राजस्थान गोसेवा समिति ने सीमा सुरक्षा बल के साथ गोतस्करी राेकने के लिए बैठक की

Sikar News - भास्कर न्यूज |फतेहपुर/जोधपुर राजस्थान गोसेवा समिति का एक प्रतिनिधि मंडल जब से बंगाल सीमा का दौरा कर आया था, तब से...

Dec 04, 2019, 09:22 AM IST
भास्कर न्यूज |फतेहपुर/जोधपुर

राजस्थान गोसेवा समिति का एक प्रतिनिधि मंडल जब से बंगाल सीमा का दौरा कर आया था, तब से वहां तस्करों से छुड़ाए गए गोवंश की पीड़ा से पीड़ित था, लेकिन उन्हें वहां रखकर सेवा करना व राजस्थान लाना दोनों ही चुनौतीपूर्ण कार्य था। सीमा सुरक्षा बल के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों से सम्पर्क करने के बाद तय हुआ कि राजस्थान गोसेवा समिति व सीमा सुरक्षा बल की एक संयुक्त मीटिंग रखी जाए।

दो दिसम्बर को फ्रंटियर बीएसएफ मुख्यालय जोधपुर में मीटिंग हुई। इसमें सीमा सुरक्षा बल के अमित लोढ़ा महानिरक्षक (आईजी), एमपीएस भाटी उपमहानिरिक्षक (डीआईजी), केएस राजावत उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) व राजस्थान गोसमिति के प्रदेशाध्यक्ष महन्त दिनेशगिरि, वरिष्ठ उपाध्यक्ष रघुनाथ भारती, संगठन मंत्री रामचंद्र नेहरा, महामंत्री रघुनाथ सिंह शिवतलाव व सीकर जिला अध्यक्ष बीपी क्याल शामिल थे। लम्बे दौर की चली मीटिंग में बॉर्डर पर तस्करो से छुड़ाए गए गोवंश की व्यवस्था पर विस्तार से चर्चा हुई और तय हुआ कि उसमें से कुछ गोवंश को राजस्थान लाया जाए। महन्त दिनेशगिरि ने कहा कि गोवंश राजस्थान आता है तो हम लेने को तैयार हैं, पर चुनौती है उनको यहां लाना, जिसके लिए बीएसएफ अपने स्तर पर कुछ व्यवस्था करें। अमित लोढ़ा ने तुरंत दिल्ली डीजी से फोन द्वारा वार्ता की और सहमति बनी कि दो हजार गोवंश को ट्रेन से लाने की व्यवस्था बीएसएफ करेगी।

अंत में गोवंश को कैसे लाया जाएगा, उसकी चारे-पानी व दवाई आदि की व्यवस्था कैसे होगी आदि सबका एक ड्राफ तैयार हुआ। उस पर समिति व बीएसएफ के अधिकारियों के हस्ताक्षर हुए। तत्काल उस गोवंश को रखने के लिए पथमेड़ा गोशाला में सम्पर्क किया गया तो उन्होंने आगे बढ़कर इस गोवंश को लेने के लिए अपनी सहमति प्रदान की। महन्त दिनेशगिरि ने बताया कि जब से बंगाल बॉर्डर के गोवंश के पीड़ा की स्थिति देखी थी, तब से इस समस्या के समाधान की चुनौती बनी हुई थी परन्तु बीएसएफ के अधिकारियों के साथ जिस सौहार्दपूर्ण वातावरण में वार्ता हुई, उससे पूर्ण विश्वास हुआ कि चुनौती कितनी ही बड़ी हो पर दृढ़ संकल्प के साथ मिलकर कार्य करते हैं तो समाधान अवश्य निकलता है। राजस्थान गोसेवा समिति के मेवाड़ प्रभारी सुमन सुलभ महाराज को तस्करों से छुड़ाए गए आने वाले कमजोर गोवंश को रहने के स्थान पर चारा, पानी, दवाई, पौष्टिक आहार, सर्दी से बचाव आदि की व्यवस्था जल्द करवाने की जिम्मेदारी सौंपी गई। राजस्थान गोसेवा समिति की तरफ से बीएसएफ के अधिकारियों व जवानों को भारत माता की रक्षा के साथ गोमाता की रक्षा करने के लिए धन्यवाद दिया गया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना