भी सुनिश्चित करते हैं कि कर्मचारी हमारे मूल्यों और काम के तरीकों को समझें।


सबसे महत्वपूर्ण कदम कंपनी पर शोध करना है। उसके बारे में जानना जैसे कि कंपनी की संस्कृति, मिशन और मूल्य। कंपनियां ऐसे उम्मीदवारों की तलाश में हैं जो अपनी संस्कृति के अनुकूल हों। इसलिए वह उम्मीदवार ज्यादा फिट बैठेगा जो कार्य संस्कृति को समझने के साथ-साथ तालमेल बैठा सके। हायरिंग मैनेजर के लिंक्डइन पेज पर जाकर भी उम्मीदवार साक्षात्कार के लिए तैयारी कर सकते हैं।




पूरी भर्ती और चयन रणनीति बदल गई है और एक नए रूप में विकसित हुई है, जहां फोकस शीर्ष प्रतिभाओं को आकर्षित करना है। इंटरनेट आधारित तकनीकों और विभिन्न अन्य सॉफ्टवेयर और सूचना प्रणालियों ने नए रास्ते प्रदान किए हैं। इसने कई संगठनों को एचआर की नई तकनीकों को अपनाने के लिए प्रेरित किया है।


एआई मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर समेत लगभग हर प्रमुख उद्योग में मौजूद है। इससे एचआर का तरीका बदल रहा है और एचआर कार्यों को बेहतर बनाने के लिए महत्वपूर्ण अवसर प्रदान करता है। भर्ती, प्रतिभा अधिग्रहण, पेरोल, रिपोर्टिंग आदि में बदलाव आया है। एआई के जरिए उम्मीदवार मूल्यांकन में आसानी हुई है। यदि कंपनियां एचआर कार्यों के लिए एआई के उपयोग को अपनाना और सीखना शुरू नहीं करती हैं, तो वे अपनी प्रतिस्पर्धात्मक बढ़त खोने का जोखिम उठा रहे हैं। कर्मचारियों को एआई के अनुकूल होने के लिए रिस्किलिंग की आवश्यकता हो सकती है।


हम उम्र, वरिष्ठता या लिंग से ऊपर हर व्यक्ति के ज्ञान, अनुभव और कौशल को सुनिश्चित करते हैं, ताकि सभी उम्र के कर्मचारियों को एक दूसरे से सिखाने, साझा करने और सीखने का अवसर मिले। हम लगातार कार्यस्थल के माहौल से मेल खाने वाले कार्यक्रमों, नीतियों और प्रथाओं को विकसित करने पर नवाचार कर रहे हैं। कंपनी औपचारिक और अनौपचारिक तरीके से अपने कर्मचारियों से भावनात्मक रूप से जुड़ते हैं। कोचिंग और रिवर्स मेंटरिंग, टाउन हॉल आदि का आयोजन करते हैं।

कॉमर्शियल वाहनों के उत्पादन में भारत सातवें स्थान पर











इनमें रोजगार के अवसर


भारतीय ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री को पिछले 19 साल में मिला 2 हजार करोड़ डॉलर का निवेश

Chala News - rajasthan news india39s fourth largest auto industry in india in a challenging environment plenty of opportunities for youth
X
Chala News - rajasthan news india39s fourth largest auto industry in india in a challenging environment plenty of opportunities for youth
Chala News - rajasthan news india39s fourth largest auto industry in india in a challenging environment plenty of opportunities for youth
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना