Hindi News »Rajasthan »Sumerpur» जिले में सोमवार को माध्यमिक स्कूलों के विद्यार्थियों का शैक्षणिक स्तर जांचेंगी सरकार

जिले में सोमवार को माध्यमिक स्कूलों के विद्यार्थियों का शैक्षणिक स्तर जांचेंगी सरकार

मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय के सर्वे में सामने आएगी हकीकत, इसी आधार पर तैयार होगा पाठ्यक्रम भास्कर न्यूज |...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 04, 2018, 07:40 AM IST

मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय के सर्वे में सामने आएगी हकीकत, इसी आधार पर तैयार होगा पाठ्यक्रम

भास्कर न्यूज | सुमेरपुर

देश में हमारे जिले का शैक्षणिक स्तर कैसा है, इसकी हकीकत नेशनल एचीवमेंट सर्वे के जरिए सामने आएगी। इसका निर्धारण 05 फरवरी को माध्यमिक शिक्षा के 10वीं कक्षा में अध्ययनरत विद्यार्थियों के शैक्षणिक स्तर की जांच नेशनल एचीवमेंट सर्वे (एनएएस)के जरिए सामने आएगी। दसवीं कक्षा के विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा से पहले ओएमआर शीट पर सवालों के जवाब देंगे। इसके लिए शिक्षा विभाग ने हर स्कूल में दो पर्यवेक्षक नियुक्त किए हैं। परीक्षा सुबह 11 से दोपहर साढ़े 12.30 बजे तक होगी। सर्वे के लिए पाली जिले के 80 स्कूलों का चयन किया गया जिसमें 51 सरकारी व 29 निजी स्‍कूल शामिल है। सर्वे में किसी तरह की धांधली न हो इसके लिए परीक्षा के लिए चयनित स्कूलों के नाम नहीं दिए गए हैं। सर्वे के लिए क्षेत्र के स्कूलों में भी तैयारी की जा रही है। शिक्षकों का कहना है कि उच्चाधिकारियों से मिले निर्देशों के अनुसार तैयारी की जा रही है।

5 विषयों की होगी परीक्षा

शिक्षा विभाग के अधिकारियों अनुसार इस सर्वे में पांच विषयों की परीक्षा होगी। परीक्षा में हिंदी, अंग्रेजी, गणित, विज्ञान व सामाजिक विज्ञान के प्रश्न पूछे जाएंगे। सर्वे की परीक्षा के दिन कक्षा 10 का कोई भी विद्यार्थी या उनको पढ़ाने वाले शिक्षक किसी भी परिस्थिति में अनुपस्थित नहीं रहेंगे।

प्रारंभिक के बाद माध्यमिक शिक्षा के विद्यार्थी देंगे परीक्षा : मानव संसाधन विकास मंत्रालय व एनसीईआरटी की ओर से प्रारंभिक के बाद अब माध्यमिक की कक्षा दसवीं के विद्यार्थियों का शिक्षा स्तर जांचने की तैयारी की जा रही है। अधिकारियों ने बताया कि इस परीक्षा के आयोजन से सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले कक्षा 10 के विद्यार्थियों का शिक्षा स्तर की जांच तो होगी ही विद्यार्थियों की मुख्य परीक्षा से पहले तैयारी भी हो जाएगी। इस परीक्षा के लिए अब तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि इस परीक्षा में जिले के कितने विद्यार्थियों व स्कूलों को शामिल किया जाएगा।

जिला स्तरीय कमेटी रखेगी नजर : परीक्षा कराने के लिए जिला स्तर पर एक कमेटी का गठन किया गया है। इस कमेटी में जिला शिक्षा अधिकारी(माध्यमिक), डायट के प्रधानाचार्य एवं डायट रमसा के एडीपीसी को शामिल किया गया है। यह टीम सर्वे की सभी गतिविधियों को कराने के साथ ही निष्पक्ष परीक्षा करवाएंगे। पर्यवेक्षण दल का भी गठन किया गया है। इसमें जिला शिक्षा अधिकारी (माध्यमिक), डीईओ (प्रारंभिक), डायट प्रधानाचार्य व अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी( माध्यमिक) शामिल हैं।

एक कमरे में 45 बच्चों को बैठाएंगे

माध्यमिक स्तर तक के इस सर्वे में एक स्कूल के 15-15 विद्यार्थियों को शामिल किया जाएगा। वे सभी एक ही कक्ष में बैठेंगे। कक्षा 10 के एक से ज्यादा सेक्शन होने पर एक ही सेक्शन से विद्यार्थी परीक्षा दे सकेंगे। पांच विषयों के अलावा छात्रों को स्कूल व्यवस्था से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे। शिक्षक व संस्था प्रधानों से भी प्रश्न पूछे जाएंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sumerpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×