Hindi News »Rajasthan »Sirohi» 4 से 5 घंटे बिजली कटौती, अस्पताल में कम वॉल्टेज के जनरेटर, मरीजों को हो रही परेशानी

4 से 5 घंटे बिजली कटौती, अस्पताल में कम वॉल्टेज के जनरेटर, मरीजों को हो रही परेशानी

सप्ताहभर से शहर का पारा 44-45 डिग्री सेल्सियस चल रहा है। ऐसी भीषण गर्मी में बिजली गुल होते ही जिला अस्पताल में भर्ती...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 30, 2018, 06:20 AM IST

4 से 5 घंटे बिजली कटौती, अस्पताल में कम वॉल्टेज के जनरेटर, मरीजों को हो रही परेशानी
सप्ताहभर से शहर का पारा 44-45 डिग्री सेल्सियस चल रहा है। ऐसी भीषण गर्मी में बिजली गुल होते ही जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों की जान पर बन आती है। दो ब्लॉक में बने अस्पताल में चार जनरेटर लगे है, लेकिन चारों ही जनरेटर जरूरत के मुताबिक सप्लाई नहीं दे पा रहे। मुख्य परिसर में लगा जनरेटर कई बार अधिक लोड की वजह से का करना बंद कर देता है। यहीं, स्थिति जनाना अस्पताल में लगे जनरेटर्स की भी है। ऐसे में बिजली गुल होते ही कई वार्डों में अंधेरा छा जाता है और गर्मी में मरीजों के हाल बेहाल हो रहे हैं। इसी माह की 6 तारीख को सवेरे 7 से 11 बजे तक शहर में बिजली कटौती बंद थी, तब जनाना अस्पताल में लगे जनरेटर ने काम करना बंद कर दिया और एसएनसीयू (शिशु आईसीयू) वार्ड में सप्लाई बंद हो गई। ऐसी स्थिति में यहां भर्ती नवजातों की जान खतरे में पड़ गई। पीएमओ डॉ. दर्शन ग्रोवर ने तत्काल मुख्यालय को अवगत कराया। अगले दिन उदयपुर से विभागीय इंजीनियर्स की टीम अस्पताल पहुंची और बिजली कटौती के दौरान अस्पताल में जनरेटर से सुचारू आपूर्ति के लिए दोनों ब्लॉक की पुरानी वाइरिंग को हटाकर नई वायरिंग करने और हाई वॉल्टेज के जनरेटर लगाने के लिए 90 लाख रुपए का एस्टीमेट बनाया। कलेक्टर बाबूलाल मीणा के ध्यान में भी यह मामला आया। कलेक्टर ने अस्पताल की बिजली-पानी व्यवस्थाओं के लिए टीम बनाई तथा खनिज विकास कोष से तत्काल बजट जारी करने के निर्देश दिए, लेकिन समाधान नहीं हो पाया।

दो ब्लॉक में बने जिला अस्पताल में लगे हैं चार जनरेटर, फिर भी आपूर्ति पूरी नहीं

सिरोही. जिला अस्पताल में बिजली गुल होने पर मरीजों के हाल-बेहाल हो जाते है।

जरूरत के हिसाब से न तो ट्रांसफार्मर और न ही जनरेटर

ए ब्लॉक : मुख्य भवन

मुख्य भवन में ओपीडी, ट्रोमा सेंटर, आईसीयू, बर्न यूनिट, ब्लड बैंक, सिटी स्केन, हीमो डायलिसिस, एआरटी सेंटर, ऑपरेशन थिएटर, मेल-फिमेल सर्जिकल व फिजीशियन वार्ड, एक्सरे रूम, जांच केंद्र बने है। भवन का विस्तार जारी है।

पीएमओ कार्यालय के पास लगा ट्रांसफार्मर इतने बड़े भवन में बिजली आपूर्ति के लिए पर्याप्त नहीं है। यहीं, नहीं यहां लगा जनरेटर ट्रांसफार्मर से भी कम वॉल्टेज का है। ऐसे में बिजली गुल होते ही परेशानियां शुरू हो जाती है।

बी ब्लॉक : जनाना परिसर

जनाना अस्पताल परिसर में लेबर रूम, ओपीडी, गर्भवती महिला वार्ड, प्रसूता वार्ड, एसएनसीयू वार्ड, शिशु वार्ड, कुपोषण केंद्र, मदर मिल्क बैंक, डॉक्टर्स-नर्सिंग क्वाटर्स समेत यहां भी विस्तार जारी है।

यहां भी अलग ट्रांसफार्मर लगा है, लेकिन यह भी आवश्यकता के अनुसार पर्याप्त नहीं है। यहां तीन जनरेटर लगे हैं वे ट्रांसफार्मर से भी कम क्षमता के है। ऐसे में बिजली गुल होते ही परेशानी बढ़ जाती है।

कलेक्टर ने गठित की पांच सदस्यीय कमेटी

कलेक्टर बाबूलाल मीणा ने जिला अस्पताल में बिजली-पानी की समस्याओं के स्थाई समाधान के लिए पांच सदस्यीय कमेटी गठित की है। कमेटी में पीडब्ल्यूडी के एक्सईएन, डिस्कॉम एक्सईएन, एनआरएचएम एक्सईएन, पीएमओ और सीएमएचओ को शामिल किया है। ये कमेटी बैठक कर अस्पताल से जुड़ी समस्याओं और उसके समाधान की रिपोर्ट कलेक्टर को पेश करेंगे।

पारा 43 डिग्री पर, अस्पताल में बढ़ रहे मरीज

सिरोही शहर में मंगलवार को दिन का पारा 43 डिग्री सेल्सियस और रात का पारा 29 डिग्री सेल्सियस रहा। भीषण गर्मी से अस्पताल में मरीजों की संख्या बढ़ रही है। जिला अस्पताल में 22 मई को ओपीडी का आंकड़ा 911, 23 को 833, 24 को 833, 25 को 892, 26 को 730, 27 को 299 और 28 मई को 909 रहा। सप्ताहभर से भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या भी बढ़ी है।

4 घंटे बिजली बंद, खतरे में पड़ गई बच्चों की जान

जनाना अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड में 6 मई को सवेरे 7 से 11 बजे तक बिजली बंद रहने से यहां भर्ती बच्चों की जान खतरे में पड़ गई थी। पीएमओ ने इस मामले को विभागीय मुखिया के ध्यान में लाया था। जिस पर उनके द्वारा भेजी गई इंजीनियर्स की टीम ने पूरे अस्पताल का मौका मुआयना कर भविष्य में ऐसी समस्या न हो इसके लिए 90 लाख रुपए का एस्टीमेट बनाया है। जिसमें दोनों ब्लॉक में नए सिरे से वायरिंग, अधिक क्षमता के ट्रांसफार्मर और जनरेटर लगाना शामिल है। पीएमओ ने कलेक्टर को भी इससे रूबरू कराया। कलेक्टर ने मामले की गंभीरता को देखते क्षेत्रीय खनिज विकास योजना के तहत बजट की व्यवस्था के निर्देश दिए।

व्यवस्था सुधार के चल रहे हैं प्रयास

पुरानी वायरिंग और अस्पताल का विस्तार होने से बिजली का लोड बढ़ा है। ऐसे में उपलब्ध जनरेटर लोड नहीं ले पाते हैं, इसलिए कुछ वार्डों में समस्या आती है। इसके लिए मुख्यालय और कलेक्टर साहब को अवगत कराया है। उम्मीद है खनिज विभाग से इसी सप्ताह बजट उपलब्ध होने पर काम शुरू किया जाएगा। -डॉ. दर्शन ग्रोवर, पीएमओ, सिरोही

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sirohi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×