राजस्थान से वाहन चोरी कर बेचने वाला गिरोह पकड़ा / राजस्थान से वाहन चोरी कर बेचने वाला गिरोह पकड़ा

Sumerpur News - पाली | रानी थाना पुलिस ने गुजरात व राजस्थान के सीमावर्ती इलाके से वाहन चोरी कर बेचने वाले गिरोह का खुलासा करते हुए...

Bhaskar News Network

Jan 13, 2018, 07:50 AM IST
राजस्थान से वाहन चोरी कर बेचने वाला गिरोह पकड़ा
पाली | रानी थाना पुलिस ने गुजरात व राजस्थान के सीमावर्ती इलाके से वाहन चोरी कर बेचने वाले गिरोह का खुलासा करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया हैं। इनके कब्जे से पुलिस ने चोरी के चार वाहन भी जब्त किए हैं, जिनमें स्कार्पियो, शिफ्ट कार, जीप भी हैं। एसपी दीपक भार्गव का कहना है कि गिरोह का सरगना रानी निवासी मुन्ना मकरानी है, जो पूर्व में भी पकड़ा गया था, जिसके बाद से वह ठिकाना बदल कर पालनपुर इलाके में सक्रिय हो गया। उसकी तलाश के लिए टीमें संभावित ठिकानों पर भेजी गई हैं। गिरोह में काफी और लोग भी शामिल हैं, जिनकी भी तलाश की जा रही है।





सरगना का बहनोई व ड्राइवर भी पकड़ा गया

रानी इलाके में चोरी के वाहनों की खरीद-फरोख्त की सूचना के बाद रानी थाना प्रभारी दीपसिंह भाटी के नेतृत्व में टीम गठित की गई। टीम में एएसआई कानाराम सीरवी, कमलसिंह, हैडकांस्टेबल करणाराम, महेंद्रसिंह, मदनसिंह राजपुरोहित, रमेशचंद्र व कांस्टेबल गेनाराम, अचलाराम, भगवानसिंह व सहदेवराम भी शामिल थे। पुलिस ने रानी निवासी वाहन चोर गिरोह के सरगना मुन्ना मकरानी के बहनोई अजीज खान पुत्र लाल मोहम्मद निवासी गांथी हाल जाखा नगर सुमेरपुर, उसके ड्राइवर पोपसिंह उर्फ पप्पूसिंह राजपूत निवासी नैनावद जिला उज्जैन तथा रानी गांव निवासी विक्रमसिंह पुत्र गुलाबसिंह रावणा राजपूत को गिरफ्तार किया।

आरटीओ ऑफिस की भी भूमिका संदिग्ध, जांच में जुटी पुलिस

रानी थाना प्रभारी दीपसिंह भाटी ने बताया कि पकड़े गए तीनों आरोपियों से चोरी के चार वाहन बरामद किए गए हैं, जिसके इंजन व चेसिस नंबर बदल कर कागजात बनाए गए। वाहन चोरी का यह गिरोह जालोर के सांचौर, सिरोही के रेवदर व आबूरोड़ तथा गुजरात के पालनपुर व मेहसाणा में सक्रिय था, जिन्होंने इस इलाके से वाहन चुराए। चोरी के वाहनों के कागजात बनाने में परिवहन विभाग की भूमिका संदिग्ध है, जिसके बारे में पता लगाया जा रहा है।

X
राजस्थान से वाहन चोरी कर बेचने वाला गिरोह पकड़ा
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना