पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खनन बंद करने व सड़क बनाने की मांग को लेकर मतदान का बहिष्कार करेंगे ग्रामीण

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्व ग्राम भैरा मय लुहारवास के ग्रामीणों ने खनन कार्य बंद करवाने की मांग को लेकर विधानसभा चुनावों में मतदान नहीं करने का सर्वसम्मति से निर्णय लिया। ग्रामीणों ने बताया कि गांव से महज पांच सौ मीटर की दूरी पर पत्थर की खानें हैं। इनमें होने वाले विस्फोट से मकानों में दरारें आ गई हैं तथा दिनभर उड़ने वाली धूल से लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। इसकी शिकायत कई बार खान विभाग तथा अधिकारियों से की, लेकिन समाधान नहीं हुआ। विरोध करने पर खनन मालिकों द्वारा झूठे मुकदमे लगा दिए। ग्रामीणों को होने वाली परेशानियों से प्रशासन को कई बार अवगत कराया जा चुका है, लेकिन समाधान नहीं हुआ। इसके विरोध में गुरुवार को ग्रामीणों ने विधानसभा चुनावों में मतदान नहीं करने का फैसला लिया है। खनन से ब्लास्टिंग होने के कारण मकानों में दरारें आ गई और हर वक्त डर रहता है कि कहीं मकान की पट्टियां टूटकर गिर न जाए। साथ ही वातावरण प्रदूषित होने से टीबी जैसी बीमारियां हो रही हैं। विरोध करने पर खनन मालिकों द्वारा कई ग्रामीणों पर मुकदमे लगा दिए गए। प्रशासन को अवगत कराया गया, लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ। इसलिए राजस्व ग्राम भैरा मय लुहारवास सहित आसपास की ढाणियों के ग्रामीणों ने सात दिसंबर को मतदान नहीं करने का फैसला लिया है। रामलाल गुर्जर, पंच विनोद कुमार गुर्जर, परताराम गुर्जर, पूर्व पंच सुवालाल कुमावत, सत्यनारायण, ताराचंद कुमावत, शिवपाल वर्मा, खालीराम वर्मा, मुकेश आदि थे।

खंडेला।

रामगढ़ शेखावाटी।

फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र के नारसरा गांव के लोग करेंगे चुनाव का बहिष्कार, बोले-सड़क नहीं तो वोट नहीं
रामगढ़-शेखावाटी| फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र के नारसरा गांव के ग्रामीणों ने आजादी के 70 साल बाद भी गांव को संड़क से नहीं जोड़ने के विरोध में गुरुवार को एकत्रित होकर विधानसभा चुनावों में मतदान का सामूहिक बहिष्कार करने का निर्णय किया। विजयसिंह व भागसिंह के नेतृत्व में ग्रामीणों ने चौपाल पर एकत्रित होकर विराेध जताते हुए कहा कि उपखंड मुख्यालय रामगढ़ से नारसरा की सड़क बनाने के लिए राजनेताओं से बार-बार मांग की गई, लेकिन आज तक केवल आश्वासन ही मिले। इस दौरान ग्रामीणों ने विधानसभा चुनावों में मतदान का सामूहिक बहिष्कार करने का निर्णय लेते हुए सड़क बनने पर ही मतदान करने की बात कही। उल्लेखनीय है कि नारसरा के ग्रामीणों द्वारा पिछले 15 वर्षों से रामगढ़ से सड़क मार्ग से जोड़ने की मांग की जा रही है, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं होने से ग्रामीणों में आक्रोश है। इस दौरान मदनसिंह, महावीरप्रसाद माली, अजीतसिंह, दीपक स्वामी, अशोक, राजकुमार, विद्याधर, श्रवणसिंह, बाबूलाल, राकेश, गोपीचंद सहित अनेक ग्रामीण मौजूद थे।

रामगढ़-शेखावाटी| फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र के नारसरा गांव के ग्रामीणों ने आजादी के 70 साल बाद भी गांव को संड़क से नहीं जोड़ने के विरोध में गुरुवार को एकत्रित होकर विधानसभा चुनावों में मतदान का सामूहिक बहिष्कार करने का निर्णय किया। विजयसिंह व भागसिंह के नेतृत्व में ग्रामीणों ने चौपाल पर एकत्रित होकर विराेध जताते हुए कहा कि उपखंड मुख्यालय रामगढ़ से नारसरा की सड़क बनाने के लिए राजनेताओं से बार-बार मांग की गई, लेकिन आज तक केवल आश्वासन ही मिले। इस दौरान ग्रामीणों ने विधानसभा चुनावों में मतदान का सामूहिक बहिष्कार करने का निर्णय लेते हुए सड़क बनने पर ही मतदान करने की बात कही। उल्लेखनीय है कि नारसरा के ग्रामीणों द्वारा पिछले 15 वर्षों से रामगढ़ से सड़क मार्ग से जोड़ने की मांग की जा रही है, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं होने से ग्रामीणों में आक्रोश है। इस दौरान मदनसिंह, महावीरप्रसाद माली, अजीतसिंह, दीपक स्वामी, अशोक, राजकुमार, विद्याधर, श्रवणसिंह, बाबूलाल, राकेश, गोपीचंद सहित अनेक ग्रामीण मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...