• Home
  • Rajasthan News
  • Sumerpur News
  • विधायक राठौड़ द्वारा भवन की मरम्मत की स्वीकृति नहीं मिलने पर पेंशनर हुए निराश
--Advertisement--

विधायक राठौड़ द्वारा भवन की मरम्मत की स्वीकृति नहीं मिलने पर पेंशनर हुए निराश

सुमेरपुर| जवाई बांध रोड स्थित पेंशनर भवन में राजस्थान पेंशनर समाज उपशाखा सुमेरपुर की बैठक शनिवार को शाखा अध्यक्ष...

Danik Bhaskar | Feb 04, 2018, 07:40 AM IST
सुमेरपुर| जवाई बांध रोड स्थित पेंशनर भवन में राजस्थान पेंशनर समाज उपशाखा सुमेरपुर की बैठक शनिवार को शाखा अध्यक्ष भैरूसिंह की अध्यक्षता में आयोजित हुई। प्रेस सचिव पूनमचंद कुमावत ने बताया कि पेंशनरों को सातवें वेतन के परिलाभों का बैंकों द्वारा फिक्सेशन हो जाने पर पेंशनरों ने खुशी जाहिर की। साथ ही दानदाता मंजुदेवी प|ी धनेश कुमार मेवाड़ा ने अपने ससुर सुखराम की प्रेरणा पर पेंशनर भवन को दस कुर्सियां भेंट की जिस पर उन्हें धन्यवाद प्रेषित किया। उन्होंने बताया कि पूर्व में विधायक मदन राठौड़ को पेंशनर भवन की मरम्मत करवाने के लिए एस्टीमेट बनवाकर दिया गया था जिसकी स्वीकृति प्राप्त नहीं होने पर सभी पेंशनरों ने निराशा जाहिर करते हुए वापस स्मृति पत्र विधायक को प्रेषित करने का निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया। इस मौके पर शैतानसिंह, छैलसिंह, चेलाराम, बंशीदान, ताराचंद, पुखराज, नटवरराम, मदनसिंह, भोमाराम, करीम खां, हनवंतसिंह सहित कई पेंशनर्स मौजुद रहे।

सुमेरपुर| जवाई बांध रोड स्थित पेंशनर भवन में राजस्थान पेंशनर समाज उपशाखा सुमेरपुर की बैठक शनिवार को शाखा अध्यक्ष भैरूसिंह की अध्यक्षता में आयोजित हुई। प्रेस सचिव पूनमचंद कुमावत ने बताया कि पेंशनरों को सातवें वेतन के परिलाभों का बैंकों द्वारा फिक्सेशन हो जाने पर पेंशनरों ने खुशी जाहिर की। साथ ही दानदाता मंजुदेवी प|ी धनेश कुमार मेवाड़ा ने अपने ससुर सुखराम की प्रेरणा पर पेंशनर भवन को दस कुर्सियां भेंट की जिस पर उन्हें धन्यवाद प्रेषित किया। उन्होंने बताया कि पूर्व में विधायक मदन राठौड़ को पेंशनर भवन की मरम्मत करवाने के लिए एस्टीमेट बनवाकर दिया गया था जिसकी स्वीकृति प्राप्त नहीं होने पर सभी पेंशनरों ने निराशा जाहिर करते हुए वापस स्मृति पत्र विधायक को प्रेषित करने का निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया। इस मौके पर शैतानसिंह, छैलसिंह, चेलाराम, बंशीदान, ताराचंद, पुखराज, नटवरराम, मदनसिंह, भोमाराम, करीम खां, हनवंतसिंह सहित कई पेंशनर्स मौजुद रहे।