किशोर बांध में डूबा, परिजन बाेले-डुबाेकर मार दिया, अस्पताल में हंगामा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | नीमकाथाना/पाटन

पाटन के रायपुर बांध में डूबने से शनिवार को किशोर की मौत हो गई। मृतक भगेगा निवासी 15 वर्षीय आशीष गुर्जर पड़ाेसियों के साथ बुजुर्ग महिला की अस्थियों का विसर्जन करने रायपुर बांध गया था। आरोप है कि उसे घर से बिना बताए लेकर गए थे। मृतक के चचेरे भाई दीपेन्द्र गुर्जर ने पाटन थाने में हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। रिपोर्ट में बताया है कि आशीष को बांध के पानी में डुबोकर मारा गया है। मामले में भगेगा निवासी पप्पूसिंह, बहादुरसिंह, बबलूसिंह उर्फ डब्बू, चेतनसिंह, वीरेन्द्रसिंह, नरेन्द्रसिंह, सोनूसिंह, मोनूसिंह, किशोरसिंह, नीशुसिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। पाटन थानाधिकारी नरेन्द्र भढ़ाना ने बताया कि परिजनों ने हत्या की रिपोर्ट दी है। रिपोर्ट में बताया गया है कि आरोपी परिवार के लाेग ताई की अस्थियों को रायपुर बांध में विसर्जन करने गए थे। वहां आशीष को भी ले गए। उसे वहां बांध के पानी में डुबो दिया। मौत की सूचना भी दो घंटे तक नहीं दी गई।

आशीष

भास्कर न्यूज | नीमकाथाना/पाटन

पाटन के रायपुर बांध में डूबने से शनिवार को किशोर की मौत हो गई। मृतक भगेगा निवासी 15 वर्षीय आशीष गुर्जर पड़ाेसियों के साथ बुजुर्ग महिला की अस्थियों का विसर्जन करने रायपुर बांध गया था। आरोप है कि उसे घर से बिना बताए लेकर गए थे। मृतक के चचेरे भाई दीपेन्द्र गुर्जर ने पाटन थाने में हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। रिपोर्ट में बताया है कि आशीष को बांध के पानी में डुबोकर मारा गया है। मामले में भगेगा निवासी पप्पूसिंह, बहादुरसिंह, बबलूसिंह उर्फ डब्बू, चेतनसिंह, वीरेन्द्रसिंह, नरेन्द्रसिंह, सोनूसिंह, मोनूसिंह, किशोरसिंह, नीशुसिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। पाटन थानाधिकारी नरेन्द्र भढ़ाना ने बताया कि परिजनों ने हत्या की रिपोर्ट दी है। रिपोर्ट में बताया गया है कि आरोपी परिवार के लाेग ताई की अस्थियों को रायपुर बांध में विसर्जन करने गए थे। वहां आशीष को भी ले गए। उसे वहां बांध के पानी में डुबो दिया। मौत की सूचना भी दो घंटे तक नहीं दी गई।

नरेगाकर्मी दौड़ी, तैराक को बुलाया, लेकिन आशीष को बचा नहीं सके

प्रत्यक्षदर्शी लक्ष्मणसिंह ने बताया कि उनकी माता राजबाई की मौत 21 जून को हुई थी। दो जुलाई को वे राजेन्द्रसिंह के साथ उनकी अस्थियां विसर्जन करने रायपुर बांध गए थे। पीछे से परिवार के युवकों के साथ आशीष भी आ गया। विसर्जन के दौरान आशीष का पैर फिसल गया। वह दलदल में फंस गया। शोर करने पर नरेगा की महिलाएं दौड़कर आई। उन्होंने तैराक के नंबर दिए। फोन करते ही तैराक आया। उन्होंने आशीष को निकाला, लेकिन तब तक उसने दम तोड़ दिया था।

कुश्ती में जीत चुका मेडल: आशीष नाैवीं कक्षा का विद्यार्थी था। वह कुश्ती का अच्छा खिलाड़ी था। परिजनों ने बताया कि उसने हाल ही में हुई स्पर्धा में मेडल जीते थे।

अस्पताल में आपस में उलझे दाेनाें पक्ष

किशाेर की मौत के बाद कपिल अस्पताल में छह घंटे तक हंगामा होता रहा। दोनों पक्षाें के बीच विवाद हो गया। वे आपस में उलझ गए। इधर, मृतक के परिजनों ने शव लेने से इनकार कर दिया। इससे माहौल बिगड़ गया। परिजनों ने हत्या के आरोप लगाए। पुलिस ने आधा दर्जन युवकों को हिरासत में ले लिया। उनसे पूछताछ की जा रही है।

खबरें और भी हैं...