• Home
  • Rajasthan News
  • Sumerpur News
  • निंबाडा में सरकारी उप मुख्य सचेतक ने किया कई विकास कार्यों का लोकार्पण यूआईटी चेयरमैन का नाम शिलालेख पर देखकर ग्रामीणों ने जताया विरोध
--Advertisement--

निंबाडा में सरकारी उप मुख्य सचेतक ने किया कई विकास कार्यों का लोकार्पण यूआईटी चेयरमैन का नाम शिलालेख पर देखकर ग्रामीणों ने जताया विरोध

बूसीपाली | निंबाडा पुरोहितान गांव में उप मुख्य सचेतक व क्षेत्रिय विधायक मदन राठौड़ के विकास कार्यों के शिलान्यास...

Danik Bhaskar | Apr 08, 2018, 08:25 AM IST
बूसीपाली | निंबाडा पुरोहितान गांव में उप मुख्य सचेतक व क्षेत्रिय विधायक मदन राठौड़ के विकास कार्यों के शिलान्यास व लोकार्पण कार्यक्रम में शिलालेख पर यूआईटी चेयरमैन संजय ओझा का नाम होने पर कई ग्रामीणों ने विरोध जताया। ग्रामीणों का तर्क था कि निंबाडा गांव न तो यूआईटी के अधीन आता है न ही शिलान्यास व लोकार्पण कार्यक्रम में यूआईटी चेयरमैन ओझा आए। इसके बाद भी शिलालेख पर उनका नाम अंकित करने को लेकर ग्रामीणों ने विरोध किया। गौरतलब है कि इन दिनों सुमेरपुर विधायक मदन राठौड़ अपने विधानसभा क्षेत्र के दस दिवसीय दौरे पर विभिन्न गांवों में जाकर विकास कार्यों का शिलान्यास व लोकापर्ण कर रहे हैं। इनके साथ अन्य जनप्रतिनिधि भी रहते है। शनिवार को भी निंबाडा गांव में इसी प्रकार का कार्यक्रम था।

इन गांवों में की जनसुनवाई व विकास कार्यों का शिलान्यास : सरकारी उप मुख्य सचेतक एवं सुमेरपुर विधायक मदन राठौड़ ने शनिवार को विधानसभा क्षेत्र के पादरली, बूसी, निंबाडा, प्रतापगढ़, हिरणखुरी, सेदरिया, नादाणा भाटान, चांगवा, खरोकड़ा, चांचोडी, मांडल व कीरवा में विकास कार्यों का लोकार्पण, शिलान्यास एवं जनसुनवाई कर ग्रामीणजनों के अभाव अभियोग भी सुने। इस दौरान रूपेश दाधीच, विजयसिंह चांचोडी, हुकम सिंह खरोकड़ा, कालूदास वैष्णव मांडल मौजूद थे। इधर, रविवार को होने प्रभारी मंत्री की बैठक होने के चलते काणदरा, गुरलाई, मणिहारी, जब्बरगढ़, गोदावास, डरी, भावनगर, साली की ढाणी, साली, गुड़ा प्रतापसिंह, पादरला, कुरणा, डेंडा एवं डेंडा की ढाणी का प्रस्तावित दौरा एवं जनसुनवाई कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है।

निंबाड़ा में उच्च जलाशय निर्माण कार्य का लोकार्पण करते विधायक राठौड़ व प्रधान।

चार शिलालेखों पर यूआईटी चेयरमैन का नाम

गांव के इंद्रसिंह ने बताया कि गांव में उच्च जलाशय , श्मशान भूमि की चार दीवारी, ग्रामीण गौरव पथ व मॉडल तालाब के शिलान्यास व लोकार्पण के शिलालेखों पर मदन राठौड़ के साथ-साथ अन्य जनप्रतिनिधियों के नाम भी लिखे थे। इसमें यूआईटी चेयरमैन संजय ओझा का नाम भी था। इसको लेकर ही कई ग्रामीणों को ऑपत्ति थी।