--Advertisement--

बाल मेले में दिया स्वच्छता का संदेश

सुमेरपुर. स्वामी विवेकानंद राजकीय विद्यालय में आयोजित बाल मेले में विद्यार्थियों द्वारा लगाई गई स्टालें।...

Dainik Bhaskar

Feb 16, 2018, 07:50 AM IST
बाल मेले में दिया स्वच्छता का संदेश
सुमेरपुर. स्वामी विवेकानंद राजकीय विद्यालय में आयोजित बाल मेले में विद्यार्थियों द्वारा लगाई गई स्टालें।

स्वामी विवेकानंद मॉडल स्कूल में बाल मेला आयोजित

भास्कर न्यूज | सुमेरपुर

स्थानीय स्वामी विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूल में गुरुवार को बाल मेले का आयोजन हुआ। मेले का शुभारंभ उपखंड अधिकारी विनोद कुमार मल्होत्रा ने मां शारदे के समक्ष माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित कर किया। एसडीएम मल्होत्रा ने बाल मेले का निरीक्षण किया। भाजपा जिलाध्यक्ष करणसिंह नेतरा ने विद्यार्थियों के रचनात्मक कार्यों की प्रशंसा की। मेले में विद्यार्थियों ने चिल्ड्रन गेम, फास्ट फूड, सिनेमा घर आदि की स्टॉल लगाई। फेयर प्रभारी तेजराज टेलर ने चाइल्ड फेयर का मुख्य उद्देश्य कम्युनिकेशन स्किल, महिला उद्यमिता को बढ़ावा व स्वच्छता का संदेश देना बताया। मेले में निर्णायक की भूमिका हीरालाल औदिच्य, हंसराज गर्ग व अयोध्यासिंह ने निभाई। मेले में प्रथम स्थान पर जिज्ञासा गहलोत एंड ग्रुप रहा। इस अवसर पर प्रधानाचार्य शैतानसिंह सांदू,पालिकाध्यक्ष जोराराम कुमावत, भाजपा नगर अध्यक्ष मांगीलाल सुथार आदि मौजूद थे।

अभिभावकों ने कलेक्टर को पत्र लिखा, स्कूल आने-जाने के लिए सड़क निर्माण की मांग की : बाल मेले के पश्चात अध्यापक व अभिभावकों की बैठक आयोजित हुई। बैठक में अभिभावकों ने विद्यालय आने-जाने के लिए सड़क बनाने की मांग को लेकर कलेक्टर के नाम एसडीएम को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में बताया गया कि स्वामी विवेकानंद मॉडल स्कूल में वर्तमान में 300 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत है, जो पिछले 1 वर्ष से संचालित है। जिसमें छात्रों के आने-जाने के लिए रोड नहीं है। इस बारे में कई बार विद्यालय द्वारा लिखित एवं मौखिक रूप से प्रशासनिक अधिकारियों एवं स्थानीय विधायक, नगरपालिका अध्यक्ष, अधिशाषी अधिकारी व सहायक अभियंता सार्वजनिक निर्माण विभाग सुमेरपुर को सूचित किया गया है। इसके बावजूद प्रशासन व अधिकारियों द्वारा इस रोड के निर्माण को लेकर आज दिन तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने बताया कि स्कूल का समय ऐसा समय होता है, जिसमें छात्र-छात्राओं को समय पर स्कूल आने के लिए जल्दबाजी रहती है एवं राष्ट्रीय राजमार्ग क्रास कर स्कूल जाना पड़ता है। बच्चों को स्कूल ले जाते समय स्कूल बस को गलत दिशा से फोरलेन क्रॉस करना पड़ता है, जिससे स्कूल बस व बच्चों के साथ बड़ी दुर्घटना होने की आशंका रहती है।

X
बाल मेले में दिया स्वच्छता का संदेश
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..