• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Sirohi News
  • प्रदेश से सब्जियों का निर्यात बढ़ाने के लिए अपनानी होगी कांट्रेक्ट फार्मिंग
--Advertisement--

प्रदेश से सब्जियों का निर्यात बढ़ाने के लिए अपनानी होगी कांट्रेक्ट फार्मिंग

किसानों की आय बढ़ेगी, अभी राज्य से 80 करोड़ रु. का निर्यात, मांग व आपूर्ति के लिए एक्सपोर्ट कौंसिल को आगे आना होगा ...

Dainik Bhaskar

May 22, 2018, 07:00 AM IST
प्रदेश से सब्जियों का निर्यात बढ़ाने के लिए अपनानी होगी कांट्रेक्ट फार्मिंग
किसानों की आय बढ़ेगी, अभी राज्य से 80 करोड़ रु. का निर्यात, मांग व आपूर्ति के लिए एक्सपोर्ट कौंसिल को आगे आना होगा

ललित शर्मा | जयपुर

किसानों की आय दोगुनी करने में सब्जियाें का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। इसमें भी अगर निर्यात के रास्ते आसान हो जाएं तो यह और अधिक उपयोगी हो सकती है। देश से सब्जियों का कुल निर्यात 2.8 हजार करोड़ रुपए का होता है, जबकि राजस्थान से निर्यात 75 से 80 करोड़ रुपए सालाना ही है। राजस्थान में सब्जियों का निर्यात बढ़ाना है, तो इसके लिए कांट्रेक्ट फार्मिंग और संरक्षित खेती को बढ़ाना होगा। कांट्रेक्ट फार्मिंग से एक्सपोर्ट एश्योर्ड हो जाता है, ताकि मांग और पूर्ति का संतुलन बना रह सके। यह कहना है राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान परिषद से जुड़े राष्ट्रीय सब्जी फसल अनुसंधान संस्थान वाराणसी के निदेशक डॉ. बिजेंद्र सिंह का। वे 36वे सब्जी फसल की राष्ट्रीय कार्यशाला और ग्रुप मीटिंग में भाग लेने जयपुर आए थे। डॉ. सिंह ने भास्कर से विशेष साक्षात्कार में कहा कि राजस्थान में सब्जी का उत्पादन उल्लेखनीय है, लेकिन यहां से निर्यात काफी कम है। इसे बढ़ाने के लिए कांट्रेक्ट फार्मिंग को बढ़ावा देना होगा। इससे कांट्रेक्ट पर खेत लेने वाले फर्म या संस्था को इस बात की जानकारी होगी कि उसे अपना उत्पाद कहां और कितना निर्यात करना है और कहां किस चीज की मांग है। इससे किसान को मुनाफा तय मात्रा में लगातार मिलता रहेगा। उसे नुकसान का डर नहीं रहेगा। इससे आय दोगुनी करने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना साकार हो सकेगा। उन्होंने कहा कि इसके अलावा एक्सपोर्ट कौंसिल की स्थानीय इकाई को भी विशेष ध्यान केंद्रित करना होगा कि किस कंट्री में किस ट्रेड की मांग है।

तालाब में फिश एरिएटर लगाने से मछलियों की मृत्युदर कम होगी और उत्पादन बढ़ेगा

भरतपुर| मछलियां श्वसन क्रिया के लिए पानी में घुली आॅक्सीजन का उपयोग करती हैं, यदि किन्हीं कारणों से तालाब, नदी या अन्य किसी पालनयोग्य बांधों में आॅक्सीजन की कमी हो जाती है तो मछलियों की मृत्युदर बढ़ने लगती है। उनकी बढ़वार भी रुक जाती है। इस समस्या के निदान के लिए मछली पालन के लिए बनाए तालाबों में फिश एरिएटर लगा दिए जाएं तो मछलियों की मृत्युदर कम हो जाएगी। साथ ही उत्पादन भी 25 से 30 प्रतिशत बढ़ जाएगा। हवा की आॅक्सीजन को पानी में घुलनशील करने के लिए फिश एरिएटर का उपयोग किया जाता है। यह एक साधारण मशीन है जो बिजली से चलाई जाती है। यह पानी को हवा में फव्वारे के रूप में फेंककर हवा की आॅक्सीजन को पानी में घोलने का काम करती है। जब पानी में पर्याप्त मात्रा में आॅक्सीजन घुल जाती है, तो मछलियां इसे आसानी से प्राप्त कर लेती हैं। फभरतपुर जिले में लुपिन फाउंडेशन की ओर से मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए कृषकों द्वारा अपनी निजी भूमि पर 215 तालाब खुदवाए गए। इनमें प्रतिवर्ष करीब 70 मैट्रिक टन मछलियों का उत्पादन हो रहा है। जिले के बांधों एवं पंचायती तालाबों में भी मछली पालन हो रहा है, जिसे मिलाकर कुल 2 हजार मैट्रिन टन मछली का उत्पादन हो रहा है। इस काम से करीब 3 हजार लोगों को रोजगार मिल रहा है। इन तालाबों में जब मछलियों की मृत्यु होने की समस्या सामने आने लगी तो संस्था ने अनुदान पर कामां के लेवड़ा गांव के शैफुल्ला मेव एवं पहाड़ी तहसील के जीराहेड़ा के मोहम्मद सोहिद के यहां फिश एरिएटर के प्रदर्शन लगाए। ये मछली पालक प्रतिदिन करीब 4 घंटे फिश एरिएटर चलाते हैं। इससे मछलियों की मृत्यु जैसी समस्या से तो निजात मिल गई है, वहीं करीब 30 प्रतिशत मछली उत्पादन भी बढ़ गया है। इसकी कीमत करीब 40 हजार रुपए है। इसे बनारस (उत्तर प्रदेश) की कंपनी से खरीदा जा सकता है। -रामचरण धाकड़

फैक्ट फाइल : राजस्थान में सर्वाधिक पैदावार प्याज की

राजस्थान में 1.70 लाख हैक्टेयर में सब्जियों की 10.8 लाख मैट्रिक टन पैदावार होती है। इसमें सभी तरह की सब्जियां शामिल हैं। इसमें सर्वाधिक 63.3 प्रतिशत प्याज होती है। इसके बाद आलू 12.2 प्रतिशत, टमाटर 5 प्रतिशत, 4.3 प्रतिशत गोभीवर्गीय सब्जी, 2 प्रतिशत मटर, 1.7 प्रतिशत बैंगन, 1.5 प्रतिशत लौकी, 1.3 प्रतिशत तरबूज, 1.1 प्रतिशत पालक और 1.1 प्रतिशत गाजर का उत्पादन शामिल है। सब्जियों के उत्पादन में जोधपुर अग्रणी है, यहां राज्य की 27.5 प्रतिशत सब्जियां होती हैं। सीकर में 21.7 प्रतिशत, नागौर में 10.4, धौलपुर में 8.2, जयपुुर में 5.3 और अलवर में 5.14 प्रतिशत सब्जियां होती हैं। सब्जियों की मात्रा बढ़ाने के लिए किसानों और वैज्ञानिकों दोनों को प्रयास करने होंगे, तभी 2022 तक किसान की आय दोगुनी करने का लक्ष्य हासिल हो पाएगा।

मल्टी स्टोरी एग्रीकल्चर से बढ़ेगी आय

डॉ. बिजेंद्र सिंह का मानना है कि किसानों को मल्टी स्टोरी एग्रीकल्चर व्यवस्था को अपनाना चाहिए। इसके लिए पॉलीहाउस और ग्रीनहाउस आदि का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें पौध को ऊपर लोहे के एंगल से बांधकर रखने से एक तो उनकी बढ़वार ज्यादा होती है, दूसरा पौधा सीधा खड़ा रहने से अन्य फसल के लिए भी जगह मिल जाती है। इससे आय बढ़नी है। मल्टी स्टोरी व्यवस्था को अपनाना इसलिए भी जरूरी हो गया है क्योंकि परिवार बढ़ने के साथ ही जमीन की जोत कम होती जा रही है।

क्या है कांट्रेक्ट फार्मिंग

कांट्रेक्ट फार्मिंग का मतलब खेत को किसी व्यक्ति, संस्था, फर्म या कंपनी को ठेके पर देना। इसमें कांट्रेक्टर उस खेत में अपनी पसंद की सब्जी या फसल उगवाता है। इसके लिए कांट्रेक्टर किसान को बीज और खाद सहित अन्य संसाधन उपलब्ध करवाता है। इसके अलावा किसान को उसकी जमीन का उपयोग करने के बदले तयशुदा राशि उपलब्ध करवाता है। इसमें किसानों को नुकसान होने की संभावना लगभग खत्म हो जाती है। कांट्रेक्ट फार्मिंग के लिए राजस्थान में भी कानून बना है और इसके तहत किसान और कांट्रेक्टर दोनों के अधिकारों का संरक्षण होता है।

पॉली हाउस लगाकर खीरा-ककड़ी बोए, एक साल में ही लागत मिल जाने की उम्मीद

कैलाश सुखवाल | खटवाड़ा (भीलवाड़ा)

किसान परंपरागत खेती के साथ नई तकनीक का इस्तेमाल कर उत्पादन बढ़ाने में लगे हैं। रानीखेड़ा गांव के किसान हरिलाल जाट ने राष्ट्रीय बागवानी मिशन योजना के तहत उद्यान विभाग के अनुदान पर 4000 वर्गमीटर में एक साल पहले रानीखेड़ा मैन रोड पर पॉली हाउस लगाया। हरिलाल ने बताया कि इसकी लागत 33.76 लाख रुपए आई थी। इसमें से 23.63 लाख रुपए हिस्सा राशि के रूप में जमा कराए। सरकार सेे 4000 वर्ग फीट पॉलीहाउस पर 10 लाख 12 हजार 800 रुपए अनुदान मिला। पॉली हाउस में उसने अभी खीरा-ककड़ी लगा रखी हैं। वे प्रत्येक दूसरे दिन करीब एक टन खीरा-ककड़ी तोड़ते हैं। इन्हें भीलवाड़ा मंडी में बेचते हैं। पहले खीरा-ककड़ी का भाव 20 से 25 रुपए प्रति किलो मिला। अभी इनका भाव 10-15 रुपए किलो है। हरिलाल ने बताया कि पहली बार खीरा-ककड़ी बोकर उसने अब तक 8.30 लाख रुपए की कमाई की है। अभी करीब 8 बार और खीरा ककड़ी की तुड़ाई की जाएगी। उसे उम्मीद है कि एक साल में उसके पॉलीहाउस की लागत निकल आएगी।

पाली, मंगलवार, 22 मई, 2018 | 14

न्यूमेटिक मल्टी क्रॉप प्लांटर

सरसों, ज्वार, सोयाबीन, कपास, मटर, मक्का, मूंगफली, भिंडी आदि फसलों की पंक्ति में बुआई के लिए यह यंत्र महत्वपूर्ण है। इसमें खाद और बीज के लिए अलग-अलग बॉक्स होते हैं। इससे उर्वरक बीज के निकट ही गिरता है। बीज से बीज की दूरी और पंक्ति से पक्ति की दूरी के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है।

रिज प्लांटर : रिज प्लांटर मक्का और संरूपी फसलों की पंक्ति में बुआई करने लिए उपयोगी साबित हो रहा है। इसमें सीड हॉपर, सीड मीटरिंग प्लेट, चैन ड्राइव सिस्टम, बीज नली, ग्राउंड व्हील, फरो ओपनर, टेंशन स्प्रिंग, रिजर बॉटम और रिजर बीम लगे होते हैं। सीट मिटरिंग मेकेनिज्म इन्कलाइंड प्लेट प्रकार का होता है, यह प्लेट एक या दो बीज ग्रहण करती है और बीज नली से बीज को रिज के ऊपरी साइड में डाला जाता है।

ग्रीनहाउस में सभी प्रकार की सब्जियों का उत्पादन कर ले सकते हैं अच्छा मुनाफा


संरक्षित खेती में ग्रीनहाउस की स्थापना कर आप कम जमीन में अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। ग्रीनहाउस में सभी प्रकार की सब्जियों का उत्पादन कर आप अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।


-शैलेंद्र कुमार सैनी, राजगढ़, जिला अलवर

आप मशरूम की खेती की जानकारी के लिए उद्यान व कृषि विभाग कार्यालय में संपर्क करें। वहां आप को मशरूम की खेती की सभी जानकारी मिल जाएगी।

एक्सपर्ट मुकेश चौधरी, कृषि अधिकारी उद्यान

किसान हैल्पलाइन नंबर

18001801551, 18001806127

(सुबह 10 से शाम 5 बजे तक, टोल फ्री)

राज्य स्तरीय हैल्प डेस्क (0141-5102578)

सवाल भेजें

खेती से संबंधित अपने सवाल हमारे पास भेजें, विशेषज्ञ सुझाएंगे समाधान। पता- दिल्ली रोड मूंगस्का, अलवर मेल- agrobhaskarr2@gmail.com वॉट्‌सएप नंबर- 7597676923

कॉल न करें।

प्रदेश से सब्जियों का निर्यात बढ़ाने के लिए अपनानी होगी कांट्रेक्ट फार्मिंग
X
प्रदेश से सब्जियों का निर्यात बढ़ाने के लिए अपनानी होगी कांट्रेक्ट फार्मिंग
प्रदेश से सब्जियों का निर्यात बढ़ाने के लिए अपनानी होगी कांट्रेक्ट फार्मिंग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..