Hindi News »Rajasthan »Sumerpur» प्रेरकों की नौकरी संकट में, लोक शिक्षा केंद्र पुस्तकालय बंद होंगे

प्रेरकों की नौकरी संकट में, लोक शिक्षा केंद्र पुस्तकालय बंद होंगे

साक्षरता की अलख जगाने वाले प्रेरकों का अनुबंध समाप्त गत वर्ष में दो बार बढ़ाया जा चुका है अनुबंध भास्करन्यूज...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 06, 2018, 08:15 AM IST

{साक्षरता की अलख जगाने वाले प्रेरकों का अनुबंध समाप्त

{गत वर्ष में दो बार बढ़ाया जा चुका है अनुबंध

भास्करन्यूज | सुमेरपुर

गांव-गांवमें शिक्षा की अलख जगाने वाले प्रेरकों की नौकरी खतरे में पड़ गई हैं। इनका अनुबंध 31 दिसंबर को समाप्त हो गया है। यदि सरकार ने अनुबंध नहीं बढ़ाया तो सुमेरपुर उपखंड के 29 ग्राम पंचायतों में से 19 ग्राम पंचायतों में कार्यरत 38 प्रेरक बेरोजगार हो जाएंगे। जबकि 10 पंचायतों में प्रेरकों के पद रिक्त पड़े है। ब्लॉक में 4 पंचायत कोलीवाडा, भारुंदा, सलोदरिया कोसेलाव में समतुल्यता कार्यक्रम शुरू है जिसके तहत नवसाक्षरों और ड्रॉपआउट को कक्षा 3, 5 और 8 के समकक्ष परीक्षाएं दिलाकर मुख्यधारा में सम्मिलित करना है। सभी ग्राम पंचायत स्तर से सेवानिवृत्त शिक्षकों की सेवाएं लेने के लिए नाम मांगे गए थे। हालांकि प्रेरक इस आस में है कि सरकार इनके लिए कुछ फायदा करेगी अनुबंध को आगे बढ़ाएगी। ज्ञात रहे कि केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा साक्षर भारत अभियान के तहत लगभग हर पंचायत में दो-दो प्रेरक लगे हुए है। जिनमें एक पुरुष एक महिला हैं। ब्लॉक के प्रेरकोंं को 2000 रुपए मानदेय और राज्य सरकार की ओर से 500 रुपए पुस्तकालय संचालन के पेटे भुगतान किया जाता है। इनका अनुबंध 31 दिसंबर को खत्म हो चुका है। साक्षर भारत मिशन मई 2012 में शुरू हुआ था। जो इस साल 31 मार्च को बंद होना था। पहले केंद्र सरकार ने इसकी अवधि 6 माह के लिए बढ़ाकर 30 सितंबर तक कर दी थी। उसके बाद यह अवधि 3 माह बढ़ाकर 31 दिसंबर तक कर दी गई थी। पूर्व घोषित कार्यक्रम के बाद 2 बार में अवधि 9 माह बढ़ाई जा चुकी है। इस बार 31 दिसंबर के बाद यह प्रोजेक्ट बंद होगा अथवा अवधि को बढ़ाया जाएगा। इसे लेकर अभी तक गाइडलाइन सरकार से जारी नहीं हुई है। इसलिए 31 मार्च 2018 तक एक्सटेंशन भी मिल सकता है। श्रीगंगानगर जिले में 320 महिला प्रेरक 320 ही पुरुष प्रेरक हैं। साक्षर भारत मिशन 31 दिसंबर से बंद करने को लेकर ब्लॉक के प्रेरकों में रोष व्याप्त है। ब्लॉक साक्षरता विभाग के अनुसार ब्लॉक में अभी तक करीब 20 हजार से ज्यादा लोगों को साक्षर किया जा चुका है। इसके अलावा जिले में विभाग की ओर से किए गए सर्वे के अनुसार करीब 5 से 10 प्रतिशत ही असाक्षर लोग बचे होंगे। यह वे लोग हैं जो अपंग हैं या फिर अपने निवास स्थान को छोड़कर किसी दूसरी जगह के लिए पलायन कर चुके हैं। विभाग के अफसरों का कहना है कि इस कार्यक्रम की जगह विभाग की ओर से अब कौनसा कार्यक्रम आएगा। इसकी अभी तक कोई भी अधिकारिक तौर पर जानकारी नहीं है। लेकिन अभी तक इस कार्यक्रम के अनुबंध को बढाने को लेकर कोई गाइडलाइन आई नहीं है।

^अभी तक कोई आदेश नहीं मिला है। प्रेरको का कार्यकाल सितंबर 2017 में तीन महीने बढ़ाकर 31 दिसंबर तक किया गया था, जो अब खत्म हो चुका है। उच्चस्तर से अनुबंध बढाने के संबंध में कोई आदेश जारी नहीं हुए है। -गजेन्द्रसिंहजोधा, ब्लॉकसमन्वयक जिला साक्षरता एवं सतत शिक्षा विभाग, सुमेरपुर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sumerpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×