आइनॉक्स ने लग्ज़री, टेक्नोलॉजी, सर्विस को रखा सर्वोपरी

Sikar News - आइनॉक्स ग्रुप की शुरुआत लगभग पांच दशक पहले जिस तरह के क्षेत्र में हुई थी, उसका मनोरंजन की दुनिया से दूर-दूर तक का...

Oct 13, 2019, 08:01 AM IST
आइनॉक्स ग्रुप की शुरुआत लगभग पांच दशक पहले जिस तरह के क्षेत्र में हुई थी, उसका मनोरंजन की दुनिया से दूर-दूर तक का नाता नहीं था। 1999 में आइनॉक्स लीजर लिमिटेड से इसकी शुरुआत हुई और आज देश में मौजूद टॉप मल्टीप्लेक्सेस की चेन में इन्हें गिना जाता है। 2002 में ग्रुप को संभालने वाले जैन परिवार ने मल्टीप्लेक्स बिजनेस में आने से पहले सैकड़ों बिजनेस प्लान पढ़े लेकिन उन्हें इसी में ज्यादा दम दिखा। आइनॉक्स ने शुरुआत दो मल्टीप्लेक्स से की थी- पुणे और वड़ोदरा। इनके चुनाव के पीछे वजह थी कि कंपनी का यहां केमिकल और गैस का कामकाज था। जब इस काम का विस्तार शुरू किया गया तो विचार यह था कि जरूरत हुई तो हाथ पीछे खींचने का विकल्प तो है ही। लेकिन इसकी नौबत कभी नहीं आई, भारतीय अर्थव्यवस्था के साथ इसका फैलाव होता चला गया। 2003 में ही कंपनी ने 59 करोड़ के निवेश के साथ साउथ मुंबई के नरिमन पॉइंट के सीआर2 मॉल में अपनी सबसे ज्यादा कमाई देने वाली प्रॉपर्टी खरीदी।

कंपनी ने हमेशा तीन बातों पर ध्यान दिया। ये थीं लग्जरी, टेक्नोलॉजी और सर्विस। इन तीनों पर ध्यान देते हुए नए सिनेमा फॉर्मेट तैयार किए गए। नए एफएंडबी मेन्यू बनाए गए। स्टाफ की यूनिफॉर्म तक पर निवेश किया गया। इंटीरिअर बेहतर किए गए। इसका असर यह हुआ कि लोगों ने इन बातों पर ध्यान देना शुरू किया और खासी माउथ पब्लिसिटी मिली।

2006 में ‘कलकत्ता सिने’, फिर 2010 में ‘फेम इंडिया’ और 2014 में ‘सत्यम’ जैसी मल्टीप्लेक्स चेन खरीदने के बाद इनकी स्क्रीन्स की संख्या काफी बढ़ चुकी थी। इस साल अप्रैल तक इनके पास 134 मल्टीप्लेक्सेस में 546 स्क्रीन्स थी। अगले कुछ साल में यह संख्या और बढ़ने वाली है क्योंकि हर छोटे-बड़े शहर में कंपनी मौजूदगी दर्ज करवाना चाह रही है। फिलहाल 66 से ज्यादा शहरों में ये हाजि़र है।

यह भी जानें




X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना