--Advertisement--

उत्तर-पश्चिम रेलव

Sumerpur News - दो साल बाद रेलवे के महाप्रबंधक पहुंचे जवाई बांध, बिना निरीक्षण ही रवाना हुए, कोच से नीचे ही नहीं उतरे, लंबी दूरी की...

Dainik Bhaskar

Feb 11, 2018, 07:35 AM IST
उत्तर-पश्चिम रेलव
दो साल बाद रेलवे के महाप्रबंधक पहुंचे जवाई बांध, बिना निरीक्षण ही रवाना हुए, कोच से नीचे ही नहीं उतरे, लंबी दूरी की गाड़ियों के ठहराव को लेकर भी नहीं मिला कोई आश्वासन


उत्तर-पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक टी.पी. सिंह शनिवार को जवाईबांध रेलवे स्टेशन पर विशेष सैलून में प्लेटफार्म नंबर एक पर पंहुचे। वे दो घंटे देरी से जवाई बांध स्टेशन पर पंहुचे। इसके बावजूद वे अपने कोच से नीचे नहीं उतरे। महाप्रबंधक से मिलने पंहुचे सुमेरपुर के विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रबुद्धजनों को दो घंटे के लंबे इंतजार के बाद भी निराशा ही हाथ लगी। विभिन्न सामाजिक संगठनों के निवेदन के बाद वे कोच के गेट पर पंहुचे और वहां पर खड़े-खड़े ही दस मिनट रूककर उनसे चर्चा की। रेल्वे स्टेशन का निरीक्षण किए बिना ही वे जयपुर के लिए रवाना हो गए। ज्ञात रहे कि दो साल पहले भी महाप्रबंधक जवाई बांध स्टेशन आए थे, लेकिन वे बिना रुके ही चले गए थे। उत्तर-पश्चिम रेल्वे महाप्रबंधक सिंह के आगमन पर उनसे मुलाकात के लिए रतनसिंह राजपुरोहित, नारायण लखमाजी, केसाराम मेड़तिया, नैनमल सोनी, रमेश बोहरा, दीपक भाटी, गजेंद्रसिंह गलथनी, श्रवण राठी, गोविंद, शांतिलाल, नटवर रामीणा, महेश परिहार, चंपालाल, प्रकाश कुमार, भीमाराम, मोहनलाल, हरीश परिहार, महेंद्र देवड़ा, लालाराम, राजेश जोशी, के सी जैन, सुनील अग्रवाल आदि पहुंचे।

दो घंटे देरी से पहुंचे जीएम : महाप्रबंधक सिंह दोपहर 3.58 बजे विशेष सैलून से जवाई बांध स्टेशन पर पहुंचने वाले थे, लेकिन वे 2 घंटे लेट 6 बजे पंहुचे। महाप्रबंधक से मिलने आए सामाजिक संगठनों के निवेदन पर केवल दस मिनट कोच के गेट पर खड़े रहे व उनसे वार्ता की। वार्ता के दौरान उन्होंने गाडिय़ों के ठहराव को लेकर रेलवे बोर्ड से जानकारी लेकर बताने का कहा। लोगों ने उन्हें बताया कि जवाई लेपर्ड व कैंसर हॉस्पिटल इस क्षेत्र में है व राजस्थान की प्रस्तावित पहली फिल्म सिटी बनाने के लिए जवाईबांध क्षेत्र को चुना है। लंबी दूरी की गाडिय़ों के ठहराव से यात्रियों को सुविधा मिलेगी। जिस पर जीएम सिंह ने कहा कि सभी गाडिय़ां तो नहीं रुक सकती पर एक्जामिन करने दीजिए बाद में देखेंगे।



जीएम ने जवाई बांध रेलवे स्टेशन की कैटेगरी जाननी चाही, जिस पर लोगों ने बताया कि पहले यह ए कैटेगरी था, जिसे अब बी कैटेगरी का दर्जा दिया गया है। लोगों ने सुमेरपुर पीआरएस की दूसरी पारी शुरू करने की मांग की, जिस पर जीएम ने कहा कि एक पारी में 170 से ज्यादा टिकिट बुक होने पर ही दूसरी पारी शुरू की जा सकती है। इसके बाद वे जयपुर के लिए रवाना हो गए। महाप्रबंधक सिंह के साथ रेलवे सुरक्षा आयुक्त भावप्रिता सोनी, सहायक सुरक्षा आयुक्त, इंस्पेक्टर जनरल, मुख्य परिचालन प्रबंधक जीपी मीना, मुख्य वाणिज्य प्रबंधक जसराम मीना, वरिष्ठ मंडल संकेत एवं दूरसंचार इंजीनियर दीपक वर्मा, मंडल वाणिज्य प्रबंधक अतुल श्रीवास्तव, वरिष्ठ मंडल विद्युत अभियंता भरत मीना एवं वरिष्ठ मंडल अभियंता पश्चिम एस एस भाटी मौजूद थे।

उत्तर-पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक टी.पी.सिंह विशेष सैलून से लवाजमे के साथ पहुंचे जवाई बांध स्टेशन

रेलवे के महाप्रबंधक सिंह कोच से नीचे ही नहीं उतरे। विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने इस मौके पर ज्ञापन भी दिए।

महाप्रबंधक ने ओवर ब्रिज निर्माण का आश्वासन दिया

उत्तर-पश्चिम रेलवे महाप्रबंधक सिंह के आगमन की सूचना पर सुमेरपुर शहर के विभिन्न सामाजिक संगठन उनसे मुलाकात करने जवाई बांध स्टेशन पर पंहुचे। करीब दो घंटे इंतजार के बाद वे जवाई बांध स्टेशन पंहुचे। कोच के गेट पर खड़े-खड़े ही उन्होंने सामाजिक संगठनों को ओवरब्रिज का जल्द ही निर्माण करवाने का आश्वासन दिया। केवल दस मिनट रूकने के कारण जिन गाड़ियों का ठहराव नहीं होता है, उस पर कोई आश्वासन नहीं मिलने से सामाजिक संगठनों व क्षेत्रवासियों को निराशा हाथ लगी।

X
उत्तर-पश्चिम रेलव
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..