• Home
  • Rajasthan News
  • Sumerpur News
  • सुमेरपुर पहुंची स्वच्छता सर्वेक्षण टीम, आज से करेगी जांच, निरीक्षण में शहर के लोगों की राय रहेगी अहम
--Advertisement--

सुमेरपुर पहुंची स्वच्छता सर्वेक्षण टीम, आज से करेगी जांच, निरीक्षण में शहर के लोगों की राय रहेगी अहम

केंद्र सरकार के स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 में ग्राउंड रिपोर्ट के लिए बुधवार को केन्द्रीय टीम सुमेरपुर पंहुची एवं...

Danik Bhaskar | Feb 15, 2018, 07:45 AM IST
केंद्र सरकार के स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 में ग्राउंड रिपोर्ट के लिए बुधवार को केन्द्रीय टीम सुमेरपुर पंहुची एवं गुरूवार से यह टीम शहर में साफ-सफाई के इंतजाम देखेगी तथा शहरवासियों से फीडबैक लेगी। स्वच्छता में अच्छी रैंकिंग पाने के लिए नगर पालिका ने साफ-सफाई के साथ तैयारियां पूरी कर ली है। शहर के प्रमुख स्थानों पर रात के समय साफ सफाई की जा रही है। गीले व सूखे कचरे के लिए घर-घर डस्टबिन बांटे गए हैं तथा घर-घर कचरा संग्रहण के लिए खरीदे गए नए वाहनो सहित पुराने वाहनो से कचरा संग्रहण के लिए रूट तैयार कर संग्रहण किया जा रहा हैं।। नगर पालिका अध्यक्ष जोराराम कुमावत व अधिशाषी अधिकारी लगातार शहर के साफ सफाई को लेकर निरीक्षण कर रहे है। ताकि शहर को स्वच्छ रख सके व टीम को शहर के हालत ठीक मिले। स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में देशभर के लगभग 4 हजार शहर शामिल हैं। इन शहरो में 4 जनवरी से 28 फरवरी तक सर्वे किया जाएगा। तत्पश्चात टीम अंकों के आधार पर रैंकिंग तय करेगी। तीन दिन तक सुमेरपुर में रहकर टीम शहर का सर्वे करेगी।

शहरवासियों के फीडबैक के आधार पर होगी शहर की रैंकिंग

रात को भी हो रही सफाई

नगरपालिका की ओर से इन दिनों शहर की प्रमुख सड़कों पर रात के समय भी साफ सफाई की जा रही है। रात को झाडू लगवाने के साथ तत्काल कचरे को शहर से बाहर ट्रेचिंग ग्राउंड में फेंका जा रहा है।


स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर तैयारियां पूरी

4000 अंकों का सर्वे

सर्वेक्षण टीम की ओर से 4 हजार अंकों के लिए सर्वे किया जाएगा। इसमें शहर से निकलने वाले कचरे के संग्रहण व परिवहन के लिए 1400, सफाई व्यवस्थाओं में सुधार के साथ जागरूकता के लिए 1200 व नागरिकों की प्रतिक्रिया के 1400 अंक रहेंगे।

माइनस मार्किंग भी

सर्वे टीम द्वारा शहरवासियों को सूखा व गीला कचरा अलग-अलग एकत्रित करने को लेकर पूछा जाएगा। अगर 10 में से 3 या इससे अधिक परिवार इंकार करते है तो नगर पालिका के अंक काट दिए जाएंगे। अन्य अंकों का निर्धारण भी ऐसे ही होगा।

ये सवाल पूछे जाएंगे शहरवासियों से

सर्वेक्षण टीम द्वारा शहरवासियों से सार्वजनिक व सामुदायिक शौचालयों की स्थिति, संख्या व साफ-सफाई पर सवाल पूछे जाऐंगे जिसमें इनकी स्थिति लोगो द्वारा बताने के आधार पर अंक दिए जाएंगे। वही गीला-सूखा कचरा संग्रहण के लिए डोर टू डोर सिस्टम, व्यवसायिक क्षेत्रों में लगे लिटरबिन (छोटे डस्टबिन) का उपयोग के बारे में पूछा जाएगा। शहरवासियों से उनके क्षेत्र में साफ-सफाई को लेकर भी प्रश्न पूछे जाऐंगे जिसमें पहले से बेहतर कि स्थिति में ज्यादा अंक व पहले से खराब की स्थिति में कोई अंक नहीं मिलेगा। क्या आपको जानकारी है कि आपका शहर स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में भाग ले रहा है? उस पर जवाब देने पर भी अंक दिए जाएंगे।