Hindi News »Rajasthan »Sirohi» सरकारी कार में कलेक्टर का बेटा, टोल मांगा तो नागवार गुजरा पुलिस ने भी बिना किसी की शिकायत मैनेजर को किया गिरफ्तार

सरकारी कार में कलेक्टर का बेटा, टोल मांगा तो नागवार गुजरा पुलिस ने भी बिना किसी की शिकायत मैनेजर को किया गिरफ्तार

बुधवार दोपहर 02.06 बजे यह गाड़ी टोल प्लाजा पर पहुंची, जिसमें कलेक्टर के बेटे के होने की बात कही गई। सिरोही पहुंचते ही...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 14, 2018, 07:00 AM IST

  • सरकारी कार में कलेक्टर का बेटा, टोल मांगा तो नागवार गुजरा पुलिस ने भी बिना किसी की शिकायत मैनेजर को किया गिरफ्तार
    +1और स्लाइड देखें
    बुधवार दोपहर 02.06 बजे यह गाड़ी टोल प्लाजा पर पहुंची, जिसमें कलेक्टर के बेटे के होने की बात कही गई।

    सिरोही पहुंचते ही ड्राइवर के मोबाइल से कलेक्टर के बेटे ने टोल मैनेजर को धमकाया, मैनेजर ने कहा- पीएम व परिवहन मंत्री से करूंगा शिकायत

    उथमण टोल प्लाजा का मामला, सिरोही कलेक्टर के नाम से पंजीकृत वाहन से जा रहा था कलेक्टर का बेटा

    भास्कर न्यूज | सिरोही

    नेशनल हाईवे पर स्थित उथमण टोल प्लाजा के मैनेजर विजयसिंह ठाकुर को बुधवार शाम को पालड़ीएम पुलिस ने शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। यह अलग बात है कि पुलिस ना तो यह बता रही है कि बुधवार को मैनेजर ने कहां और कैसे शांतिभंग की या किसी ने उनकी शिकायत की है। इसके बाद पूरा मामला सवालों के घेरे में आ गया, क्योंकि मैनेजर को गिरफ्तार करने से कुछ घंटे पूर्व ही टोल प्लाजा से एक गाड़ी गुजरी। जो सिरोही कलेक्टर के नाम से रजिस्टर्ड है। बताया जा रहा है कि इसके चालक ने बूथ पर कहा कि गाड़ी में कलेक्टर के बेटे है। इसलिए जाने दें। टोल कर्मी ने कंट्रोल रूम से पूछा। इस बीच बैरियर खुला और गाड़ी बिना टैक्स चुकाए निकल गई, लेकिन पुलिस इस पूरे घटनाक्रम को लेकर कुछ भी नहीं कह रही और साफ इंकार कर रही है कि ऐसा हुआ। जबकि, टोल मैनेजर विजयसिंह ने बताया कि यह गाड़ी आई थी। जिसमें बताया गया कि कलेक्टर के बेटे हैं। हमने गाड़ी को जाने दिया, लेकिन शाम को मुझे गिरफ्तार कर लिया। एएसआई अयूब खान ने बताया ट्रक चालकों की शिकायत पर कार्रवाई की गई है। देर शाम मैनेजर विजयसिंह को शिवगंज एसडीएम के समक्ष पेश किया गया और वहां से उन्हें छोड़ दिया गया। खास बात यह है कि शांतिभंग जैसे मामले में भी सिरोही में एसटीएससी सेल के डीएसपी विक्रमसिंह भी पालड़ीएम थाने पहुंचे।

    टोल प्रबंधन ने कहा- वाहन पर ना बत्ती थी ना ही सरकारी चिन्ह, खुद को कलेक्टर का बेटा बताया तो वेरीफिकेशन में 50 सैकंड भी नहीं लगे, टोल भी नहीं लिया, पुलिस बोली- यातायात बाधित होने व ट्रक चालकों की मौखिक शिकायत पर किया गिरफ्तार

    सीसीटीवी फुटेज में नहीं दिखी कोई अभद्रता

    गाड़ी बिना टोल चुकाए गई, शाम को मैनेजर गिरफ्तार

    दोपहर 2 बजे गाड़ी आई : शिवगंज से लेन नंबर 9 पर आई। गाड़ी की विंडो से चालक ने कहा कि गाड़ी में कलेक्टर का बेटा है। थोड़ी देर बूथ पर बैठे कार्मिक से बातचीत होती रही। उसने कंट्रोल रुम में बैठे मैनेजर से बात की। कुछ सैकंड में ही बैरियर खुल जाता है और गाड़ी बिना टैक्स चुकाए रवाना हो जाती है। भास्कर ने जानकारी जुटाई तो यह टैक्स महज 110 रुपए बनता है। जिसे यहां से गुजरने वाले आम नागरिक रोजाना चुकाते ही हैं।

    टोल प्लाजा पर रोजाना यातायात बाधित रहता है। हमने ट्रक वालों की शिकायत पर टोल मैनेजर को गिरफ्तार किया है। - अयूब खान, एएसआई, सिरोही

    कलेक्टर बाबूलाल मीणा से संपर्क करना चाहा। उनका मोबाइल नोट रिचेबल आया।

    घटना के बाद भास्कर ने प्लाजा पर लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज देखे तो सामने किसी भी प्रकार की कोई अभद्रता नहीं दिखी। कलेक्टर की गाड़ी टोल नाके पर आती है तो मात्र पचास सैकंड रुककर रवाना हो जाती है। इसी समय के दौरान टोल पर मौजूद अन्य वाहन चालकों के साथ भी अभद्रता होती नहीं दिखाई देती है।

    मैनेजर विजयसिंह को गिरफ्तार कर ले जाती पुलिस।

    शाम 5.17 बजे : पालड़ी एम से पुलिस टोल प्लाजा पहुंची। मैनेजर के चैंबर में जाकर उसे थाने चलने के लिए कहा और फिर गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई। मैनेजर को थाने लाया गया। जहां कुछ देर बाद एसटीएससी सेल के डीएसपी थाने पहुंचे। रात को मैनेजर की 151 में गिरफ्तारी बताई और फिर एसडीएम के समक्ष पेश करने के लिए शिवगंज लेकर गए।

    यह गाड़ी दोपहर दो बजे आई थी। बूथ पर बैठे हमारे कर्मचारी को चालक ने कहा कि कलेक्टर साहब की है। अंदर उनके बेटे बैठे हैं। जिस पर कर्मचारी ने गाड़ी को बिना टैक्स जाने देने की परमिशन के लिए कंट्रोल रुम में पूछा। हमने उसे कहा कि जाने दो। वाहन पर लाल प्लेट या बत्ती भी नहीं लगी थी, पूर्व सूचना होती तो भी इतना समय नहीं लगता। शाम को पुलिस ने मुझे शांतिभंग के मामले में गिरफ्तार कर लिया। पुलिस का कहना था कि हमने उस गाड़ी वाले से अभद्रता की। जबकि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। -विजय सिंह ठाकुर, टोल प्लाजा मैनेजर, उथमण

    गाड़ी कलेक्टर सिरोही के नाम पर रजिस्टर्ड

    बहरहाल, इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई कि गाड़ी में वाकई में कलेक्टर को बेटा था या नहीं, लेकिन आरजे 24 यूए 1329 नंबर की यह गाड़ी कलेक्टर सिरोही के नाम से सिरोही परिवहन कार्यालय में रजिस्टर्ड है। इसका रजिस्ट्रेशन 15 सितंबर 2015 को करवाया गया था। यह गाड़ी टोल बूथ पर महज 50 सैकंड ही रुकी रही।

    अक्सर आती हैं शिकायतें

    हालांकि यह बात भी सही है कि टोल प्लाजा पर वाहनों के लंबे जाम और यात्रियों के परेशान होने की खबरें अक्सर आती हैं। कुछ दिन पूर्व इन्हीं शिकायतों को लेकर टोल मैनेजर के खिलाफ पालड़ीएम थाने में मामला भी दर्ज हुआ था। जबकि बुधवार को ही हुई शांति समिति की बैठक में भी यह मुद्दा उठाया गया कि उथमण टोल प्लाजा पर अक्सर वाहनों की कतार लगी रहती है। वाहन चालकों के साथ दुव्र्यवहार किया जाता है।

  • सरकारी कार में कलेक्टर का बेटा, टोल मांगा तो नागवार गुजरा पुलिस ने भी बिना किसी की शिकायत मैनेजर को किया गिरफ्तार
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Sirohi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: सरकारी कार में कलेक्टर का बेटा, टोल मांगा तो नागवार गुजरा पुलिस ने भी बिना किसी की शिकायत मैनेजर को किया गिरफ्तार
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Sirohi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×