• Home
  • Rajasthan News
  • Sumerpur News
  • Sumerpur - सिरोही के पांचों सरकारी कॉलेजों और पाली जिले में सात में से चार पर एबीवीपी, 20 में निर्दलीय तो एक कॉलेज में एनएसयूआई के अध्यक्ष जीते
--Advertisement--

सिरोही के पांचों सरकारी कॉलेजों और पाली जिले में सात में से चार पर एबीवीपी, 20 में निर्दलीय तो एक कॉलेज में एनएसयूआई के अध्यक्ष जीते

राजकीय महाविद्यालय में हुए छात्रसंघ चुनाव के परिणाम मंगलवार को जारी किए गए। सवेरे ग्यारह बजे से मतगणना की शुरूआत...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 06:40 AM IST
राजकीय महाविद्यालय में हुए छात्रसंघ चुनाव के परिणाम मंगलवार को जारी किए गए। सवेरे ग्यारह बजे से मतगणना की शुरूआत हुई जो करीब दोपहर डेढ़ बजे तक जारी रही। मतगणना के रुझानों में तीसरे मोर्चा यानि छात्र संघर्ष समिति ने बाजी मारते हुए अपने विपक्षी एबीवीपी व एनएसयूआई को भारी मतों से हराते हुए जीत हासिल की। सभी पदों पर सीएसएस ने अपना परचम लहराया। चुनाव परिणाम में अध्यक्ष पद पर गजेंद्र दहिया, उपाध्यक्ष करण कुमार, महासचिव जगतपालसिंह व संयुक्त सचिव पद पर सुमित्रा को विजेता घोषित किया गया। कार्यवाहक प्राचार्य डॉ. चेतन जोशी द्वारा विजयी प्रत्याशियों को पद व गोपनीयता की शपथ दिलवाई गई। चुनाव परिणामों को देखते हुए महाविद्यालय परिसर सहित मुख्य द्वार पर सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस वृत्ताधिकारी कानसिंह भाटी, सुमेरपुर पुलिस निरीक्षक सुमेरसिंह इंदा व तखतगढ़ सीआई बलभद्रसिंह सहित तखतगढ़, सांडेराव व नाना थाने के अतिरिक्त जाब्ते ने मौके पर तैनात रहकर कड़ी सुरक्षा के बीच मतगणना प्रक्रिया पूर्ण करवाई।

दोनों बड़े संगठनों को मात देकर सीएसएस ने लहराया जीत का परचम : राजकीय महाविद्यालय में हुए छात्र संघ चुनाव के परिणामों ने सभी को अचंभित कर दिया। कुछ माह पूर्व ही नवगठित छात्र संघर्ष समिति के संयोजक भगवानदास सिंदरू के नेतृत्व में छात्रसंघ चुनाव 2018 में विभिन्न पदों पर अपने प्रत्याशी के नामों की घोषणा कर अपना दावा पेश किया था। सिंदरू के अथक प्रयासों से ही सीएसएस ने एबीवीपी व एनएसयूआई को चुनाव की दौड़ में हरा दिया। चार वर्ष में दो बार एनएसयूआई व 1-1 बार एबीवीपी व सीएसएस विजेता रही सुमेरपुर में राजकीय महाविद्यालय खुलने के बाद चार बार छात्रसंघ चुनाव हुए हैं। जिसमें पहली बार तीसरे मोर्चे छात्र संघर्ष समिति ने अपना विजयी परचम लहराया। इससे पूर्व वर्ष 2017 के छात्रसंघ चुनाव मे एनएसयूआई की जीत हुई थी। जिसमें अध्यक्ष पद पर दीपेंद्रसिंह, उपाध्यक्ष पद पर शिवा कुमार, महासचिव पद पर किशोर कुमार व संयुक्त सचिव पद पर उर्मिला विजयी हुए थे।





वही 2015 छात्रसंघ चुनाव में एनएसयूआई व 2016 के चुनाव में एबीवीपी ने अपना परचम लहराया था। वहीं पीसीसी सदस्य भूराराम सीरवी ने छात्रों की जीत पर खुशी जताई।

लॉ कॉलेज सिरोही में इस वर्ष पहली बार हुए छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी ने दर्ज की जीत, बाकी सभी पदों पर निर्दलीय जीते

राजकीय कॉलेज, शिवगंज

पिछले चुनाव में इस कॉलेज में अध्यक्ष पद पर एबीवीपी के गौतम कुमार जीते थे।

राजकीय कॉलेज शिवगंज

पद नाम संगठन मिले मत अंतर

उपाध्यक्ष रेशमा मीणा एनएसयूआई 810 19

महासचिव रिया कुमारी एबीवीपी 1004 421

संयुक्त सचिव मुकेश कुमार एबीवीपी 816 42

सुमेरपुर में इन पदों पर यह प्रत्याशी रहे विजेता

छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष पद के त्रिकोणीय मुकाबले में सीएसएस के गजेंद्र दहिया ने अपने निकटतम प्रत्याशी एबीवीपी के मोंटू रावल को 140 मतों के अंतर से हराकर अपने पक्ष में 391 मत प्राप्त किए। इस दौड़ में तीसरे स्थान पर एनएसयूआई के दुर्गेशसिंह को मात्र 14 मत ही प्राप्त हुए। इसी क्रम में उपाध्यक्ष पद पर सीएसएस के करण कुमार ने 360 मत प्राप्त कर एबीवीपी की नीतू कंवर को 90 मतों के अंतर से हराया। एनएसयूआई की रेणु कुमारी को मात्र 20 मत ही प्राप्त हुए। महासचिव पद के लिए सीधे मुकाबले में सीएसएस के जगतपाल सिंह ने 424 मत प्राप्त कर एबीवीपी के दिनेश कुमार को सर्वाधिक 190 मतों के अंतर से हराया। एबीवीपी के दिनेश कुमार को 234 मत प्राप्त हुए। वहीं संयुक्त सचिव पद के आमने-सामने के मुकाबले में सीएसएस की सुमित्रा ने एबीवीपी के मनोज कुमार को 94 मतों से पराजित किया। विद्यार्थियों ने सुमित्रा को 376 व मनोज कुमार चौहान के पक्ष में 282 वोट दिए। राजकीय महाविद्यालय में हुए छात्र संघ चुनाव के मतदान 10 सितम्बर को हुए थे। जिसका परिणाम 11 सितम्बर को घोषित किया गया। मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. ओ. पी. शर्मा ने बताया कि सोमवार को छात्रसंघ चुनाव में महाविद्यालय के कुल 840 मतदाताओं में से 683 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। जिसमें कुल मतदान 81.30 प्रतिशत रहा था। निर्वाचन अधिकारी डॉ. शर्मा ने शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव प्रक्रिया सम्पन्न करवाने पर स्थानीय प्रशासन, पुलिस अधिकारी व कार्मिकों सहित कॉलेज प्रोफेसर अनामिका शेखावत, प्रो. जोगेंद्र सिंह, प्रो. पी.आर. चौधरी, प्रो. इंदू सक्सेना, देवेन्द्र आर्य, राजेश राठौड़, सुरेश कुमार पटेल एवं अन्य सहयोगियों का आभार जताया।

परिणाम के बाद बोले छात्र और राजनीतिक दल : भाजपा- युवाओं के साथ से खुश, कांग्रेस- चुनाव में हमारी भूमिका नहीं

परिणाम के बाद बोले छात्र और राजनीतिक दल : भाजपा- युवाओं के साथ से खुश, कांग्रेस- चुनाव में हमारी भूमिका नहीं



राहुल कुमार, अध्यक्ष

मतदान : 71.70 प्रतिशत

संगठन : एबीवीपी

प्राप्त मत : 885

निकटतम प्रतिद्वंदी : गोविंददास

संगठन : एनएसयूआई

प्राप्त मत : 713

राजकीय कॉलेज सुमेरपुर में छात्र संघर्ष समिति ने सभी पदों पर जीत दर्ज की तो शिवगंज में अध्यक्ष एबीवीपी

पिछले चुनाव में इस कॉलेज में अध्यक्ष पद पर एनएसयूआई के दीपेंद्रसिंह जीते थे।

अध्यक्ष

गजेंद्र दहिया

निर्दलीय

निकटतम प्रतिद्वंदी

मोंटू रावल

निर्दलीय

जीत का अंतर 140

सिरोही के सभी पांचों राजकीय कॉलेज में छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष पद पर एबीवीपी

भास्कर न्यूज | शिवगंज

जिले के सभी पांचों राजकीय कॉलेज में छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष पद पर एबीवीपी ने जीत दर्ज की है। सिरोही पीजी कॉलेज में एबीवीपी के अनिल प्रजापत के साथ पूरा पेनल एबीवीपी का बना। आबूरोड पीजी कॉलेज में एबीवीपी के गणपतसिंह के साथ पूरा पेनल एबीवीपी का बना। वहीं लॉ कॉलेज में एबीवीपी की खुशबू कुमारी विजय रही। एबीवीपी भाजपा का छात्र संगठन है और एनएसयूआई कांग्रेस का। इन परिणामों के बाद संभव है कि इसका असर आने वाले विधानसभा चुनाव और उसके बाद लोकसभा चुनावों पर हो, लेकिन इतना तय है कि भाजपा इस जीत को युवाओं का साथ मिलने के तौर पर भुनाएगी।

पूर्व में कई विवादों से घिरी भाजपा के लिए यह परिणाम नई उर्जा का काम करेंगे, लेकिन कांग्रेस में जिलाध्यक्ष जीवाराम आर्य की नियुक्ति के बाद से नाराज चल रहे गुट को मुखर होने का अवसर मिलेगा, क्योंकि उनकी नियुक्ति के बाद पहले पंचायत निकाय के उपचुनाव में और अब छात्रसंघ चुनाव में यह हार कई सवाल खड़े करेगी। पिछले साल की तुलना में देखा जाए तो इस बार एबीवीपी का प्रदर्शन अच्छा रहा है। दरअसल, पिछले चुनाव में एबीवीपी खुद गुटों में बंटी थी और उसे भाजपा नेताओं का भी साथ नहीं मिला था। इस बार इस छात्र संगठन ने उन कमियों को दूर किया। वहीं सामने चुनावों को देखकर भाजपा ने भी अपने छात्र संगठन का साथ दिया। इधर, एनएसयूआई और कांग्रेस के बीच तालमेल की कमी साफ नजर आई। वहीं जानकारों का यह भी कहना है कि चुनाव के दिन ही कांग्रेस की ओर से महंगाई के विरोध में बाजार बंद था। जिसमें व्यस्तता के चलते ऐसे परिणाम आए। बहरहाल, जीत के बाद एबीवीपी ने जश्न मनाया है और भाजपा भी इससे उत्साहित है।



391

251

पिछले चुनाव में इस कॉलेज में उपाध्यक्ष पद पर एनएसयूआई के शिवा कुमार जीते थे।

उपाध्यक्ष

करण कुमार

निर्दलीय

निकटतम प्रतिद्वंदी

नीतू कंवर

निर्दलीय

जीत का अंतर 90

360

270



पिछले चुनाव में इस कॉलेज में महासचिव पद पर एनएसयूआई के किशोर कुमार जीते थे।

महासचिव

जगतपालसिंह

निर्दलीय

निकटतम प्रतिद्वंदी

दिनेश कुमार

निर्दलीय

जीत का अंतर 190

424

234

पिछले चुनाव में इस कॉलेज में संयुक्त सचिव पद पर एनएसयूआई कीउर्मिला जीते थे।



संयुक्त सचिव

सुमित्रा

निर्दलीय

निकटतम प्रतिद्वंदी

मनोज कुमार

निर्दलीय

जीत का अंतर 94

सबसे बड़ी जीत

सिरोही पीजी कॉलेज में एबीवीपी के अनिल प्रजापत ने निकटतम प्रतिद्वंदी एनएसयूआई के प्रकाश मेघवाल को 426 मतों से हराया, जो जिले के पांचों कॉलेजों में सबसे बड़ी जीत है।

सबसे छोटी हार

लॉ कॉलेज में पहली बार चुनाव हुए। अध्यक्ष पद के लिए एबीवीपी की खुशबू ने निर्दलीय खेताराम को 2 मतों से हराया।

परिणाम जिसने चौंकाया

आबूरोड के पीजी कॉलेज में अध्यक्ष पद के लिए 4 प्रत्याशी मैदान में थे। निर्दलीय प्रत्याशी शिवम गिरी को एक भी वोट नहीं मिला। इसको खुद का भी मत नहीं मिला।

376

282