• Home
  • Rajasthan News
  • Sojat News
  • जैतारण में जुलूस पर पथराव के बाद तनाव, कर्फ्यू लगाया
--Advertisement--

जैतारण में जुलूस पर पथराव के बाद तनाव, कर्फ्यू लगाया

भास्कर संवाददाता| पाली/जैतारण पाली जिले के जैतारण कस्बे में शनिवार दिन में हनुमान जन्मोत्सव पर निकल रहे जुलूस...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 06:35 AM IST
भास्कर संवाददाता| पाली/जैतारण

पाली जिले के जैतारण कस्बे में शनिवार दिन में हनुमान जन्मोत्सव पर निकल रहे जुलूस पर एक पक्ष के लोगों ने पथराव कर दिया, जिससे माहौल गरमा गया।

पुलिस ने उपद्रवियों को खदेड़ने के लिए हल्का बल प्रयोग किया तो भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया तथा कई पुलिसकर्मियों पर लाठियों से हमला कर दिया। इससे कस्बे में उपद्रव के हालात पैदा हा़े गए। गुस्साए लोगों की भीड़ ने बस, कार व करीब आठ-दस बाइक के अलावा बस स्टैंड के आसपास इलाके में कुछ दुकानों में आग लगा दी। हालात पर नियंत्रण के लिए पुलिस व आरएसी के जवानों ने लाठीचार्ज कर भीड़ को तितर-बितर किया। पथराव की इस घटना में जैतारण थाना प्रभारी भंवरलाल पटेल समेत चार पुलिसकर्मी चोटिल हुए हैं, जबकि करीब 24 से ज्यादा अन्य लोग भी चोटिल हुए हैं। शनिवार शाम तक एक बारगी पुलिस ने हालात पर काबू पा लिया, लेकिन कस्बे में माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है। एहतियात के तौर पर जैतारण नगर पालिका क्षेत्र में धारा 144 के साथ उपद्रव प्रभावित क्षेत्र में कर्फ्यू लगाया गया है। यहां इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई है। लोगों को घर से बाहर नहीं निकलने की हिदायत दी गई है। एहतियात के तौर पर पाली, सोजत व निमाज कस्बे में भी इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। आईजी हवासिंह घुमरिया के साथ कलेक्टर सुधीर शर्मा व एसपी दीपक भार्गव भी अधिकारियों के साथ जैतारण में कैंप किए हुए हैं। कस्बे में पुलिस के अतिरिक्त जाब्ते के साथ आरएसी, क्यूआरटी के साथ स्पेशल टास्क फोर्स के जवान भी तैनात किए गए हैं। इधर, पुलिस ने जुलूस व पुलिस दल पर पथराव व हमला करने के आरोपियों की पहचान कर ली है, जिनकी धरपकड़ के लिए देर शाम तक कार्रवाई जारी थी।

पाली, सोजत व निमाज में भी धारा 144, इंटरनेट सेवा बंद

देर रात हालात नियंत्रण में




भास्कर संवाददाता| पाली/जैतारण

पाली जिले के जैतारण कस्बे में शनिवार दिन में हनुमान जन्मोत्सव पर निकल रहे जुलूस पर एक पक्ष के लोगों ने पथराव कर दिया, जिससे माहौल गरमा गया।

पुलिस ने उपद्रवियों को खदेड़ने के लिए हल्का बल प्रयोग किया तो भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया तथा कई पुलिसकर्मियों पर लाठियों से हमला कर दिया। इससे कस्बे में उपद्रव के हालात पैदा हा़े गए। गुस्साए लोगों की भीड़ ने बस, कार व करीब आठ-दस बाइक के अलावा बस स्टैंड के आसपास इलाके में कुछ दुकानों में आग लगा दी। हालात पर नियंत्रण के लिए पुलिस व आरएसी के जवानों ने लाठीचार्ज कर भीड़ को तितर-बितर किया। पथराव की इस घटना में जैतारण थाना प्रभारी भंवरलाल पटेल समेत चार पुलिसकर्मी चोटिल हुए हैं, जबकि करीब 24 से ज्यादा अन्य लोग भी चोटिल हुए हैं। शनिवार शाम तक एक बारगी पुलिस ने हालात पर काबू पा लिया, लेकिन कस्बे में माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है। एहतियात के तौर पर जैतारण नगर पालिका क्षेत्र में धारा 144 के साथ उपद्रव प्रभावित क्षेत्र में कर्फ्यू लगाया गया है। यहां इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई है। लोगों को घर से बाहर नहीं निकलने की हिदायत दी गई है। एहतियात के तौर पर पाली, सोजत व निमाज कस्बे में भी इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। आईजी हवासिंह घुमरिया के साथ कलेक्टर सुधीर शर्मा व एसपी दीपक भार्गव भी अधिकारियों के साथ जैतारण में कैंप किए हुए हैं। कस्बे में पुलिस के अतिरिक्त जाब्ते के साथ आरएसी, क्यूआरटी के साथ स्पेशल टास्क फोर्स के जवान भी तैनात किए गए हैं। इधर, पुलिस ने जुलूस व पुलिस दल पर पथराव व हमला करने के आरोपियों की पहचान कर ली है, जिनकी धरपकड़ के लिए देर शाम तक कार्रवाई जारी थी।

जैतारण में उपद्रवियों ने ट्रैक्टर, बस, कार व बाइकों में आग लगा दी।