पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बॉटनी के विद्यार्थी आईसीएमआर, बीएसआई में पा सकते हैं बेहतर जॉब, रिसर्च के अवसर भी सबसे अधिक : पारीक

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाद में गुरुवार को ग्रामीण महिला महाविद्यालय, शिवसिंहपुरा के वनस्पति शास्त्र के विभागाध्यक्ष डॉ. विकास पारीक ने स्टूडेंट्स के सवालों के जवाब दिए। उन्होंने बताया कि भौतिक विज्ञान, जूलॉजी व बॉटनी विषयों में कॅरियर की काफी संभावनाएं हैं। बाॅटनी विषय में विद्यार्थी भारतीय खाद्य निगम, वन विभाग, कृषि विभाग में अनेक नौकरियां प्राप्त कर सकते हैं। बॉटनी से एमएससी के विद्यार्थी आईसीएमआर, बीएसआई, काजरी, टिफर, आईसीएआर, नारी, एएसआरबी, एनबीपीजीआर जैसे देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में भी बेहत्तर नौकरी पा सकते हैं।

चार अलग-अलग डिपार्टमेंट नेट/ जेआरएफ करवाते हैं, इसकी तैयारी कर सकते हैं
 स्कूल लेक्चरर की भर्ती की तैयारी के लिए मार्गदर्शन दीजिए और अन्य परीक्षाओं के बारे में भी बताएं। मुकेश कुमार लांबा, कारंगा बड़ा, फतेहपुर

 सिलेबस के अनुसार तैयारी कीजिए। एनसीईआरटी की बुक्स पढ़िए। समय ज्यादा नहीं बचा इसलिए टाइम टेबल बनाइए। बॉटनी में आप एएसआरबी, सीएसआईआर, आईसीएमआर जेआरएफ देती है। डीबीटी/बीईटी से नेट कर सकते हैं।

 नीट की परीक्षा में दो बार में सफलता नहीं मिली, इस बार सेल्फ स्टडी कर रहा हूं, और क्या कर सकता हूं? राकेश, शिवसिंहपुरा हाउसिंग बोर्ड

 2019 की नीट परीक्षा की तैयारी पर ही फोकस रखिए। नीट में सलेक्शन नहीं होने के बाद आप दूसरी परीक्षाओं की तैयारी में जुटना। आप राजस्थान हेल्थ यूनिवर्सिटी से आरपीवीटी कर सकते हैं। नीट के जरिए ही आयुर्वेद में बीएएमएस कर सकते हैं।

 बायो से बीएससी कर रहा हूं, आगे अच्छी जॉब के ऑप्शन के बारे में बताइए। हेमराज खांडेकर, दांतारामगढ़

 आप एमएससी करने के साथ ही एसएससी, सीजेएल की तैयारी कर सकते हैं। प्लांट प्रोटेक्शन और आरपीएससी की ओर से आयोजित राजस्थान फॉरेस्ट सर्विस की एग्जाम दे सकते हैं। एफसीआई में भी भर्तियां निकलती रहती है।

 बॉटनी से एमएससी की है जिसमें 63 प्रतिशत अंक आए हैं अच्छे कॅरियर के लिए क्या करना चाहिए? रणजीतसिंह मील, सीकर

 आपके परसेंटेज अच्छी है। चार अलग-अलग डिपार्टमेंट नेट/ जेआरएफ करवाते हैं इसकी तैयारी कर सकते हैं। एमएससी में प्लांट पैथोलॉजी कर सकते हैं। रिसर्च के क्षेत्र में जा सकते हैं और स्वयं की लैब व टिश्यू कल्चर लैब भी डवलप कर सकते हैं।

डॉ. पारीक

खबरें और भी हैं...