• Home
  • Rajasthan News
  • Sumerpur News
  • गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य ठीक रखने के लिए मिलेंगे ‌~ 5 हजार
--Advertisement--

गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य ठीक रखने के लिए मिलेंगे ‌~ 5 हजार

नएसाल से गर्भवती महिलाओ और स्तनपान कराने वाली माताओं को अब केन्द्र सरकार की ओर से प्रधानमंत्री केंद्रीय मातृत्व...

Danik Bhaskar | Jan 05, 2018, 08:11 AM IST
नएसाल से गर्भवती महिलाओ और स्तनपान कराने वाली माताओं को अब केन्द्र सरकार की ओर से प्रधानमंत्री केंद्रीय मातृत्व वंदना योजना के तहत आर्थिक सहायता राशि दी जाएगी। यह योजना महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा लागू की जा रही है।

इस योजना में गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं को पहले जीवित जन्म के लिए 5 हजार की पोषण राशि दी जाएगी। ताकि वे इस राशि को अपने स्वास्थ्य शिशु के पोषण पर खर्च कर सकेंगी। योजना की लाभ राशि डीबीटी के माध्यम से तीन किश्तों में महिलाओं के बैंक खाते में सीधे भेजी जाएगी। इस संबंध में सरकार की ओर से जारी किए गए संकल्प में कहा गया है कि बहुसंख्यक महिलाएं कुपोषण से प्रभावित है। प्रत्येक तीसरी महिला कुपोषित है एवं प्रत्येक दूसरी महिला में एनिमिया है। ये महिलाएं कम वजन के बच्चे को जन्म देती है या अल्पपोषण जन्म से प्रारंभ होकर पूरे जीवन को प्रभावित करता है। आर्थिक सेवा सामाजिक परिस्थितियों के कारण कई महिलाओं को प्रसव के एक दिन पूर्व तक काम करना एवं प्रसव के कुछ ही दिन बाद काम पर वापस आना पड़ता है। हालांकि उनका शरीर इस कार्य के लिए कुछ समय उपयुक्त नहीं होता है। इससे वे शिशुओं को समय पर स्तनपान भी नहीं करा पाती है। प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना से उन महिलाओं के नुकसान की भरपाई, उचित आराम पोषण को सुनिश्चित करना है।

पांचमहीनों के अंदर करना होगा पंजीकरण : गर्भावस्थाकी तारीख एवं स्टेज की गणना उनके एलएमपी की तिथि के अनुसार मान्य होगी। गर्भावस्था का पंजीकरण एलएमपी की तारीख से 150 दिनों के अंदर होना चाहिए। इसके लिए आंगनबाड़ी केन्द्र या निकटतम स्वीकृत स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों में करवाया जा सकता है। पंजीकरण के लिए आवेदन पत्र सीधे आंगनबाड़ी केंद्रों या स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों पर निशुल्क मिलेंगे। आवेदन पत्र महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट से भी डाउनलोड किया जा सकता है। 5 हजार रुपए की गर्भावस्था सहायता राशि के दावे के लिए भरे हुए आवेदन फार्म को उसी आंगनबाड़ी केन्द्र या स्वास्थ्य सुविधा केन्द्र में जमा करवाना होगा।

प्रथमबार गर्भवती होने वाली महिलाओं को इस योजना का लाभ दिया जाएगा : केन्द्रसरकार ने मातृत्व लाभ योजना का लाभ ऐसी गर्भवती महिलाओं को देने का प्रावधान बनाया है, जिनका पहला प्रसव हुआ है।





गर्भधारण के समय पंजीकरण नहीं करवाने पर राशि लेने में परेशानी होगी। योजना की पुरी राशि लेने के लिए निबंधन जांच प्रतिवेदन बनाना जरूरी है।

तीनकिश्तों में होगा राशि का भुगतान : पहलीकिश्त 1000 रुपए गर्भावस्था के पंजीकरण के समय दी जाएगी। दूसरी किश्त यदि लाभार्थी छह महीने की गर्भावस्था के बाद कम से कम एक प्रसवपूर्व जांच करवा लेते है तो 2000 रुपए मिलेंगे। वही तीसरी किश्त में जब बच्चे का जन्म पंजीकृत हो जाता है और बच्चे को बीसीजी, ओपीवी, डीपीटी, हेपेटाइटिस-बी सहित पहले चरण के टीके लगवाने पर 2000 रुपए दिए जाएंगे।

जिला, ब्लॉक ग्राम स्तर पर होगा समितियों का गठन

योजनामें लाभार्थियों के चयन के लिए जिला एवं ब्लॉक स्तर पर समिति का गठन किया जाएगा। योजना के क्रियान्वयन के लिए जिला से लेकर ग्राम स्तर तक समितियों का गठन होगा। जिलास्तरीय समिति के अध्यक्ष कलेक्टर, उपाध्यक्ष जिला परिषद सीईओ, सचिव समेकित बाल विकास सेवाओं के उपनिदेशक सदस्य, जिले के सांसद, विधायक, सीएमएचओ आठ अन्य विभागों के अधिकारी इसमें सदस्य होंगे। ग्राम स्तर पर ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता समिति हर माह बैठक कर योजना का क्रियान्वयन करेंगे। गांव में अगर बैंक है तो उसके शाखा प्रबंधक या डाकघर प्रभारी को भी सदस्य बनाया जाएगा।

^सरकार की ओर से योजना प्रस्तावित है जैसे ही आदेश मिलेंगे काम शुरू कर देंगे। डॉ.प्रवीण अरोडा, चिकित्साप्रभारी, सुमेरपुर

इनको नहीं मिलेगा इसका लाभ

केन्द्रीय,राज्य कर्मचारी या किसी सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम के साथ नियमित रोजगार में है। जो किसी अन्य योजना या कानून के तहत समान लाभ प्राप्तकर्ता है।

अच्छी खबर