--Advertisement--

शिविर से बच्चों की रचनात्मक व सृजनात्मक सोच होगी सुदृढ़

शहर के अहिंसा सर्किल स्थित सारणेश्वर जिला सार्वजनिक पुस्तकालय में सेंटर फॉर माइक्रोफाइनेंस टाटा ट्रस्ट की ओर से...

Dainik Bhaskar

Jun 04, 2018, 06:20 AM IST
शिविर से बच्चों की रचनात्मक व सृजनात्मक सोच होगी सुदृढ़
शहर के अहिंसा सर्किल स्थित सारणेश्वर जिला सार्वजनिक पुस्तकालय में सेंटर फॉर माइक्रोफाइनेंस टाटा ट्रस्ट की ओर से क्रियान्वित ट्रांसफॉर्मेशन इनिशिएटिव के तहत बच्चोंकी रचनात्मकता, सृजनात्मक सोच को बढ़ाने एवं किताबो की दुनिया से जोड़ने के उद्देश्य से चल रहे 6 दिवसीय समर कैंप का रविवार को समापन किया गया। सेंटर फॉर माइक्रोफाइनेंस टाटा ट्रस्ट के जनरल मैनेजर विजय सिंह ने बताया कि छह दिवसीय समर कैंप में 6-14 वर्ष आयुवर्ग के बालक बालिकाओं के लिए बाल साहित्य आधारित गतिविधियों का समावेश किया गया, जिसमें प्रतिदिन 75 से अधिक बच्चो की भागीदारी रही। कैंप के दौरान विविध बालगीत, ओरिगेमी में टोपी, मुखौटे, नाव, हवाई जहाज, सांप, गदा, फूल बनाना, पेंटिंग एवं चित्रकारी में स्वतंत्र पेटिंग, कैनवास पेंटिंग, साझा पेंटिंग, धागा पेंटिंग, कोलाज बनाना, कहानी आधारित मिट्टी के खिलौने बनाना व पेंटिंग, नाटक एवं अभिनय में मूकाभिनय, आइना अभिनय, कहानी आधारित नाटक का मंचन किया गया। विशेष गतिविधि के तहत बच्चो को जिला अस्पताल का शैक्षिक भ्रमण करवाया, जिसमें बच्चो ने अस्पताल की गतिविधियों का अवलोकन कर ट्रॉमा सेंटर के डॉक्टर से अपने सवालों के जवाब प्राप्त किए। साथ ही आदर्श अस्पताल का मॉडल भी बनाया। बच्चों को समूह बनाकर मुहावरा खेल, गुब्बारा फोड़, बॉल पास आदि मनोरंजक खेल खिलवाए गए। कैंप के अंतिम दिन बच्चों ने पूरे कैंप के दौरान किए गए कार्र्यों का प्रदर्शन किया एवं रंगारंग नाटक अभिनय, गीत एवं नृत्य प्रस्तुत किए।

बच्चों की रचनात्मकता, सृजनात्मक सोच को बढ़ाने के उद्देश्य से चल रहे समर कैंप का रविवार को हुआ समापन

सिरोही. समर कैंप में आयोजित नाटक में प्रस्तुति देते संभागी बच्चे।

भास्कर न्यूज | सिरोही

शहर के अहिंसा सर्किल स्थित सारणेश्वर जिला सार्वजनिक पुस्तकालय में सेंटर फॉर माइक्रोफाइनेंस टाटा ट्रस्ट की ओर से क्रियान्वित ट्रांसफॉर्मेशन इनिशिएटिव के तहत बच्चोंकी रचनात्मकता, सृजनात्मक सोच को बढ़ाने एवं किताबो की दुनिया से जोड़ने के उद्देश्य से चल रहे 6 दिवसीय समर कैंप का रविवार को समापन किया गया। सेंटर फॉर माइक्रोफाइनेंस टाटा ट्रस्ट के जनरल मैनेजर विजय सिंह ने बताया कि छह दिवसीय समर कैंप में 6-14 वर्ष आयुवर्ग के बालक बालिकाओं के लिए बाल साहित्य आधारित गतिविधियों का समावेश किया गया, जिसमें प्रतिदिन 75 से अधिक बच्चो की भागीदारी रही। कैंप के दौरान विविध बालगीत, ओरिगेमी में टोपी, मुखौटे, नाव, हवाई जहाज, सांप, गदा, फूल बनाना, पेंटिंग एवं चित्रकारी में स्वतंत्र पेटिंग, कैनवास पेंटिंग, साझा पेंटिंग, धागा पेंटिंग, कोलाज बनाना, कहानी आधारित मिट्टी के खिलौने बनाना व पेंटिंग, नाटक एवं अभिनय में मूकाभिनय, आइना अभिनय, कहानी आधारित नाटक का मंचन किया गया। विशेष गतिविधि के तहत बच्चो को जिला अस्पताल का शैक्षिक भ्रमण करवाया, जिसमें बच्चो ने अस्पताल की गतिविधियों का अवलोकन कर ट्रॉमा सेंटर के डॉक्टर से अपने सवालों के जवाब प्राप्त किए। साथ ही आदर्श अस्पताल का मॉडल भी बनाया। बच्चों को समूह बनाकर मुहावरा खेल, गुब्बारा फोड़, बॉल पास आदि मनोरंजक खेल खिलवाए गए। कैंप के अंतिम दिन बच्चों ने पूरे कैंप के दौरान किए गए कार्र्यों का प्रदर्शन किया एवं रंगारंग नाटक अभिनय, गीत एवं नृत्य प्रस्तुत किए।

इधर, आबूरोड में शिविर में योग ध्यान व सुदर्शन क्रिया सिखाई

आबूरोड |
आर्ट ऑफ लिविंग की ओर से रिको में आयोजित छह दिवसीय हैप्पीनेस कोर्स का समापन किया गया। शिक्षिका संगीता अग्रवाल ने बताया आर्ट ऑफ लिविंग की तरफसे 41वां शिविर आयोजित किया गया। इस शिविर में योग ध्यान और सुदर्शन क्रिया सिखाई। सुदर्शन क्रिया करने से मन की शांति आत्मबल प्रबल होता है मनुष्य निरोगी बनता है और जब मनुष्य स्वस्थ्य होता है तो उस की कार्य क्षमता बढती है। शिविर में जीवन जीने की कला की चाबियां दी जाती है एवं खेलकूद संगीत के माध्यम से भी तनाव मुक्त रहना सिखाते है। शिविर में आर्ट ऑफ लिविंग के कार्यकर्ता भूपेंद्र संबरिया, अभिशेख टंडन, अलका अग्रवाल, नीलम राठी, ममता अग्रवाल, नेहा बंसल, सीमा रावल ने सहयोग किया।

आबूरोड. आर्ट ऑफ लिविंग शिविर में मौजूद संभागी।

शिविर से बच्चों की रचनात्मक व सृजनात्मक सोच होगी सुदृढ़
X
शिविर से बच्चों की रचनात्मक व सृजनात्मक सोच होगी सुदृढ़
शिविर से बच्चों की रचनात्मक व सृजनात्मक सोच होगी सुदृढ़
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..