पंक्चर ठीक करते हुए प्रैक्टिस की डांस रियलिटी शो में जजों का दिल जीता

Sikar News - शहर के शाकिर हुसैन ने हाल ही अपने कजन रेहान के साथ डांस रियलिटी शाे डांस प्लस सीजन-5 में डू-इट डांस के छठे राउंड में...

Nov 22, 2019, 11:06 AM IST
Sikar News - rajasthan news won judges39 hearts in dance reality show of practice by fixing puncture
शहर के शाकिर हुसैन ने हाल ही अपने कजन रेहान के साथ डांस रियलिटी शाे डांस प्लस सीजन-5 में डू-इट डांस के छठे राउंड में पर्पल ट्रॉफी जीत कर शहर का नाम रोशन किया है। ये दोनों डांस प्लस के मेगा राउंड तक पहुंचने वाले शहर के पहले डांसर्स बन गए हैं , लेकिन इस मुकाम तक पहुंचना भी उनके लिए संघर्ष से कम नहीं था। दैनिक भास्कर से एक्सक्लूसिव बातचीत में उन्होंने अपने सफर को साझा किया। शाकिर ने बताया कि वे 2016 में डांस प्लस के पहले सीजन के पहले राउंड में ही वे बाहर हो गए थे। फिर तीसरे सीजन के लिए प्रेक्टिस की और सैकंड राउंड तक पहुंचे। डांस प्लस के ही चौथे सीजन में थर्ड राउंड तक जगह बनाई। इसके बाद एक साल तक मुंबई में ही रह कर डांस सीखा। मुंबई रहने के दौरान पिता अख्तर हुसैन ने मेरी पंचर की दुकान को खुद संभाला। इस बीच मेरे पास वहां सिर्फ खाने-पीने तक के पैसे ही बचते थे। शाकिर ने बताया कि चाचा के आठ साल के बेटे रेहान को भी मेरी तरह डांस का शौक है। वह घर पर ही टीवी पर देखकर काफी स्टेप्स सीख गया था। इसलिए रेहान को भी मुंबई बुला लिया। फिर इसी साल डांस प्लस के सीजन- 5 मेें हमने पांच राउंड में जगह बनाई और छठे राउंड में पर्पल ट्रॉफी हासिल की। शो में वे पुनीत पाठक की टीम में थे। उनका डांस स्टार प्लस पर 17 नवंबर के एपिसोड में प्रसारित हुआ है। जिसमें कोरियोग्राफर रेमो, करिश्मा, धर्मेश और पुनीत ने खूब सराहना की।

शाकिर ने बताया कि वे पांच भाइयों में तीसरे नंबर के हैं। घर की आर्थिक िस्थति ठीक नहीं है। परिवार का पुश्तैनी काम चुनाई है। पिताजी और भाई चुनाई का कार्य करते हैं। मुझसे बड़ा भाई को शौकिया तौर पर डांस का शौक था। उसे देख मुझे भी डांस का शौक हुआ। आठ साल की उम्र से टीवी पर डांस रियलिटी शो देखकर खुद डांस करने लगा। इस बीच काम के कारण भाई का डांस तो छूट गया, लेकिन मैंने डांस प्रैक्टिस जारी रखी। शाकिर ने बताया कि जब 15 साल का हुआ तो घर की स्थिति को देखते पढ़ाई छोड़कर 2 साल पंचर की दुकान पर काम किया। फिर फतहपुर रोड पर खुद की पंचर की दुकान शुरू की। इस दौरान पंचर का कार्य करने के साथ दिन में खली समय में टायरों पर जंप करते हुए डांस प्रेक्टिस करता था। इसके बाद शहर के फिट फॉर डांस एकेडमी में डांस सीखता था। यहां भी एकेडमी के ओनर निेतेश जोशी का पूरा सहयोग मिला।

टायर पर जंप करके करता था प्रैक्टिस

भास्कर संवाददाता | सीकर

शहर के शाकिर हुसैन ने हाल ही अपने कजन रेहान के साथ डांस रियलिटी शाे डांस प्लस सीजन-5 में डू-इट डांस के छठे राउंड में पर्पल ट्रॉफी जीत कर शहर का नाम रोशन किया है। ये दोनों डांस प्लस के मेगा राउंड तक पहुंचने वाले शहर के पहले डांसर्स बन गए हैं , लेकिन इस मुकाम तक पहुंचना भी उनके लिए संघर्ष से कम नहीं था। दैनिक भास्कर से एक्सक्लूसिव बातचीत में उन्होंने अपने सफर को साझा किया। शाकिर ने बताया कि वे 2016 में डांस प्लस के पहले सीजन के पहले राउंड में ही वे बाहर हो गए थे। फिर तीसरे सीजन के लिए प्रेक्टिस की और सैकंड राउंड तक पहुंचे। डांस प्लस के ही चौथे सीजन में थर्ड राउंड तक जगह बनाई। इसके बाद एक साल तक मुंबई में ही रह कर डांस सीखा। मुंबई रहने के दौरान पिता अख्तर हुसैन ने मेरी पंचर की दुकान को खुद संभाला। इस बीच मेरे पास वहां सिर्फ खाने-पीने तक के पैसे ही बचते थे। शाकिर ने बताया कि चाचा के आठ साल के बेटे रेहान को भी मेरी तरह डांस का शौक है। वह घर पर ही टीवी पर देखकर काफी स्टेप्स सीख गया था। इसलिए रेहान को भी मुंबई बुला लिया। फिर इसी साल डांस प्लस के सीजन- 5 मेें हमने पांच राउंड में जगह बनाई और छठे राउंड में पर्पल ट्रॉफी हासिल की। शो में वे पुनीत पाठक की टीम में थे। उनका डांस स्टार प्लस पर 17 नवंबर के एपिसोड में प्रसारित हुआ है। जिसमें कोरियोग्राफर रेमो, करिश्मा, धर्मेश और पुनीत ने खूब सराहना की।

X
Sikar News - rajasthan news won judges39 hearts in dance reality show of practice by fixing puncture
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना