• Home
  • Rajasthan News
  • Sumerpur News
  • परीक्षा कराने के बाद बेरोजगार होंगे प्रेरक, 4 बार पहले भी हटे
--Advertisement--

परीक्षा कराने के बाद बेरोजगार होंगे प्रेरक, 4 बार पहले भी हटे

गांव-ढाणी में शिक्षा की अलख जगाने वाले प्रेरकों के साथ सरकार खुद अपने बजट का भी मखौल उड़ा रही है। सरकार उनके लिए कोई...

Danik Bhaskar | Mar 26, 2018, 08:05 PM IST
गांव-ढाणी में शिक्षा की अलख जगाने वाले प्रेरकों के साथ सरकार खुद अपने बजट का भी मखौल उड़ा रही है। सरकार उनके लिए कोई नया कार्यक्रम चलाने के बजाय बार-बार अनुबंध खत्म करने व बढ़ाने का खेल कर रही है। डेढ़ साल में चार बार अनुबंध बढ़ाया जा चुका है। पिछली बार उनको 31 जनवरी को हटा दिया था। इस बीच जब 25 मार्च को आखिरी बुनियादी साक्षरता परीक्षा आई तो उन्हें वापस प्रेरक याद आ गए। मजेदार बात यह कि अब अनुबंध 31 मार्च तक ही बढ़ाया गया है। यानी परीक्षा के छह दिन बाद वापस ब्लॉक के प्रेरक बेरोजगार हो जाएंगे।

राष्ट्रीय कार्यक्रमों में साक्षर भारत शिक्षा क्षेत्र का बड़ा कार्यक्रम है। पिछले साल से केंद्र सरकार इसे बंद कर नया कार्यक्रम लांच करने वाली थीं, लेकिन अब तक न तो नया कार्यक्रम तैयार हो पाया और न ही प्रेरकों के भविष्य के बारे में सोचा गया। बार-बार अनुबंध खत्म करने के फरमान से प्रेरक परेशान है। सरकार न तो साक्षर भारत अभियान को सही ढंग से चला पा रही है और न प्रेरकों से सही प्रकार से काम ले पा रही है। कुछ प्रेरक अपने आपको बेरोजगार मानते हुए काम भी नहीं कर रहे थे, तो कुछ असमंजस का शिकार है। अब सरकार के ध्यान में आया कि साक्षर भारत अभियान में 25 मार्च को आखिरी परीक्षा करानी थी तो 14 मार्च को आदेश जारी कर प्रेरकों का अनुबंध 31 मार्च तक बढ़ाया गया। छह दिन बाद अनुबंध प्रेरक फिर से बेरोजगार हो जाएंगे।

जिलेभर में बार-बार अनुबंध खत्म करने के फरमान से प्रेरक परेशान है, प्रेरकों का अनुबंध 31 मार्च तक बढ़ाया है

अनुबंध बढ़ाने का खेल






आगे क्या

सरकार की साक्षर भारत मिशन बंद करने की तैयारी है। इसी लिहाज से प्रेरकों की छुट्टी की है। लोक शिक्षा केंद्र बंद होने की स्थिति में सरकार नया अभियान शुरू कर सकती है। संपूर्ण साक्षरता को ध्यान में रखते हुए असाक्षर महिला व पुरुषों को साक्षर किया जाएगा।

परीक्षा पर भी सवाल