पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हिंदी के कुछ सवाल आसान, कुछ ने स्टूडेंट्स को उलझाया

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12वीं की हिंदी की परीक्षा शनिवार को आयोजित हुई। राजकीय मारू बालिका विद्यालय की प्रधानाचार्य विनीता शर्मा ने बताया कि प्रश्नपत्र संतुलित रहा लेकिन कुछ सवालों ने विद्यार्थियों को उलझाया भी। कुछ प्रश्न कठिन तो कुछ सरल प्रकार के भी थे। प्री बोर्ड परीक्षा के पेपर में से भी एक-दो सवाल आए जो कि विद्यार्थियों ने आसानी से हल कर दिए। पद्ध व गद्य भी ज्यादा कठिन नहीं आया। निबंध भी आसान रहा। व्याकरण के सवाल सामान्य आए थे। अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद दो नंबर का था जो परीक्षार्थियों को थोड़ा टफ लगा।

प्रधानाचार्य विनीता शर्मा ने बताया कि पेपर में अाठवां सवाल राजस्थान सरकार के वित्त विभाग (अाय व्ययक) अनुभाग की अाेर से विविध प्रशासनिक विभागाें में मितव्ययिता अपनाने हेतु एक परिपत्र लिखिए। यह दो अंक का सवाल आउट ऑफ सिलेबस था। सिलेबस में अर्ध सरकारी पत्र, निविदा, विज्ञप्ति, ज्ञापन व अधिसूचना ही है जबकि परिपत्र बच्चों को पढ़ाया ही नहीं गया। हालांकि होशियार विद्यार्थियों ने यह किया। इसमें ज्यादातर विद्यार्थियों के अंक भी कटेंगे। उन्होंने बताया कि बोर्ड परीक्षाओं में हिंदी व अंग्रेजी के प्रश्नपत्र में ही अंक कम आते हैं जिससे कि विद्यार्थी को स्कोरिंग अंक नहीं मिल पाते हैं। हिंदी में तो विद्यार्थियों के सबसे ज्यादा अंक कटते हैं ऐसे में इस बार विद्यार्थियों को हिंदी के पेपर में भी अच्छे अंक मिलेंगे। इससे प्रतिशतता बढ़ेंगे। मैरिट में आने वाले विद्यार्थियों भी हिंदी में स्काेरिंग मार्क्स अर्जित कर पाएंगे।

सभी स्टूडेंट्स को बोनस अंक देने की मांग की

निजी शिक्षण संस्थान संघ, सीकर के जिलाध्यक्ष बीएल रणवां ने बताया कि हिंदी के प्रश्न पत्र में प्रश्न संख्या 8 शिक्षा विभाग द्वारा जारी किए गए पाठ्यक्रम से बाहर है। निजी सचिव भरत शर्मा ने हिंदी एक्सपर्ट मोहन लाल बाजिया एवं एक्सपर्ट सहित विद्यार्थियों से राय लेकर सम्पूर्ण राजस्थान के परीक्षार्थियों को बोनस अंक दिलवाने की मांग की है।

शनिवार को मारू बालिका सीसै स्कूल से परीक्षा देकर बाहर आती छात्राएं।
खबरें और भी हैं...