• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Sirohi News
  • पंस सदस्य के उपचुनाव में 52.53% मतदान मतगणना कल, दांव पर भाजपा की प्रतिष्ठा
--Advertisement--

पंस सदस्य के उपचुनाव में 52.53% मतदान मतगणना कल, दांव पर भाजपा की प्रतिष्ठा

पंचायत समिति के वार्ड संख्या सात के लिए मंगलवार को हुए उपचुनाव में 52.53 प्रतिशत मतदान हुआ। उपचुनाव के लिए कृष्णगंज...

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2018, 06:25 AM IST
पंचायत समिति के वार्ड संख्या सात के लिए मंगलवार को हुए उपचुनाव में 52.53 प्रतिशत मतदान हुआ। उपचुनाव के लिए कृष्णगंज में चार और सिंदरथ गांव में दो कुल छह बूथ बनाए गए थे। छह बूथों पर कुल 6557 मतदाताओं में से 3445 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतगणना 14 जून को सवेरे 8 बजे पंचायत समिति के सभागार में होगी। पूर्व पंचायत समिति सदस्य दीपा राजगुरु का निर्वाचन रद्द होने से ये सीट खाली हुई थी। निर्दलीय प्रत्याशी दीपा राजगुरु ने भाजपा प्रत्याशी रक्षा भंडारी को पराजित किया था। रक्षा भंडारी ने जिला सत्र न्यायालय में याचिका दायर कर दीपा राजगुरु पर नामांकन पत्र में तथ्य छिपाकर चुनाव लड़ने का आरोप लगाया था। न्यायालय ने इसी साल फरवरी में दीपा राजगुरु के नामांकन को शून्य घोषित किया था। यहां उपचुनाव हुए है वो भाजपा जिलाध्यक्ष लुंबाराम चौधरी, भाजयुमो जिलाध्यक्ष हेमंत पुरोहित और उपजिलाप्रमुख कानाराम चौधरी का गृहक्षेत्र है।

भाजपा महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष रक्षा भंडारी का पूर्व निर्वाचन क्षेत्र और चुनाव दुबारा कराने में भूमिका होने से इन भाजपाइयों की प्रतिष्ठा है दांव पर

6557 में से 3445 मतदाताओं ने दिया वोट



स्ट्रांग रूम में मतपेटियां, कल होगी मतगणना

कृष्णगंज पंचायत समिति उपचुनाव की मतपेटियां जिला मुख्यालय स्थित कोष कार्यालय में स्थापित स्ट्रांग रूम में रखी गई है। मतगणना 14 जून को सवेरे 8 बजे पंचायत समिति सभागार में की जाएगी। मतगणना से पहले मतपेटियों को मत गणना स्थल पर लाया जाएगा। उपचुनाव में ईवीएम का प्रयोग किया है, इसलिए परिणाम जल्दी आ जाएंगे।

कांग्रेस और भाजपा के लिए उपचुनाव के मायने

भाजपा के लिए प्रतिष्ठा का सवाल

पंचायत समिति सदस्य का चुनाव बड़ी बात नहीं है लेकिन, चुनाव भाजपा की प्रतिष्ठा का सवाल है। क्योंकि, भाजपा के जिलाध्यक्ष लुंबाराम चौधरी और उनके बेटे उपजिला प्रमुख कानाराम चौधरी और युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष हेमंत पुरोहित तीनों का यह गृहक्षेत्र है। यहीं, नहीं भाजपा महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष रक्षा भंडारी की प्रतिष्ठा भी दांव है, क्योंकि रक्षा भंडारी ने ही दीपा राजगुरु के सामने भाजपा प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा था। चुनाव हारने के बाद नामांकन में तथ्य छिपाने की याचिका भी रक्षा भंडारी ने ही दायर की थी।

सिंदरथ सरपंच समेत 200 मतदाता नहीं दे पाए वोट

उपचुनाव के लिए उपयोग में ली गई मतदाता सूची में कई युवा मतदाताओं के नाम नहीं होने की बात सामने आई। सिंदरथ में सरपंच गेरी देवी का नाम भी मतदाता सूची में नहीं होने से वे वोट नहीं दे पाई।

कांग्रेस के लिए विधानसभा चुनाव में संजीवनी

कांग्रेस के लिए भी यह उपचुनाव किसी भी मायने में कम नहीं है। नवनियुक्त जिलाध्यक्ष जीवाराम आर्य और उनकी पूरी टीम के लिए पहला चुनाव है। जिलाध्यक्ष और सिरोही ब्लॉक अध्यक्ष की नियुक्ति को लेकर उनकी ही पार्टी के लोग नाराज चल रहे हैं। ऐसे में संगठन की नई टीम और विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उपचुनाव में कांग्रेस की जीत पार्टी के लिए संजीवनी का काम कर सकती है। कांग्रेस ने यहां देवासी समाज को टिकट देकर नया कार्ड खेला है। यदि इसमें कांग्रेस की जीत होती है तो राज्यमंत्री देवासी को भी कांग्रेस घेर सकती है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..