Hindi News »Rajasthan »Sumerpur» खेतों में पहले चोरी-छिपे होती थी भांग की फसल, महिलाओं ने विरोध किया, अब भिंडी की देशभर में कर रही सप्लाई

खेतों में पहले चोरी-छिपे होती थी भांग की फसल, महिलाओं ने विरोध किया, अब भिंडी की देशभर में कर रही सप्लाई

बाली के आदिवासी अंचल के खेतों में बरसों से मक्के की ही पैदावार होती रही है। चोरी-छिपे कई आदिवासी डोडा-पोस्त तथा...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 11, 2018, 07:50 AM IST

खेतों में पहले चोरी-छिपे होती थी भांग की फसल, महिलाओं ने विरोध किया, अब भिंडी की देशभर में कर रही सप्लाई
बाली के आदिवासी अंचल के खेतों में बरसों से मक्के की ही पैदावार होती रही है। चोरी-छिपे कई आदिवासी डोडा-पोस्त तथा भांग के पौधे भी पनपाते रहते थे। अब आदिवासी महिलाएं इस पहाड़ी इलाके में प्रदेश की सबसे उन्नत भिंडी की फसल उगाकर डेढ़ करोड़ रुपए का कारोबार कर रही है। पहाड़ों पर उगने वाली भिंडी की विशेषता यह है कि 6 इंच तक लंबी होने के साथ इसमें फाइबर की अधिकता तथा मिठास के साथ ही कोमल होने के कारण देश के प्रमुख शहराें में इसकी मांग जबरदस्त बढ़ रही है। महिलाओं की जागरूकता से हुए इस नवाचार के बाद इनके परिवारों के चेहरे खुशी से चमक रहे हैं। भिंडी के साथ सीजनल सब्जियों काे उगाने की तकनीक भी इनके हाथों में आ गई है। अब यहां टमाटर के साथ ही मिर्च तथा मटर की पैदावार भी हो रही है। जानकारी के अनुसार आदिवासी इलाके में पहाड़ों की ओट में आबाद खेतों में वर्ष 2011 से लेकर 2016 तक पुलिस ने डोडा-पोस्त व भांग के पौधे पनपाने के 7 मामले पकड़े थे। साथ ही खेतों से 213 मादक पदार्थों के पौधे जब्त किए थे। अब पहाड़ों में महिलाओं की जागरूकता के बाद आदिवासियों ने तौबा कर ली है। अब इन खेतों मेंं सब्जियों की फसलें लहलहाती दिख रही है। महिलाओं के समूह ने सूजन संस्था के सहयोग से सब्जियों की पैदावार करने से पहले खेतों की मिट्टी की जांच कराई थी। उच्च गुणवत्ता की मिट्टी होने तथा भरपूर फाइबरयुक्त होने की रिपोर्ट आने के बाद सीजनल सब्जियां उगानी शुरू की थी। पहली बार भीमाणा में इसका प्रयोग किया गया। फसल उन्नत होने के बाद धीरे-धीरे काेयलवाव, आमलिया, नाणा तथा भंदर के 300 परिवारों को इससे जोड़ दिया।

बाली की अरावली पर्वतमाला से गुजर रही 13 ग्राम पंचायतों में से 5 ग्राम पंचायतों की मेहनतकश

महिलाएं पहाड़ों पर उगा रही सब्जियां, भिंडी के साथ टमाटर, मिर्च व मटर की हो रही बंपर पैदावार

5 ग्राम पंचायतों के 300 परिवार, 1000 बीघा में हो रही सब्जियों की खेती

इस क्षेत्र में सक्रिय सृजन संस्था की पहल पर महिलाओं ने कोयलवाव, भीमाणा, नाणा, आमलिया तथा भंदर गांव में एक बीघा खेत के चौथाई हिस्से में सब्जी की पैदावार शुरू की थी, पहली बार में भिंडी की फसल उगाई गई। रखरखाव के साथ ही महिलाओं ने भिंडी को पनपाने के लिए खाद समेत अन्य जैविक केमिकल्स का ध्यान रखा। एक बार में ही एक चौथाई बीघा में ही 18 हजार रुपए तक की भिंडी हो गई।

पहले सुमेरपुर जाकर बेचते थे भिंडी, अब अहमदाबाद, मुंबई, ऊंझा तथा चेन्नई तक से लोग एडवांस में ऑर्डर देकर आते हैं खरीदने

पहले इस क्षेत्र में उगने वाली भिंडी को बेचने के लिए महिलाओं को खुद सुमेरपुर सब्जी मंडी में जाना पड़ता था। अब एक साल से यहां की भिंडी में अधिक फाइबर, मिठास व कोमलता होने के कारण इसकी मांग अहमदाबाद, ऊंझा, मुंबई तथा चेन्नई में भी होने लगी है। यहां के मटर की मांग भी काफी है।

आदिवासी इलाके में संस्था के सहयोग से नवाचार कर सीजनल सब्जियों का बड़ा मार्केट तैयार किया जा रहा है। वर्तमान में 5 ग्राम पंचायतों के 300 परिवारों को इस प्रोजेक्ट से जोड़ा है। अब शेष 8 ग्राम पंचायतों के 500 महिला परिवारों को भी जोड़ा जाएगा। - लक्ष्मण जेठानी, प्रभारी, सृजन, पाली

आदिवासी इलाके में पहाड़ों पर पहले सब्जियां उगाना सपने की तरह था। चोरी-छिपे मादक पदार्थों के पौधे भी पनपाते थे, मगर महिलाओं की जागरूकता के बाद आदिवासी क्षेत्र से अब नशा भाग रहा है। - सामताराम गरासिया, पूर्व प्रधान, बाली

यहां की जमीन की मिट्टी उच्च गुणवत्ता की होने तथा उचित जलवायु होने के बाद सृजन के सहयोग से सब्जियों को उगाना शुरू किया था। पहले प्रायोगिक तौर पर किया गया, मगर अब भिंडी, मटर तथा मिर्ची की पैदावार से परिवारों की आर्थिक स्थिति भी सुदृढ़ हो रही है। - चूनरी बाई, आदिवासी महिला समूह प्रमुख

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sumerpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×